गुप्तेश्वर पांडेय को 24 घंटे में ही यूं वीआरएस मिलने के मायने ?

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। हाल के वर्षों में बिहार की सत्ता पर काबिज जदयू-भाजपा सरकार ने कई अजीबोगरीब फैसले लिए हैं।

विधानसभा चुनाव होने से ठीक पहले पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय का वीआरएस (स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति) भी उसी अंधकड़ी का एक हिस्सा है।

राज्य के गृह विभाग की अधिसूचना के अनुसार नीतीश सरकार की संस्तुति पर राज्यपाल ने पांडेय की वीआरएस के अनुरोध को स्वीकार कर लिया है।

इस पूरे मामले में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि गुप्तेश्वर पांडेय को वीआरएस के लिए तीन महीने के पूर्व आवेदन देने के नियम से भी छूट मिल गई।

इन अचानक हुई गतिविधियों से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि वे बिहार विधानसभा चुनाव से अपने सियासी सफर की शुरुआत कर सकते हैं।

हालांकि, गुप्तेश्वर पांडेय ने खुद स्पष्ट नहीं किया है कि वे किस दल से और कहां से चुनाव लड़ेंगे। राजनीतिक हल्कों से लेकर मीडिया की सुर्खियों में सिर्फ अटकलबाजी ही चल रही है।

वर्ष 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडेय जनवरी 2019 में डीजीपी बने। बतौर डीजीपी उनका कार्यकाल 28 फरवरी, 2021 तक था। आईपीएस अधिकारी के तौर पर पांडेय ने करीब 33 साल की सेवा पूरी की है। लंबे समय से उनके वीआरएस की अटकलें चल रही थीं।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार वीआरएस का आवेदन मंगलवार को ही केंद्र सरकार को भेजा गया और तत्काल मंजूर हो गया। इसके ठीक पहले उन्होंने अपने गृह जिले बक्सर का दौरा किया था।

यहा नहीं, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में गुप्तेश्वर पांडेय ने महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार के बिहार की नीतीश सरकार पर हमले को लेकर बिहार सरकार का बचाव किया था। वे अपने विवादित-चर्चित बयानों से उन्होंने काफी सुर्खियां बटोरी थी।

हालांकि, यह पहली बार नहीं जब सियासी पारी के लिए पांडेय ने आईपीएस की नौकरी छोड़ी है। इससे पूर्व 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए भी उन्होंने इस्तीफा दिया था। तब वह भाजपा के टिकट पर बिहार की बक्सर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे।

पांडेय को इस बात का पूरा भरोसा था कि बक्सर से भाजपा के तत्कालीन सांसद लालमुनि चौबे को पार्टी दोबारा टिकट नहीं देगी। लेकिन उनकी उम्मीदों पर पानी तब फिर गया जब पार्टी ने दोबारा चौबे को बक्सर से अपना प्रत्याशी बना दिया।

लेकिन तब राजनीतिक आगाज से पहले ही उनके सपनों पर पानी फिर गया। हालांकि टिकट न मिलने पर उन्होंने इस्तीफा वापस लेने की अर्जी दी, जिसे तत्कालीन नीतीश कुमार सरकार ने मंजूर कर लिया।

नौ महीनों के बाद वह फिर से पुलिस सेवा में बहाल हो गए थे। पांडेय ने 2009 में जब वीआरएस लिया था तब वो आईजी थे और 2019 में उन्हें बिहार का डीजीपी बनाया गया।

गुप्तेश्वर पांडेय ने अब जब एक बार फिर वीआरएस के लिए आवेदन किया तो उसे फौरन मंजूरी मिल गई। ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि पांडेय ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर अपनी राजनीतिक पारी शुरू करने के लिए यह कदम उठाया है।

अब वह जल्द ही विधिवत रूप से राजनीतिक पारी शुरू करने का एलान कर सकते हैं। माना जा रहा है कि वह आगामी बिहार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

