पढ़ेगी बेटी-बढ़ेगी बेटीः लेकिन कहते हैं गार्जियन- ‘माहौल खराब है, हम बेटियों को नहीं जाने देंगे स्कूल’

Share Button

“एक ओर जहां झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास पूरे प्रदेश में बालिका शिक्षा पर जोर देते हुए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा दे रहे हैं, वहीं उनके ही प्रदेश में बेटियां आठवीं पास करने के बाद ही पढ़ाई छोड़ रही हैं। जमाने को देख मां-बाप बेटियों को दूसरे गांव स्कूल भेजने को तैयार नहीं…..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (वीरेन्द्र मंडल)। झारखंड प्रांत के सरायकेला-खरसावां जिले के ईचागढ़ प्रखंड का चौड़ा गांव स्कूल विलय का दंश झेल रहा है। आठवी के बाद पढ़ाई छोड़ने को मजबूर हो रहीं बेटियां। बेटियां पढ़ना चाहती हैं, लेकिन पढ़ने-बढ़ने का उनका सपना गांव की गलियों में ही टूट रहा है।

सरायकेला जिला मुख्यालय से 60 किलोमीटर दूर स्थित कुकड़ू प्रखंड का एक मुस्लिम बहुल गांव है चौड़ा। करीब 5000 लोगों की आबादी वाले इस गांव में अधिकांश लोग गरीब तबके के हैं ओर यहां के लोग नाईटी, पेटीकोट वगैरह सिलाई कर अपना घरबार चलाते है।

गांव में मिडिल तक की पढ़ाई का इंतजाम तो है, लेकिन इससे आगे कुछ नहीं। आठवीं पास करके अधिकांश बेटियों और बेटों को पढ़ाई छोड़ घर में बैठना पड़ रहा है। 

वहीं नौवीं और दसवीं की पढ़ाई के लिए 6 किलोमीटर दूर तिरुलडीह हाई स्कूल जाना पड़ता है, लेकिन अधिकांश मां-बाप अपनी बेटियों को गांव से बाहर पढ़ने नहीं भेजते। सबसे अहम कारण बेटियों की सुरक्षा है, जिससे वे समझौता नहीं करना चाहते।

कहते हैं माहौल खराब है, हम बेटियों को नहीं जाने देंगे। अगर गांव में ही आगे की पढ़ाई हो जाए तो बेटियो को पढ़ाने वे तैयार हैं। गांव के लोग और स्कूलों में पढ़ने वाली बेटियां  भी कहती हैं कि पिछले कुछ सालों में गांव की कई बेटियों ने मजबूरी में पढ़ाई छोड़ दी। गांव में ही स्कूल होता तो गांव की बेटियां भी पढ़-लिखकर सपने साकार करतीं।

दरसअल सरायकेला जिले के कुकड़ू प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय चौड़ा को सत्र 2015-16 में हाई स्कूल का दर्जा दिया गया था। और उसके बाद से सत्र 2015-16 ,2016,17 व सत्र 2017-18 को लगातर तीन बार चौड़ा हाई स्कूल से बच्चो ने मैट्रिक की परीक्षा भी दी, साथ ही तीनो बार हाई स्कूल का रिजल्ट भी शत प्रतिशत हुआ।

लेकिन वर्ष 2018 में चौड़ा हाई स्कूल को तिरुलडीह हाई स्कूल से विलय कर दिया गया। जिसका दंश चौड़ा सहित आसपास के एक दर्जन गांव के बच्चे झेल रहे हैं। और आठवीं के बाद स्कूल छोड़ने को मजबूर है।

वही कई संगठनों ने सरकार पर स्कूलों को बंद कर शराब की दुकानें खोलने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने सरकार के सबका साथ, सबका विकास ओर सबका विश्वास के नारे को झूठा बताया है और स्थानीय जनप्रतिनिधियों ओर सरकार पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया है।

आजादी के 70 साल होने के बाद आज भी अनेको ऐसे गांव विकास के लिए दुर्दशा के आंसू बहा रहें है। चुनाव के समय जनप्रतिनिधी अनेकों वायदे और घोषणाएं करते है, लेकिन चुनाव जीतने के बाद विकास करने  पीछे गांवो की ओर मुडकर नहीं देखते।

हमारे देश के प्रधानमंत्री भारत को डिजिटल इंडिया, शाईनिंग इडिया सहित विभिन्न नामो से नवाज रहें है। लेकिन लगता है प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधि गांव की हकीकत जानने का प्रयास नहीं कर रहें है।

क्योंकि देश की 70 प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है और आजदी के 70 साल बीतने के बाद आज भी गांवो में मूल भूत सुविधाए सडक, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ जैसी महत्वपूर्ण सुविधाए तक उपलब्ध नहीं करा पाए तो देश को शाईनिंग डिजिटल, विश्व गुरू बनाने की थोथी कल्पना करना सरासर बेईमानी है।

