हरनौत में हत्या के बाद बवाल, सड़क जाम, तोड़फोड़, अस्पताल-मीडियाकर्मियों को भी न वख्शा

पूर्व मुखिया प्रत्याशी एवं राजपूत महासभा के प्रखंड अध्यक्ष फंटू सिंह की हत्या

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। नालंदा जिले के हरनौत थाना क्षेत्र के बस्ती गांव में एक युवक की हत्या दिन दहाड़े गोली मारकर कर दी गई। घटना शुक्रवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे हुई।

मृतक की पहचान बस्ती गांव के निवासी महिपाल सिंह के पुत्र गौतम कुमार सिंह उर्फ फंटू सिंह के रूप में की गई है। फंटू सिंह पूर्व में मुखिया प्रत्याशी के अलावे राजपूत महासभा के प्रखंड अध्यक्ष थे।

ग्रामीणों के अनुसार कि फंटूश सिंह गांव में ही अन्य दो लोगों के साथ बैठकर ठंड के वजह से अलाव जलाकर ताप रहे थे कि अचानक अपाची बाइक पर सवार दो बदमाश आए और तड़ तड़ गोली चलाया। गोली सीधे फंटू सिंह को लगा और वह गिर गए।

हालांकि इस दौरान साथ बैठे लोगों के द्वारा उन्हें उठाया गया और बदमाश को पकड़ने का कोशिश किया गया। लेकिन तब तक  बदमाश गोली चला चुका था। इसके बाद बदमाश बाइक लेकर फरार हो गया।

ग्रामीणों ने घायल अवस्था में जख्मी को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। भावुक परिजनों के द्वारा मृत अवस्था में ही उसे लेकर इलाज के लिए पटना ले जाया गया।

जहां मौत की पुष्टि होते ही शव को लेकर परिजन बस्ती गांव आ गए। घटना का कारण का पता नहीं चल पाया है। मौके पर पुलिस पहुंचकर जांच में जुट गए हैं।

घटना के बाद ग्रामीणों में छिपे दर्जनों उपद्रवियों ने अस्पताल में खुलकर घंटो तक उपद्रव मचाया। जिसको जहां चाहा वहां पीटा। हॉस्पिटल में महिला चिकित्सक के साथ बदसलुकी किया एवं कई अन्य कर्मियों के साथ मारपीट किया। जिसके कारण महिला चिकित्सक को कमरे में बंद होना पड़ा। उन्होंने फोन कर वरीय चिकित्सक को बुलाया एवं घटना की जानकारी दी।

बाद में गुस्साए ग्रामीणों ने अस्पताल के सामने राष्ट्रीय उच्च पथ को जाम कर दिया। जिसके आड़ में उपद्रवी राहगीरों के साथ मारपीट किया। इस दौरान कई निजी व सरकारी वाहनों का शीशा तोड़ा गया।

उपद्रवियों के द्वारा किया गया चिकित्सक एवं अस्पताल कर्मियों के साथ की गई। मारपीट के बाद चिकित्सक व अस्पतालकर्मी हड़ताल पर चले गए।

चिकित्सा  प्रभारी डॉ राजीव रंजन ने बताया कि उपद्रवियों के द्वारा चिकित्सकों एवं अन्य कर्मियों के साथ मारपीट की गई है, जिसके विरोध में अस्पताल कमी बाद चिकित्सक अगले आदेश तब क स्वास्थ सेवा बंद रखेंगे। पुलिस ने भी अस्पताल व कर्मियों की सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं की है।

घटना की सूचना पाकर अस्पताल में पहुंचे कई प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कर्मियों के साथ उपद्रवियों ने जमकर मारपीट किया। जिसमें कई पत्रकार को सड़क पर पीटा एवं मोबाइल तोड़ दिया गया।

साथ ही मोबाइल व सीम भी उपद्रवी ले गए। हालांकि इसकी सूचना पत्रकारों ने जिला पुलिस अधीक्षक को भी दिया। बावजूद घंटों तक पुलिस मौके पर नहीं पहुंचे और उपद्रवी राहगीरों के साथ बदसलूकी करता रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.