देखिए थाना की वाहन पर थानेदार बन कैसे विचरता है एक विवादित पॉल्टिकल वर्कर

Share Button

हालांकि इस मामले की सूचना मिलते ही नालंदा जिलाधिकारी सह निर्वाची पदाधिकारी योगेन्द्र सिंह ने जल्द कार्रवाई करने की बात कही है…..

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। भारतीय निर्वाचन आयोग और उसके मातहत कार्यकारी पदाधिकारियों आदर्श आदेश की धज्जियां व्यवस्था में पहुंच-पैरवी के बल पदासीन जिम्मेवार लोग अधिक उड़ाते दिखते हैं। वे चुनावी नेताओं और उनके दलालों को ही अपना आका मान लेते हैं।

जरा कल्पना कीजिए कि एक विवादित छवि का राजनीतिक कार्यकर्ता सरकारी चुनावी आयोजनों में सरकारी वाहन से विचरण करे और दूसरी तरफ अपनी उसी धौंस के बल मतदाताओं के बीच किसी उम्मीदवार विशेष के लिए समर्थन मांगे तो आदर्श चुनाव आचार संहिता के क्या मायने रह जाते हैं।

मामला सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा से जुड़ा है। यहां आम धारणा बन गई है कि एक खास ‘सरकारी जाति’ का राज चलता है। थाना, प्रखंड, अंचल, अनुमंडल स्तर के बाबू भी इसी मस्ती में डूबे रहते हैं। उनकी कार्रवाईयों में भी इसकी झलक साफ दिखती है। 

बीते कल राजगीर में प्रशासन की ओर से मतदाता जागरुकता अभियान के तहत एक तांगा रैली का आयोजन किया गया। इस रैली में सबसे गंभीर तत्थ यह उभरकर सामने आए कि राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि का चिन्हित व दोषी एक अतिक्रमणकारी थानाध्यक्ष की वाहन ही नहीं, उसकी सीट पर बैठ कर रैली नियंत्रित कर रहा है।

यह अतिक्रमणकारी राजगीर थाना कांड संख्या- 85/2018 का मुख्य अभियुक्त है। जोकि प्रमंडलीय आयुक्त के निर्देश पर जांचोपरांत दर्ज कराई गई है। मलमास मेला सैरात भूमि पर अपना अवैध होटल बनाने के इस मामले तात्कालीन अंचलाधिकारी, राजस्वकर्मी, एवं भूमि सुधार उप समाहर्त्ता को भी नामजद सह अभियुक्त बनाया गया है। तात्कालीन जांच कमिटि में उक्त चारो अभियुक्त दोषी पाए गए। तत्पश्चात सबों के खिलाफ गैरजमानती प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश दिए गए। यह प्राथमिकी राजगीर भूमि उप समाहर्ता द्वारा दर्ज कराई गई है।

बहरहाल, लागू चुनाव आचार संहिता के बीच थाना की वाहन में पुलिस बल के साथ एक प्रशासनिक कार्यक्रम में उसकी उपस्थिति एक हलचल पैदा कर दी है। साथ ही यह एक बड़ा सबाल खड़ा कर दिया है कि क्या वाकई राजगीर पुलिस-प्रशासन के लोग अपना सब कुछ दांव पर रख ऐसे लोगों के तलवे चाटती है, जिनकी छवि असमाजिक होती है?

आखिर सूचना के बाद भी खुले तौर पर संदिग्ध भूमिका में सामने आए थानाध्यक्ष और इसे नजरंदाज करने वाले इंसपेक्टर, डीएसपी, एसडीओ जैसे सक्षम अफसरों के खिलाफ कोई कार्रवाई न होना भी खुद में एक बड़ा सवाल है। ऐसे में कोई निष्पक्ष चुनाव की कल्पना कैसे कर सकता है, जहां का आलम इस तरह का हो। 

Share Button

Related News:

सीएम ने सीधी बात में इन 19 मामलों पर दिए त्वरित कार्रवाई के आदेश
BOB मिहिजाम शाखा से 69 लाख की लूट बंगाल की तरफ भागे अपराधी
आरती कुजूर से बोली पीड़ित बच्ची की मां- हाथ पैर बांध टीचर पुत्र किया दुष्कर्म
नालंदा में विकास पगलाया, नीतिश चम्हेड़ा में ऐसे दिखायेगें उसका आयना?
राजगीर में 2 गुटों के बीच गोलीबारी, 4 घायल, PMCH रेफर
जिला एवं सत्र न्यायाधीश की उपस्थिति में होगी प्रशासन-अधिवक्ता संघ की वार्ता
दो दिनों तक पुलिस कर सकती है पूना कांड के आरोपी से पूछताछ
पटना चिकित्सक पुत्र अपहरण-हत्या कांड के मामले में रुपसपुर थानेदार सस्पेंड
5 निर्दोष वनकर्मी की निर्मम पिटाई करने वाला राजगीर थानाध्यक्ष सस्पेंड
NH-33 किनारे अवैध कारोबार, SDO का छापा, नीलकमल मोटल सील, शराब समेत 3 धराये
एक्सपर्ट मीडिया न्यूज़ की खबर का असरः यूं हरकत में आये अफसर
बिहार के इन दो माओवादी नेताओं के परिवार के पास करोड़ों की संपत्ति !
15 वर्षों के 'सुशासन' में शिक्षा का बेड़ा गर्क, बाबजूद बड़ा बजट नकारा व्यवस्था
एशिया में बौद्ध धर्म के विकास में नालंदा के पाण्डुलिपियों का अविस्मरणीय योगदान
सांसद ने किया कस्तुरबा गांधी बालिका विद्यालय सह छात्रावास का शिलान्यास
जनता दल के लोमड़ियों की कहानी, एक्सपर्ट मीडिया की जुबानी
पटना जा रही यात्री बस पलटी, 35 घायल, दर्जन भर की हालत गंभीर
अवैध बालू लाद कर भाग रहे ट्रक ने ऑटो को कुचला, 12 की मौत, 4 घायल
पटना में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रोड शो में उमड़ा जनसैलाब
डियावां-बेरथु सड़क की जर्जरता और जल जमाव से लोग हलकान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...