विचारों की कबड्डी खेलने वाले इनकी बात कौन करेगा ?

Share Button

दिल्ली में दो विचार धाराएं एक पत्रकार की हत्या को कोर्ट बनाकर कबड्डी खेल रही है। पटना में सत्ता के दो धड़े टूट की कगार पर पहुंच गए कांग्रेस को अपने-अपने पाले में करने में जुटे हैं।

बाढ़ ग्रस्त कोसी सीमांचल के इलाके के सभी जिलों में गाय के नाम पर कई दिनों से इंटरनेट सेवा बन्द है।

जाहिर है, इतने व्यस्त समय में इन बाढ़ पीड़ितों के बारे में कैसे बात की जा सकती है।

भले ही वे राहत शिविरों से फुसला कर, धमका कर अपने उन घरों में भेज दिए गए हों, जहां उनकी टूटी झोपड़ियां, चारो तरफ सड़ा हुआ पानी है, खाली बरतन हैं, सड़े अनाज हैं, तबाह हो चुकी फसलें हैं, भूख है, बीमारी है, अफवाह है। राहत की चर्चाएं हैं, दलालों के चक्कर हैं।

सर्वे करने वाले कह रहे हैं पानी में खड़े होकर फोटो खिंचवाई। कर्मचारी पूछ रहे हैं आपका आधार कार्ड कहाँ है, एकाउंट नम्बर क्या है।

अधिकारी घोषणा कर रहे हैं, एक आंगन में बसने वाले हर परिवार को एक ही परिवार माना जायेगा। जहां न घर में अनाज बचा है, न खेत में फसल।

जहां अगले नौ महीने तक फांका ही फांका है। जहां लोग सिर्फ राहत और मुआवजा बंटने का इंतजार कर रहे हैं।

बंटते ही गांव छोड़कर चले जायेंगे, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, अहमदाबाद, सूरत, मुंबई, बंगलौर, चेन्नई। उनकी बात कौन करेगा?

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.