प्रतिबंधित मांगुर मछली से लदी ट्रक पलटी तो लूटने की मची होड़

“मछली लूट का आलम यह था कि जिन्हें बोरा थैला या प्लास्टिक नहीं मिला वे लोग ठंड में अपने शरीर को बचाने के लिए पहने जैकेट को उतार लिया तथा जैकेट में ही मछलियों को भर भर कर ले गए…
 
प्रतिबंधित मांगुर मछली से लदी  ट्रक पलटी तो लूटने की मची होड़

धनबाद (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। निरसा थाना अंतर्गत देवियाना मोड़ के समीप एनएच 2 पर प्रतिबंधित मांगुर मछली लेकर पश्चिम बंगाल से धनबाद की ओर जा रहा ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया। जिसके कारण ट्रक में लोड मांगुर मछली सड़क के किनारे खेत में जा गिरा।

प्रतिबंधित मांगुर मछली को स्थानीय लोगों के अलावा बाहर से आए लोग भी, जिसको जैसे बना उसी बर्तन एवं थैला में मछली लूटकर भागने में सफल रहे। मछली लदे ट्रक का चालक एवं संचालक भागने में सफल रहा। निरसा पुलिस ट्रक को जब्त कर आवश्यक कानूनी कार्रवाई कर रही है।प्रतिबंधित मांगुर मछली से लदी  ट्रक पलटी तो लूटने की मची होड़

खबरों के मुताबिक ट्रक संख्या बीआर 02 डब्लू 5827 प्रतिबंधित मांगुर मछली लेकर पश्चिम बंगाल से धनबाद की ओर जा रहा था। रात्रि लगभग 3:00 बजे अचानक ट्रक अनियंत्रित होकर सड़क के किनारे खाई में जाकर गिरा तथा पलट गया जिसके कारण ट्रक में लोड मांगुर मछली सड़क एवं खेत में जा गिरा।

स्थानीय लोगों की सूचना पर निरसा पुलिस की गश्ती पार्टी पहुंची परंतु तब तक ट्रक चालक एवं खलासी ट्रक छोड़कर भागने में सफल रहे। सुबह होते ही लोगों की भीड़ उमड़ी तथा खेत में एवं सड़क पर गिरे मांगुर मछली की लूट मच गई। लोग थैला, बाल्टी, बोरियों में भर भरकर मछलियां ले गए।

लोगों की भारी भीड़ को देखकर पुलिस मूकदर्शक बनी रही। हालांकि पुलिस इसलिए भी मूकदर्शक बनी रही कि यदि मछलियां मर गई तो सभी मछलियों को उन्हें ही गड्ढा खोदकर दफनाना होगा इस कारण मछली लूट होने पर पुलिस ने ज्यादा इससे ज्यादा तवज्जो नहीं दिया।

मछली लूट का ऐसा आलम रहा कि एनएच 2 से गुजरने वाले ट्रक, हाईवा, पिकअप बैन, ऑटो के अलावे बाइक से जा रहे लोग भी अपने-अपने वाहनों को रोककर जिन्हें जो सामान मिला, उसी में मछली लूट कर ले जाने में लगे रहे। कुछ समय के लिए एनएच 2 पर जाम की स्थिति बन गई। हालांकि बाद में पुलिस ने एनएच पर खड़े वाहनों को वहां से हटवाया।

जिस स्थान पर मछली वाला ट्रक पलटी मारा उस स्थान पर पर खेत में ज्यादातर मछलियां जा गिरी। जिसके कारण लोगों को लग रहा था कि यह सूखा खेत नहीं बल्कि मांगुर मछली का तालाब बना हुआ है। लोग खेत से आसानी से मछलियों को पकड़कर बोरे में बोरे,थैले एवं पार्टियों में भर रहे थे।

गुरुवार होने के कारण आज सब्जी विक्रेता भी उस रास्ते से निरसा हटिया आ रहे थे सब्जी विक्रेताओं ने भी अपने-अपने टोकरियों में मछली भर भर कर ले गए।

सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि सरकार द्वारा मांगुर मछली पर प्रतिबंध लगाया गया है। झारखंड एवं पश्चिम बंगाल के बॉर्डर से आखिरकार प्रतिबंधित मांगूर मछलियों से लदा ट्रक कैसे झारखंड में प्रवेश कर रहा है।

यह पहली घटना नहीं है इससे पूर्व भी मैथन में कई वाहन प्रतिबंधित मांगुर मछली के साथ पकड़े गए थे। इससे स्पष्ट होता है कि यह खेल पुलिस एवं प्रशासन के सहयोग से लगातार चल रहा है।