बताया जा रहा है कि बिहार सरकार ने गुप्तेश्वर पांडेय का वीआरएस का आवेदन केंद्र को मंगलवार की शाम को ही भेजा था। उनके इस्तीफे और वीआरएस की खबर पिछले कई दिनों से चर्चा में थी।

उन्होंने अपने गृह जिले बक्सर का दौरा भी किया था। उन्होंने जिला जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष से भी मुलाकात की थी। हालांकि तब उन्होंने चुनाव लड़ने की खबरों से साफ इन्कार कर दिया था। वहीं पटना लौटकर उन्होंने जदयू के कुछ और नेताओं से भी मुलाकात की थी।

गुप्तेश्वर पांडेय के एनडीए के नेताओं से अच्छे संबंध रहे हैं। 2009 लोकसभा चुनाव से पूर्व भी उन्होंने वीआरएस लिया था, लेकिन टिकट न मिलने पर वे नीतीश कुमार की कृपा से सेवा में वापस आने में कामयाब हुए थे। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Latest News

पार्टी नेत्री को शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोपी कांग्रेस नेता अंततः गिरफ्तार

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला खरसावां जिला के आदित्यपुर थाना पुलिस ने कांग्रेस नेत्री लक्खी कुमारी की शिकायत पर शादी का झांसा देकर यौन...

प्रसिद्ध मां दिउड़ी मंदिर की दान-पेटी पर प्रशासन ने जड़ा अपना ताला !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  भारत प्राचीन सभ्यताओं को सहेजने वाला देश है और उसे समेटे रहने में मंदिरों का विशेष योगदान है। झारखंड की...

यहां पुलिस के अफसर-जवान-चौकीदार करवा रहे थे गौ तस्करी, पांच गए जेल

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)।  सरायकेला-खरसावां जिले के आदित्यपुर थाना अन्तर्गत गम्हरिया प्रखंड कार्यालय के समीप शुक्रवार को गौ रक्षकों द्वारा दबोचे गए मवेशियों से...

बिडवंनाः यहां भर नवरात्र जिस माँ की होती है अराधना, उन्हीं के स्वरुप नारी का प्रवेश वर्जित !

बिहार शरीफ (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। एक ओर हमारा समाज माँ देवी की अराधना करते हैं वहीं, दूसरी ओर इन्हीं महिलाओं को मंदिर में जाने...

यौन शोषण पीड़ित कांग्रेसी नेत्री ने मुख्यमंत्री से लगाई फरियाद, आरोपी कांग्रेसी नेता सपरिवार हुआ भूमिगत, पुलिस ने झाड़ा पल्ला

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला-खरसावां यूथ इंटक की जिला उपाध्यक्ष सह राजीव गांधी ऑल इंडिया कांग्रेस महिला इकाई की प्रदेश अध्यक्ष लखी कुमारी के...

Popular News

…और नालंदा एसपी के जोर से यूं टूट कर जमीं पर गिरा राष्ट्रीय ध्वज !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  बिहार के नालंदा जिला पुलिस मुख्यालय बिहार शरीफ में उस समय अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई, जब एसपी नीलेश कुमार...

सरायकेला डीसी के झूठ की वजह से हुई हेमंत सरकार की किरकिरी

सरायकेला (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। एक तरफ झारखंड के मुख्यमंत्री वैश्विक संकट के इस दौर में झारखंडियों और प्रवासी मजदूरों के मामले में मसीहा...

भ्रष्टाचार का अड्डा है नालंदा थाना, अब दरोगा की रिश्वत मांगते-लेते हुए वीडियो वायरल

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के थानों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। आम तौर पर कहा जाता...

पीत पत्रकारिताः सच देखने के पहले सुनिए News11 की झूठ

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क।  देश की पत्रकारिता को कलंकति करने के मामले में झारखंड से एक और नाम जुड़ गया है। निश्चित तौर पर...

किसान चैनलः बजट 45 करोड़ और ब्रांड एंबेसडर बने अमिताभ को मिले 6.31 करोड़!

किसानों के कल्याण के लिए हाल में शुरू हुए दूरदर्शन के किसान चैनल मामले में हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ है। बताया जा...
Don`t copy text!