Share Button

Related News:

सीएम  नीतीश के आरोपों का लालू ने यूं दिया करारा जबाव
हैंडवाश योजना फेल, यूं बढ़ाई चापानल की ऊंचाई, फतांसी की हद
नाबालिग छात्रा की शादी को लेकर महिला आयोग गंभीर, 30 को राजनगर पहुंचेंगे अध्यक्ष, डीसी ने दिए जांच के...
नोट बदली महंगी पड़ी, महिला से 8 दिनों तक गैंगरेप
डीसी ने की समीक्षा बैठक, सभी प्रखंडों में खुले धान क्रय केंद्र
भाजपा ने जिला कार्यालय के लिए खरीदी 1.76 करोड़ की 40 डी. जमीन!
नालंदा में पल्स पोलियो अभियान पर डीम का अगले आदेश तक रोक
हरनौत में दो आंदोलनकारी किसानों की पुलिसिया गिरफ्तारी से आक्रोश का माहौल
हिलसा में महिलाओं के हाथों बिजली विभाग के जेई की यूं हुई जमकर धुनाई!
युवती से छेड़खानी, दो पक्ष भिड़े, पथराव, लाठी चार्ज, पुलिस समेत दर्जनों घायल
मिड डे मिल के चावल की कालाबाजारी करते ट्रैक्टर समेत 3 धराये
मुख्यमंत्री 7 निश्चय योजना की बात करने वाले-ई पानी पी के दिखा
सेवानिवृत्ति से 1 दिन पहले नौकरी ज्वाइन करने पहुंचा 12 साल से लापता सरकारी कर्मी
'लालू पेइंग वार्ड' में 'इलेक्शन सर्च ऑपरेशन', कुछ नहीं मिला, यूं सोए मिले लालू
अंततः सीएम नीतीश ने ली आज जरासंध अखाड़ा की सुध
हिरासत में युवक की मौत के बाद राजमहल में तनाव, थाना प्रभारी और जांच अधिकारी निलंबित
राजगीर एसडीओ ने अपनी चक्षु ज्ञान की कलई यूं खुद खोल ली
राजगीर में देखिए इन दिनों कैसा चल रहा है पानी का खेल
लंदन स्कूल ऑफ इकॉनिमिक्स में व्याख्यान के लिए चुने गए नालंदा डीएम
डिफॉल्टर मिलरों को धान अधिप्राप्ति से दूर रखेंः डीएम
बताइए सुशासन बाबू, नालंदा में  ये अस्पताल है या गौशाला
रिपोर्टर उपेन्द्र मालाकार की मदद को राज अस्पताल पहुंची विधायक निर्मला देवी
नालंदा के गांव में जंगली सियार का हमला, 2 मवेशी समेत 10 लोग घायल
हंगामा, मारपीट, उपद्रव व आगजनी के बीच भारत बंद का बिहार में व्यापक असर
खतरे में राजगीर का सौंदर्य, 100 एकड़ झाड़-जंगल भूमि पर सफेदपोशों-अफसरों का कब्जा
नालंदा के पैमार पुल से बरामद सिरकटी लाश नवादा राजद के महासचिव की निकली
10 अगस्त से इस्लामपुर-फतुहा रेल मार्ग का यूं बदल जाएगा सब कुछ दिखेगा
महिला उत्पीड़न के 1.13 लाख मामले लंबित, हाई कोर्ट गंभीर
कुख्यात अंडरवर्ल्ड डॉन अखिलेश सिंह गुड़गांव से धराया, पुलिस मुठभेड़ में लगी गोली
दारोगा की पिटाई का वीडियो वायरल के बाद पुलिस गिरफ्त में रांची
पुलिस के यूं हत्थे चढ़ा छात्रा वायरल वीडियो कांड का मुख्य आरोपी ‘बिल्ला’
यूं सड़क पर दिखा जमुई डीएम दपंति विवाद, लोग हतप्रद  
‘लूर-लक्षण और बाई, ई तीनो मरले पर जाई !’
हादसा नहीं, भ्रष्टाचार जनित संगठित अपराध है इस छात्र मौत
नालंदाः माधोपुर मुहानी पर बड़ा सड़क हदसा, 3 की मौत, 7 जख्मी, 3 गंभीर, पटना रेफर
इस कुतर्क के साथ लालू के गरीब रथ को बनाया जा रहा महंगा हमसफर
सीएम नीतीश ने गया पितृपक्ष मेला की तैयारी का लिया यूं जायजा
काली कमाई से अलग कार्रवाई पर नालंदा में थाना सीमा विवाद आम बात
RJD का ट्वीट के जरिए मोदी-शाह पर अब तक का सबसे कड़ा हमला
10.77 एकड़ सरकारी जमीन लील गये बालू माफिया,एसडीओ बोले- होगी कड़ी जांच कार्रवाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...