डीजीपी साहब, देखिए कैसे पगला गई है आपकी राजगीर पुलिस!

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क डेस्क/मुकेश भारतीय।  बचपन में प्रायः चौक-चौराहों पर एक राजनीतिक नुक्कड़ नाटक देखने को मिलता था-क्या जनता पागल हो गई है। वामपंथ द्वारा यह नुक्कड़ नाटक तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के आपातकाल को रेखाकिंत करती थी। लेकिन आज यदि हम बिहार की बात करें, खासकर सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा की बात करें तो महज एक ही थीम उभरती है- क्या पुलिस पागल हो गई है।

जी हां, क्या पुलिस पागल हो गई है। अपनी सात नस्लों के भविष्य सुरक्षित की दिशा में काली कमाई करने में मशगुल पुलिस के अजीबोगरीब कारनामे सामने आ रहे हैं। कई थानेदारों ने तो हद कर रखी है। उन्हें सिर्फ पैसा चाहिए। थानों को दलालों का अड्डा बना कर रख छोड़ा है। पहले स्थितियां इतनी विकट नहीं थी।

ऐसी विकृतियां हाल के कुछेक वर्षों में हद तक बढ़ी है। किसी आम जन से भी बात करो। सीएम की तारीफ होती है, लेकिन तरह-तरह के अपशब्दों के साथ कि इनके राज में पुलिस-प्रशासन में निकम्मे और भ्रष्ट लोग नीचे से उपर तक यहां हावी हैं।  

बीते परसों देर शाम राजगीर थानाध्यक्ष ने एक विक्षिप्त युवक से जबरन एक फर्जी शिकायत लिखवा कर हमारे एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क से जुड़े रिपोर्टर नीरज कुमार को अस्पताल से उठाकर हाजत में बंद कर दिया और अगले दिन गंभीर धाराएं लगा कर जेल भेज दिया। थानाध्यक्ष की इस कारस्तानी में वहां के डीएसपी और सर्किल इंसपेक्टर की भी भूमिका काफी संदिग्ध है।

नीरज को पिछले माह भी एक प्रशासनिक शाजिस के तहत जेल भेज दिया गया था। वह बीते परसों शाम ही उस मामले में रिहा होकर घर लौटा था और उसकी भीषण गर्मी में तबियत खराब होने के कारण उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसकी जानकारी पुलिस को जैसे ही मिली, उसने कुछ युवकों को भेज नीरज से उलझवा दिया और बाद में उसी में एक विक्षिप्त टाइप के युवक से फर्जी शिकायत लिखवा लिया।

धनंजय नामक उस युवक के पिता विनोद प्रसाद गुप्ता साफ कहते हैं कि राजगीर थानाध्यक्ष उनके अर्धविक्षिप्त पुत्र का व्यक्तिगत खुन्नस में इस्तेमाल कर रहा है। किसी तरह की कोई घटना उनके या उनके परिवार के किसी सदस्य के साथ नहीं हुआ है। लूट, रंगदारी, छिनतई, मारपीट की घटना सब कोर कल्पित है।

थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने उनके पुत्र का कुछ थाना के दलालों से प्रभावित होकर यह सब करवाया है। नीरज एक अच्छा युवक है। उसके साथ बहुत गलत हुआ है।

श्री गुप्ता ने कहा कि उन्हें आज ही पता चला है कि राजगीर थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने इसके पूर्व भी उनके पुत्र को बहका कर नीरज के खिलाफ वैसा ही एक मुकदमा पहले भी करवा चुका है।

उधर, बीते परसों देर शाम नीरज की गिरफ्तारी के समय पुलिस ने जिस युवक को गवाह बनाया है, उसका भी साफ कहना है कि वह इस मामले में कुछ नहीं जानता। उसके सामने कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। राजगीर थानाध्यक्ष ने उसका नाम खुद से डाल दिया है। जबकि उसने ऐसा गलत करने से रोका था। फिर थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने यह कहकर उनका नाम डाल दिया कि कुछ नहीं होगा। ऐसे ही लिख रहे हैं।

कल देर शाम नीरज की न्यायिक पेशी के दौरान श्री गुप्ता और जबरन गवाह बनाए गए युवक यानि दोनों ने एक साथ सत्र न्यायाधीश के सामने वही बात दोहराई, जैसा कि दोनों ने मीडिया को बताई।

बहरहाल, राजगीर पुलिस बिल्कुल नकरा और निकम्मा है। अपनी खामियों का आयना देखना उसे पसंद नहीं आता। कुछ सड़क छाप दलालों और नेताओं के ईशारे पर नंगा नाच करता है। अवैध शराब, बालू की आमदनी के साथ फर्जी मुकदमों के चढ़ावे से वह मदमस्त हो गई है। नालंदा पुलिस कप्तान को भी दिखता है, जैसा कि उनके निकम्मे अधिनस्थ लोग दिखाते हैं।

इधर एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क की ओर से सप्रमाण जानकारी बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को दे दी गई है। उन्होंने नालंदा एसपी को सारे मामले की उचित जांच कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। अब देखना है कि इस मामले में कहां तक न्यायोचित जांच-कार्रवाई होती है।   

कहते हैं उस युवक के पिता, जिससे राजगीर थानाध्यक्ष ने नीरज पर फर्जी मुकदमा कराया है…..    

