पुलिस की मौजूदगी में युवक को पीटकर जिंदा जलाने वाले 3 गिरफ्तार, 10 की तलाश

 
पुलिस की मौजूदगी में युवक को पीटकर जिंदा जलाने वाले 3 गिरफ्तार, 10 की तलाश

सिमडेगा (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। झारखंड के सिमडेगा में एक युवक को पीटकर जिंदा जला दिए जाने के मामले में पुलिस ने 13 आरोपियों में से तीन को गिरफ्तार कर लिया है। 10 की तलाश में ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। इस बीच गांव में अभी भी तनाव और दहशत का माहौल है। वहां भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।

सिमेडगा के पुलिस अधीक्षक शम्‍स तबरेज ने कि एफआईआर में नामजद तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। ये तीनों पीड़ित के गांव के ही रहने वाले हैं। अन्‍य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है।

उन्‍होंने कहा कि पुलिस अभी अन्‍य नामजद आरोपियों की पहचान सार्वजनिक नहीं कर रही है क्‍योंकि इससे उनकी गिरफ्तारी की कोशिशों पर असर पड़ सकता है। घटना के किसी भी दोषी को बख्‍शा नहीं जाएगा।

बता दें कि मंगलवार को सिमडेगा के कोलेबिरा थाना क्षेत्र स्थित बेसराजारा गांव में 30 वर्षीय संजु प्रधान को अवैध रूप से लड़की काटने और बेचने के आरोप में कुछ स्‍थानीय लोगों की भीड़ ने पीटकर जिंदा जला दिया था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक गिरफ्तार किए गए तीन आरोपियों में लोरहे प्रधान, त्रिपति प्रधान और महेश्‍वर प्रधान शामिल हैं। ये सभी बामबारकेला गांव के छापरीदीपा टोला के रहने वाले हैं। मॉब लिचिंग का शिकार हुआ संजू प्रधान भी यहीं का रहने वाला था। लोरहे और त्रिपत्रि भाई हैं।  ये तीनों वहां मौजूद थे और इन्‍होंने ही संजू पर अपने पेड़ों को काटने का आरोप लगाया था।

सिमडेगा जिले में संजू प्रधान की मॉब लिंचिंग के एक दिन बाद बुधवार को उसकी पत्‍नी सपना देवी ने आरोप लगाया कि उसके पति को पुलिस की मौजूदगी में बेरहमी से मार डाला गया और पुलिस ने बार-बार गुहार लगाने के बावजूद उसे बचाने के लिए कुछ नहीं किया।

बता दें कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया है। उन्होंने उपायुक्त को मामले की जांच कर कड़ी कार्रवाई करने के साथ ही मामले की रिपोर्ट भी तलब की है।

झारखंड विधानसभा में एक पखवाड़े पहले ही मॉब लिंचिंग के खिलाफ बिल पास किया था। इसका उद्देश्य लोगों के संवैधानिक अधिकारों की प्रभावी सुरक्षा प्रदान करना और राज्य में भीड़ की हिंसा को रोकना है।

बुधवार को डीसी सुशांत गौरव, एसपी, आईटीडीए निदेशक सलन भुईयां, जिला भूअर्जन पदाधिकारी अजय सिंह बड़ाईक आदि बेसराजरा गांव पहुंचे और मृतक संजू प्रधान के परिजनों से मुलकात की।

डीसी ने साथ ही दोषियों पर सख्त कार्रवाई और घटना के मास्टरमाइंड की तलाश करने की बात कही। डीसी ने इस पूरे मामले की जांच के लिए एक कमेटी का ग‍ठन किया है। आरोपियों पर हत्या, घातक हथियारों से दंगा करने और गैरकानूनी तरीके से इकट्ठा होने का मामला दर्ज किया गया है।

कोलेबिरा पुलिस ने मृतक संजू प्रधान की पत्नी सपना देवी के फर्द बयान पर कांड संख्या 3/22 के तहत 13 नामजद एवं 20-25 अज्ञात लोगों पर हत्या, आगजनी और उपद्रव का केस दर्ज किया। आरोपियों पर भादंवि की धारा 147, 148, 149, 364, 302, 201 लगाई गई है।