डेटलाइन खत्म- एनडीए छोड़ने को लेकर कुशवाहा ‘कंफ्यूज्ड’

Share Button

केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा का एनडीए प्रेम बरकरार दिख रहा है।इसके पीछे उनकी मजबूरी भी है।फिलहाल वे एनडीए छोड़ने के फैसले को लेकर अपनी ही पार्टी में अलग थलग दिख रहे हैं। सांसद अरूण कुमार, नागमणि तथा भगवान सिंह कुशवाहा जैसे लोग पहले ही एनडीए नहीं छोड़ने की राय दे चुके हैं। यहां तक कि रालोसपा के दोनों विधायक भी एनडीए के साथ रहना चाहते हैं….”

टना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज ब्यूरो)। सीट शेयरिंग को लेकर रालोसपा सुप्रीमों सह केंद्रीय राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने एनडीए छोड़ने को लेकर छह दिसंबर तक की डेटलाइन तय की थी।लेकिन डेटलाइन खत्म होने के बाद भी केंद्रीय मंत्री अभी तक एनडीए छोड़ने को लेकर कंफ्यूज्ड दिख रहे हैं ।

अभी तक उन्होंने एनडीए छोड़ने या रहने को लेकर कोई पते नहीं खोले हैं।लेकिन उन्होंने कहा है कि इस मामले में जल्द ही कोई फैसला लिया जाएगा । मीडिया के हवाले से मिल रही खबर के मुताबिक केंद्रीय मंत्री अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के साथ सोमवार को मुलाकात करेंगे ।

देखा जाए तो अगर केंद्रीय राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा एनडीए छोड़ने का फैसला लेते हैं तो इसका लोकसभा चुनाव पर क्या प्रभाव पड़ेगा।एनडीए को कितना झटका लग सकता है।

आंकड़ों के लिहाज से देखें तो 2014 के लोकसभा चुनाव में आरएलएसपी ने एनडीए  के साथ गठबंधन किया था, लेकिन पार्टी अकेले दम पर महज 3 प्रतिशत वोट ही ला पाई थी। दूसरी ओर, उस समय नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने 2014 के चुनाव में अकेले 15 प्रतिशत वोट शेयर हासिल किया था।

जाहिर है वोट शेयर के मामले में आरएलएसपी से जेडीयू ने पांच गुना ज्यादा वोट प्राप्त किया था । 2015 के विधानसभा चुनाव में आरएलएसपी के साथ आने के बाद भी कुशवाहा वोटर एनडीए के साथ नहीं आए पाए थे।

यही नहीं, कई उपचुनावों में भी कुशवाहा समाज ने एनडीए का साथ नहीं दिया है। देखा जाए तो  उपेन्द्र कुशवाहा फैक्टर का फायदा एनडीए को अधिक नहीं मिला है।

दूसरा यह कि बिहार में अब सियासी समीकरण बदल गए हैं, क्योंकि नीतीश कुमार अब फिर से एनडीए गठबंधन में हैं। जाहिर है गठबंधन का वोट शेयर और बढ़ने की संभावना है।

यह तो साफ है कि नीतीश के आने से एनडीए की स्थिति और मजबूत हो गई है। ऐसी स्थिति में अगर कुशवाहा एनडीए से अलग भी होते हैं तो एनडीए को इसका ज्यादा असर पड़ता नहीं दिख रहा है।

2013 में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के गठन के बाद भी कहा जाता रहा है कि  कुशवाहा मास के नहीं, मीडिया के लीडर रहे हैं। जमीन पर उनका जनाधार नगण्य है।

एक समय  ‘लव-कुश’ के नारे के सहारे नीतीश कुमार को सीएम की कुर्सी नसीब हुई। लेकिन कुशवाहा का कोई सर्वमान्य नेता नहीं उभर सका। जबकि नीतीश कैबिनेट में भी कई कुशवाहा मंत्री और नेता हैं।

चार साल केंद्रीय राज्य मंत्री रहते हुए भी श्री कुशवाहा अपने समाज का वोट बैंक भी नहीं बना सके। कुशवाहा बोट बैंक फिलहाल सीएम नीतीश कुमार के समर्थन में ही दिखता आ रहा है।

अगर केंद्रीय राज्य मंत्री एनडीए छोड़ने का फैसला लेते हैं तो  एनडीए को इसका ज्यादा नुकसान होने की संभावना नहीं दिख रही है। बल्कि खुद कुशवाहा का नुकसान हो सकता है।