बताता है वह युवक, राजगीर थानाध्यक्ष ने जिसके समक्ष फर्जी गिरफ्तारी दिखाई है……

इस खबर पर अपनी प्रतिक्रिया जरुर दें...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

एक नज़र...

मेवालाल चौधरी का इस्तीफा मंजूर, डॉ. अशोक चौधरी को मिला शिक्षा मंत्री का प्रभार

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में नई सरकार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बन गई है, लेकिन विवादों से दामन अब भी नहीं...

सिर मुड़ाते ओले पड़ेः पदभार ग्रहण के 3 घंटा बाद ही शिक्षा मंत्री मेवालाल को देना पड़ा इस्तीफा

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने आज गुरुवार को ही पद संभाला था। करीब...

सबौर कृषि विश्वविद्यालय का सस्पेंड-भ्रष्टाचारी मेवालाल चौधरी को सीएम नीतीश ने बनाया शिक्षा मंत्री !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार के सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के नेता मेवालाल चौधरी के सबौर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति रहते सहायक...

दरिंदगी की शिकार युवती ने दम तोड़ा, FIR के 18 दिन बाद भी बयान तक न ले सकी नकारा पुलिस

हाजीपुर {राजेन्द्र कुमार}। वैशाली जिले के देसरी थाना के चांदपुरा ओपी अतर्गत रसूलपुर हबीब गांव मे 30 अक्टूबर को एक गरीब युवती के घर...

नीतीश कुमार के साथ शुशील मोदी ही हाँकेगें बिहार की बैलगाड़ी !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार विधानसभा चुनाव के बाद रविवार का दिन बहुत अहम है। नीतीश कुमार जदयू विधायक दल के साथ ही एनडीए...

बिहार विधानसभा भंग, नीतीश का सीएम पद से इस्तीफा, 15 को होगा एनडीए के नए नेता का चुनाव

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में आम विधानसभा चुनाव सम्पन्न होने के बाद नई सरकार के गठन की कवायद तेज हो गई है। मुख्यमंत्री नीतीश...

सातवीं बार-नीतीशे कुमार? विपक्ष को मछली दिखा, आँख नहीं!

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में वही हुआ, जिसकी प्रबल आशंका थी। ‘मोदी पर घेरा नहीं, नीतीश पर वार’। इस चुनावों में हर पल...
loading...

Editor's Picks

सातवीं बार-नीतीशे कुमार? विपक्ष को मछली दिखा, आँख नहीं!

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में वही हुआ, जिसकी प्रबल आशंका थी। ‘मोदी पर घेरा नहीं, नीतीश पर वार’। इस चुनावों में हर पल विपक्ष गलती दर गलती करता रहा। उस आदमी से पूरी तरह विमुख है, जिसने येन केन प्रकारेण इंडिया की आधी और भारत की लगभग पूरी आबादी के दिमागों में अपनी छद्म छवि घुसा दी है। भारत के मतदाता की मजबूरी और लालच का मानचित्र उस व्यक्ति ने भलीभाँति समझा है। ऐसे व्यक्ति को छोड़ आप हमला उस पर कर रहे हैं जो स्वयं ही जा रहा है। इस बेवकूफी का नतीजा जो आया वह सबके सामने है। सबसे बड़ी बात कि सुदूर बैठे बुद्धिजीवियों की बात, क्या उन लोगों तक पहुंचती है, जिनको निर्णय सुनाना है। जिनको सोचना समझना है। देहात के गरीब और देहाती महिलाएं। ये हमारी मृगतृष्णा है और उसमें हमारा हर बुद्धिजीवी संतुष्ट है। एक सवाल और कि मोदी और उनकी सरकार से लड़ने के लिए...

चुनाव परिणामों-विश्लेषकों की अलटी-कलटी और चिड़ियाँ फुर्र…!

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। ओपिनियन पोल, एग्जिट पोल, काउंटिंग ट्रेंड और एक्जेक्ट रिज़ल्ट। हर चुनाव की वो स्टेप्स हैं, जिनको नापना चुनाव विश्लेषक की ज़िम्मेदारी और शगल होता है। हकीकत में उन्हें उड़ती चिड़िया को देखकर बताना होता है कि वो किस डाल पर बैठेगी। अब चिड़िया है कि कई बार...

Mukesh Bhartiy / मुकेश भारतीय

Ceo_Cheif Editor

Expert Media News Network Pvt. Ltd. E-mail: nidhinews1@gmail.com Contanct: 08987495562 / 07004868273