यौन शोषण पीड़ित कांग्रेसी नेत्री ने मुख्यमंत्री से लगाई फरियाद, आरोपी कांग्रेसी नेता सपरिवार हुआ भूमिगत, पुलिस ने झाड़ा पल्ला

पीड़िता की शिकायत पर आदित्यपुर थाना पुलिस  ने कोई कार्रवाई नहीं की, न ही शिकायत की कॉपी कांग्रेस नेत्री को दी गई....

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला-खरसावां यूथ इंटक की जिला उपाध्यक्ष सह राजीव गांधी ऑल इंडिया कांग्रेस महिला इकाई की प्रदेश अध्यक्ष लखी कुमारी के साथ शादी का झांसा देकर एक साल तक यौन शोषण करने के आरोपी कंग्रेसी नेता हरिकृष्ण सिंह परिवार सहित भूमिगत हो गए हैं।

बता दें कि पिछले दिनों कांग्रेसी नेत्री ने इंसाफ के लिए जब पूरे मामले की शिकायत आदित्यपुर थाने में लेकर पहुंची थी तो सांसद प्रतिनिधि अनामिका सरकार, प्रकाश राजू, नगर अध्यक्ष संतोष सिंह ने बजावते प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसे कांग्रेस परिवार का अंदरूनी मामला बताते हुए आरोपी कंग्रेसी नेता को शादी के लिए तैयार होने की बात कही थी।

साथ ही ये भी कहा था कि दोनों की ओर से शादी के लिए सरायकेला रजिस्ट्रार के यहां आवेदन दिया जा चुका है जहां 13, 14 और 15 अक्टूबर का तिथि निर्धारित किया गया है।

इधर 13 और 14 अक्टूबर को वर पक्ष (आरोपी कांग्रेसी नेता) रजिस्ट्रार के समक्ष उपस्थित नहीं हुआ और परिवार सहित भूमिगत हो गया है। इधर दो- दो डेट लैप्स होने पर पीड़ित कांग्रेस नेत्री ने सरायकेला एसडीओ से इंसाफ की फरियाद लगाई।

जहां एसडीओ ने पीड़िता को आदित्यपुर थाने में आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कराने का निर्देश दिया, लेकिन थाना पहुंचने पर आदित्यपुर थाना पुलिस ने पीड़ित कांग्रेस नेत्री के खिलाफ आरोपी के परिवार की ओर से शिकायत मिलने की बात कहते हुए पूछताछ के लिए उपस्थित होने की बात कही गयी, जबकि पीड़िता द्वारा दो माह पूर्व यौन शोषण का आरोप संबंधी शिकायत आदित्यपुर थाने में किया जा चुका है।

हैरान करने वाली बात ये है कि पीड़िता की शिकायत पर आदित्यपुर थाना पुलिस  ने कोई कार्रवाई नहीं की, न ही शिकायत की कॉपी कांग्रेस नेत्री को दी गई।

उससे भी हैरान करने वाली बात यह है कि पीड़िता ने 31 अक्तूबर को जिले के एसपी को भी इस पूरे मामले की लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

ऐसे में यौन शोषण जैसे संगीन आरोप लगे होने के बाद भी आरोपी के खिलाफ किसी प्रकार की कोई कार्रवाई सरायकेला पुलिस प्रशासन की ओर से नहीं किया जाना अपने आप में एक बड़ा सवाल है। इसके पीछे कौन है, ये जांच का विषय है, जबकि पीड़िता ने खुद के जान को लेकर भी एसपी से किए शिकायत में चिंता जताई थी।

वैसे हैरान करने वाले इस प्रकरण में महिला सुरक्षा से संबंधित कानून की खुलकर धज्जियां उड़ाई गई है। एक तरफ पूरे देश में महिला सुरक्षा को लेकर बवाल मचा हुआ है।

यूपी का हाथरस हो या झारखंड का साहिबगंज। हर राज्य कहीं ना कहीं महिला सुरक्षा के मामले में कटघरे में खड़ा है। ऊपर से झारखंड में कांग्रेस सरकार में सहयोगी भी है।

ऐसे में महिला सुरक्षा की दुहाई देकर केंद्र और यूपी सरकार को घेरने वाली कांग्रेस अपने घर के ही कुकर्मी नेता के मामले में आखिर चुप क्यों है।

बता दें कि इससे पूर्व पीड़ित कांग्रेस नेत्री ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा और उनकी सांसद पत्नी से लेकर कांग्रेस के लगभग हर बड़े नेताओं से अपनी आपबीती सुनाई लेकिन, हर कांग्रेसी नेताओं ने अपने कांग्रेस परिवार की महिला सदस्य के चरित्र को ही  कटघरे में खड़ा करते हुए पल्ला झाड़ लिया।

हद तो यह है कि मामला मीडिया में आने के बाद सांसद प्रतिनिधि अनामिका सरकार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दोनों की शादी कराए जाने की बात कही थी, लेकिन जब शादी का वक्त आया, तो आरोपी कांग्रेसी नेता के परिवार के साथ सभी कांग्रेसी नेता एक बार फिर से भूमिगत हो गए।

वैसे राज्य की विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी साहिबगंज और गुमला में नाबालिक के साथ हुए दुष्कर्म मामले को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। ऐसे में इस मामले में विपक्ष चाहे तो जोरदार तरीके से सरकार पर हमला कर सकती है।

इस खबर पर अपनी प्रतिक्रिया जरुर दें...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

एक नज़र...

