पूर्व विधायक पर नक्सली हमला, 2 बॉडीगार्ड का गला रेत मार डाला, 3 AK-47 छीना

 
पूर्व विधायक पर नक्सली हमला, 2 बॉडीगार्ड का गला रेत मार डाला, 3 AK-47 छीना

चाईबासा (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। पश्चिमी सिंहभूम के अति नक्सल प्रभावित गांव जिलरूवां में मनोहरपुर के भाजपा के पूर्व विधायक गुरुचरण नायक पर करीब 100 नक्सलियों ने अचानक हमला बोल दिया।

गुरुचरण ने किसी तरह वहां से भाग कर अपनी जान बचाई, लेकिन उनकी सुरक्षा में तैनात दो बॉडीगोर्ड को नक्सलियों ने चाकू से गला रेत कर मार डाला। एक अन्य बॉडीगार्ड भी अपनी जान बचाने में सफल रहा।

नक्सलियों ने तीनों सुरक्षाकर्मियों के हथियार भी लूट लिये। घटना गोईलकेरा थाना क्षेत्र के जिलरुवां गांव में झीलरूंवा प्रोजेक्ट स्कूल के वार्षिकोत्सव सह खेलकूद समारोह के दौरान हुई।

गुरुचरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आए थे। जिस समय यह घटना हुई, उस समय पूर्व विधायक बच्चों के बीच पुरस्कार वितरण कर रहे थे। घटना शाम करीब 6.15 बजे की है। मारे गए जवानों में शंकर नायक और ठाकुर हेम्ब्रम हैं।

100 की संख्या में आए नक्सलियों ने किया हमलाः घायल जवान घाटशिला निवासी रामकुमार टुड्डू को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार दोनों जवानों की हत्या हुई है या उन्हें नक्सली उठा ले गए हैं, इसका पता लगाया जा रहा है। इधर, ग्रामीणों के अनुसार दोनों जवानों की चाकू से गला रेतकर हत्या की गई है। दोनों जवान बचाओ-बचाओ चिल्ला रहे थे।

एक पुलिस अधिकारी ने भी बताया कि हत्या की गई है। नक्सली हमले के दौरान करीब पांच से छह राउंड फायरिंग हुई। पुलिस को पूर्व विधायक के प्रोग्राम की जानकारी नहीं थी।

भगदड़ से बची जान, खेतों से होकर पैदल भागे नायकः हमले में बचे गुरुचरण नायक ने कहा, मैं झीलरूंवा प्रोजेक्ट स्कूल के वार्षिकोत्सव में गया था। पुरस्कार वितरण हो रहा था, तभी देखा कि सादे वर्दी में ही 15 से 20 लोग हथियार लेकर पहुंचे।

तब मंच से निकल कर गाड़ी की ओर गए। तब तक नक्सलियों ने मेरे बॉर्डीगार्ड को घेर कर हमला कर दिया। उसकी एके 47 राइफल छीन ली।

फिर उसी राइफल से फायरिंग करने लगे। इससे भगदड़ मच गई। मैं पैदल भीड़ से छिप कर खेत की ओर भागा। खेतों से होकर अपने घर डेढ़ किमी दूर पहुंच गया। हमलावरों के पास छोटे हथियार भी थे। पूर्व विधायक ने कहा कि मेरी किसी से दुश्मनी नहीं है। फिर भी पता नहीं क्यों मुझे टार्गेट किया जा रहा है।

10 साल पहले भी हुआ था नक्सली हमला: आज से 10 साल पहले गुरुचरण मनोहरपुर के विधायक थे। 10 जनवरी 2012 को उन पर आनंदपुर के हरता गांव में माओवादियों ने हमला किया था।

नक्सलियों से बचने के लिए उन्होंने पगड़ी बांध कर किसी तरह बच निकले थे। अब फिर 10 साल बाद 4 जनवरी 2022 को उन पर हमला हुआ है।