Share Button

Related News:

बिहारशरीफ कोर्ट पहुंचे शरद यादव, बोले- बकबास है एग्जिट पोल
परीक्षक नियंत्रक से मिले छात्र जदयू नेता, मिले आश्वासन से खुश
हाथियों से परेशान किसानों का प्रदर्शन, वन प्रमंडल पदाधिकारी को बनाया बंधक
तेजस्वी के काफिला में गूंज उठा 'लालू यादव जिंदावाद'
एसयू कॉलेज में पीजी की पढाई को लेकर छात्र जदयू ने की नारेबाजी
बेटी के तिलक से वापस लौट रहे बाप समेत अन्य दो की मौत, 7 जख़्मी
भारतीय डाक विभाग ने बिहार के दो शिक्षा बोर्ड की डिग्री को अमान्य किया !
सीएम 7 निश्चय योजना की बैठक से बीडीओ गायब, डीएम ने एक दिन का वेतन रोका
हादसा नहीं, भ्रष्टाचार जनित संगठित अपराध है इस छात्र मौत
राजगीर मेला सैरात भूमि पर स्थाई भवन बना फुटपाथी दुकानदारों को बसायेगें नालंदा सांसद!
राजगीर रोपवे का परिचालन 6 दिनों से ठप, सैलानियों में मायूसी
सरयु-रघुवर के बीच आई खटास को दूर करने का हो रहा है प्रयास: गिलुवा
ऐसे मंत्री को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त करें सीएमः तेजस्वी यादव
यूं भ्रष्टाचार की डस्टबीन से सज रहा है राष्ट्रपति आगमन मार्ग, लोग नाको दम
शिव सुसाइड पर DGP को CM का 24 घंटे का अल्टिमेटम, थाना प्रभारी लाइन हाजिर
18.23 लाख नगद,6 एटीएम, 3 मोबाईल समेत 2 साइबर ठग धराए
बीडीओ के मौत पर गुस्से में संघ, मुख्य सचिव को 24 घंटे का अल्टीमेटम, पढ़िए क्या है आरोप-मांग
शांति और सुखदायक है पावापुरी की धरतीः गोविंद
नालंदा पुलिस के लिए सक्सेस डे, हथियार और शराब समेत पांच गिरफ्तार
तेज प्रताप की शादी से लौट रहे किशनगंज के 4 राजद नेताओं की मौत
सरकारी खजाने से ऐसे पौधारोपण को मिले 'बड़ा अवार्ड'
सड़क हादसा में शिक्षक की मौत, शिक्षिका जख्मी, हालत गंभीर
समाजिक कार्यकर्ता की तलवार से काट कर हत्या
रिश्वतखोर सीओ को लेकर लामबंद सरकारी बाबूओं के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई
सरकारी स्कूल परिसर में यूं गिरा बूढ़ा पेड़, अनहोनी टली
राजगीर में पर्यटकों के साथ गुंडागर्दी कर लूटपाट, कई घायल
छुटनी के संघर्षों को भूल गई सरकार!
हजारीबाग और गिरिडीह में बैंक से 51 लाख की लूट
नव नालंदा महाविहार बोर्ड की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय
किसानों ने उचित मूल्य की मांग को लेकर नेशनल हाइवे को किया हाइजैक
पुलिस अत्याचार के खिलाफ निकाली न्याय व्यवस्था परिवर्तन यात्रा
28 हजार की घूस लेते रंगे हाथ धराया परसा कार्यपालक पदाधिकारी
इस पुलिस जमादार की गुंडई से अभी तक अनभिज्ञ हैं हिलसा डीएसपी!
बर्ड फ्लू से 6 मोर की मौत के बाद पटना जू अनिश्चितकालीन बंद
गुरूजी की 'मस्ती की पाठशाला',शिक्षक मोबाइल में मस्त,बच्चे खेल में मस्त
नालंदा से दो भ्रष्ट अफसर पकड़ पटना ले गये निगरानी वाले
फेसबुक पर यूं लाइव हुए बिहार के डीजीपी
संवेदक का दावा-चकाचक बनाई सड़क, विरोधी दूसरी सड़क दिखा कर रहे बदनाम
खुद रोग ग्रस्त है सरमेरा पीएचसी, लोग का ईलाज खाक करेगा
IAS चंद्रशेखर सिंह पर चला चुनाव आयोग का डंडा, दिवेश सेहरा बने डीएम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...