5 साल पूर्व मृत के नाम 85 लाख का बीमा करा किया क्लेम !

पटना गांधी मैदान थाना क्षेत्र के फ्रेजर रोड स्थित आईसीआईसीआई प्रुडेंसियल लाइफ इंश्यारेंश कंपनी एवं दो अन्य बीमा कंपनियों से करीब 85 लाख का बीमा जून एवं जुलाई 2014 में एजेट कृष्णचंद सिंह द्वारा कराया गया। जबकि उसके पांच वर्ष पूर्व ही बीमा धारक की मौत करंट लगने से हो गई थी ……………….”

पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)।  मृतक को कागजात में जिंदा दर्शाकर तीन बीमा कंपनियों से 85 लाख का बीमा कराकर क्लेम की राशि हड़पने की कोशिश का बड़ा मामला प्रकाश में आया है।

इस मामले में दनियावां के एजेंट कृष्ण चंद सिंह तथा वैशाली के भगवानपुर निवासी मृतक के पिता राजेंद्र राय के खिलाफ बीमा कंपनियों की ओर से गांधी मैदान थाने में एफआईआर दर्ज करा दी गई है।

इस मामले में केस दर्ज कर गांधी मैदान पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है। आरोपितों का मकसद बीमा की राशि हड़पने का था, लेकिन क्लेम के लिए दिए गए आवेदन की जांच में इस फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया।

कहा जाता है कि वैशाली के रहने वाले रणधीर कुमार की अब से पांच साल पूर्व ही हो गई थी। उसके नाम से गांधी मैदान थाना क्षेत्र के फ्रेजर रोड स्थित आईसीआईसीआई प्रुडेंसियल लाइफ इंश्यारेंश कंपनी एवं दो अन्य बीमा कंपनियों से करीब 85 लाख का बीमा जून एवं जुलाई 2014 में एजेट कृष्णचंद सिंह द्वारा कराया गया। सभी में मृतक के पिता राजेंद्र राय को नामिनी बना दिया गया। 

आईसीआईसीआई प्रुडेंसियल लाइफ इंश्योरेंश कंपनी के क्षेत्रीय प्रबंधक रंजीत कुमार के मुताबिक उनकी कंपनी से 30 लाख का बीमा 26 जुलाई 2014 को कराया गया था।

वहीं श्री रामलाइफ व एचडीएफसी से कुल 50 लाख का बीमा कराया गया। बीमा होने के बाद मृतक के पिता की ओर से कई किश्त भी जमा की गई।

हाल ही में पालिसी धारक रणधीर को मृतक बताकर क्लेम की राशि हड़पने के लिए आवेदन दिया गया। आवेदन की जांच करते हुए कंपनी की टीम वैशाली तक गई। जांच के दौरान पता चला कि बीमा कराने से पांच वर्ष पूर्व ही रणधीर की मौत करंट लगने से हो गई थी।

अन्य बीमा कंपनियों की जांच में भी यह फर्जीवाड़ा पकड़ा गया। इसके बाद कंपनियों की ओर से गांधी मैदान थाने में आरोपितों के खिलाफ आवेदन दिया गया।

उस आवेदन के आधार पर आरोपितों के खिलाफ गांधी मैदान थाना में केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.