मेवालाल चौधरी का इस्तीफा मंजूर, डॉ. अशोक चौधरी को मिला शिक्षा मंत्री का प्रभार

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में नई सरकार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बन गई है, लेकिन विवादों से दामन अब भी नहीं...

सिर मुड़ाते ओले पड़ेः पदभार ग्रहण के 3 घंटा बाद ही शिक्षा मंत्री मेवालाल को देना पड़ा इस्तीफा

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने आज गुरुवार को ही पद संभाला था। करीब...

सबौर कृषि विश्वविद्यालय का सस्पेंड-भ्रष्टाचारी मेवालाल चौधरी को सीएम नीतीश ने बनाया शिक्षा मंत्री !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार के सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के नेता मेवालाल चौधरी के सबौर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति रहते सहायक...

दरिंदगी की शिकार युवती ने दम तोड़ा, FIR के 18 दिन बाद भी बयान तक न ले सकी नकारा पुलिस

हाजीपुर {राजेन्द्र कुमार}। वैशाली जिले के देसरी थाना के चांदपुरा ओपी अतर्गत रसूलपुर हबीब गांव मे 30 अक्टूबर को एक गरीब युवती के घर...

सातवीं बार सीएम बने नीतीश कुमार, लेकिन भाजपा ने खड़ा किया दो चौकीदार

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार विधानसभा चुनाव में 125 सीटों पर जीत दर्ज करने के बाद आज नीतीश कुमार ने सातवीं बार बिहार में...

नीतीश कुमार के साथ शुशील मोदी ही हाँकेगें बिहार की बैलगाड़ी !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार विधानसभा चुनाव के बाद रविवार का दिन बहुत अहम है। नीतीश कुमार जदयू विधायक दल के साथ ही एनडीए...

बिहार विधानसभा भंग, नीतीश का सीएम पद से इस्तीफा, 15 को होगा एनडीए के नए नेता का चुनाव

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में आम विधानसभा चुनाव सम्पन्न होने के बाद नई सरकार के गठन की कवायद तेज हो गई है। मुख्यमंत्री नीतीश...
loading...

Editor's Picks

सातवीं बार-नीतीशे कुमार? विपक्ष को मछली दिखा, आँख नहीं!

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में वही हुआ, जिसकी प्रबल आशंका थी। ‘मोदी पर घेरा नहीं, नीतीश पर वार’। इस चुनावों में हर पल विपक्ष गलती दर गलती करता रहा। उस आदमी से पूरी तरह विमुख है, जिसने येन केन प्रकारेण इंडिया की आधी और भारत की लगभग पूरी आबादी के दिमागों में अपनी छद्म छवि घुसा दी है। भारत के मतदाता की मजबूरी और लालच का मानचित्र उस व्यक्ति ने भलीभाँति समझा है। ऐसे व्यक्ति को छोड़ आप हमला उस पर कर रहे हैं जो स्वयं ही जा रहा है। इस बेवकूफी का नतीजा जो आया वह सबके सामने है। सबसे बड़ी बात कि सुदूर बैठे बुद्धिजीवियों की बात, क्या उन लोगों तक पहुंचती है, जिनको निर्णय सुनाना है। जिनको सोचना समझना है। देहात के गरीब और देहाती महिलाएं। ये हमारी मृगतृष्णा है और उसमें हमारा हर बुद्धिजीवी संतुष्ट है। एक सवाल और कि मोदी और उनकी सरकार से लड़ने के लिए...

Popular News categories

चुनाव परिणामों-विश्लेषकों की अलटी-कलटी और चिड़ियाँ फुर्र…!

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। ओपिनियन पोल, एग्जिट पोल, काउंटिंग ट्रेंड और एक्जेक्ट रिज़ल्ट। हर चुनाव की वो स्टेप्स हैं, जिनको नापना चुनाव विश्लेषक की ज़िम्मेदारी और शगल होता है। हकीकत में उन्हें उड़ती चिड़िया को देखकर बताना होता है कि वो किस डाल पर बैठेगी। अब चिड़िया है कि कई बार...

Mukesh Bhartiy / मुकेश भारतीय

Ceo_Cheif Editor

Expert Media News Network Pvt. Ltd. E-mail: nidhinews1@gmail.com Contanct: 08987495562 / 07004868273