सियासी दांव-पेंच में फंसी मुख्य पार्षद की कुर्सी, फैसला कल

कुर्सी बचाने में मुख्य पार्षद कामयाब होगी या नहीं। यह फैसला 29 जुलाई को होगा। हालांकि अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले कुछ वार्ड पार्षद नगर से बाहर चले गये है और विरोधी गुट के लोग 7 की जगह 9 वार्ड पार्षद की जुगाड़ में जुटे हैं……..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। नालंदा जिले के इस्लामपुर नगर पंचायत के मुख्य पार्षद संगीता साहु की कुर्सी राजनितिक दांव-पेंच मे फंस गई है। जिसका फैसला 29 जुलाई को होगा।

बताया जाता है कि इस नगर पंचायत में 19 वार्ड है। जिसमें वार्ड संख्या 8 एंव 14 का पद रिक्त पडा है। शेष 17 वार्ड पार्षदो में सात वार्ड पार्षदों के द्वारा मुख्य पार्षद पर अविश्वास प्रस्ताव लाया गया है।

जब से यह अविश्वास प्रस्ताव लाया गया है। तब से राजनितिक सरगर्मी तेज हो गया है और कुछ वार्ड पार्षद दांव- पेंच लगाकर कुर्सी हिलाने के प्रयास में लगे हैं।

सूत्रों का कहना है कि राजनितिक खिलाड़ी इस कुर्सी पर से मुख्य पार्षद को बेदखल करने के लिए एक से एक हथकंडे अपना कर दो और विरोधी वार्ड पार्षद को साथ करने में लगे है। ताकि उनकी राजनितिक सियासत जिंदा रह सके।

अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले वार्ड संख्या 5 के वार्ड पार्षद कंचन कुमारी, वार्ड संख्या 6 के वार्ड पार्षद नमीता कुमारी, वार्ड संख्या 7 के प्रतीमा सिंहा, वार्ड संख्या 11 के वार्ड पार्षद गुलेश देवी, वार्ड संख्या 15 के वार्ड पार्षद नाजिया खातुन, वार्ड संख्या 16 के वार्ड पार्षद सरफरा खातुन, वार्ड संख्या 19 के वार्ड पार्षद मैमुन निशा शामिल है।

इन वार्ड पार्षदों का आरोप है कि मुख्य पार्षद के कार्यकाल में नगर पंचायत क्षेत्र का समुचित विकास कार्य नहीं हो पा रहा है और वार्ड पार्षदों के प्रति इनका रवैया मनमानापूर्ण रहता है। वे वार्ड पार्षदों की बात नहीं सुनते हैं।

कुर्सी बचाने में मुख्य पार्षद कामयाव होगी या नहीं। यह फैसला 29 जुलाई को होगा। हालांकि अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले कुछ वार्ड पार्षद नगर से बाहर चले गये है और विरोधी गुट के लोग सात की जगह नौ वार्ड पार्षद को जुगाड़ करने में जुटे हैं। ताकि मुख्य पार्षद को कुर्सी से बेदखल किया जा सके।

इधर तोड़-जोड़ की चल रही राजनितिक से उप मुख्य पार्षद एजाज अहमद भी सकते में पडे हैं। उप मुख्य पार्षद का कहना है कि अविश्वास प्रस्ताव आते ही राजनितिक सरगर्मी तेज हो गई है। जिसके कारण सभी वार्ड पार्षदों के बीच असंमजस की स्थिति बना है।

ऐसे में कहना मुश्किल होगा कि ऊंट किस करवट लेगी। फिलहाल यह मामला नगर में चर्चा का विषय वना है। इधर मुख्य पार्षद का कहना है कि न्याय के साथ विकास का जीत होगा।

Related News:

सोशल मीडिया की ‘भारत बंद’ को नहीं भांप सका बिहार, कई जगहों पर आगजनी-हंगामा
SP की छापामारी, थाना में बिक रही थी शराब, 5 पुलिसकर्मी धराए  
स्कूल संचालक-प्रिसिंपल की अय्यासी के गवाह छात्र की हॉस्टल में हत्या
डुमरिया चुंबन प्रतियोगिता को लेकर झारखंड में हंगामा
नालंदा एसपी ने जरुरतमंद गरीबों के बीच यूं बांटे गर्म कपड़े
राजनीति पेशा नहीं व्रत है: डा. अरूण
बिहारशरीफ बड़ी दरगाह मेला में DM के आदेश से SDO ने बंद कराया मौत का कुंआ
प्राचीन तिलाधक विश्वविद्यालय के पास बनेगा म्यूजियम
फिलहाल राम भरोसे चल रहा है चंडी प्रखंड कार्यालय !
नीरज सिंह हत्या के मुख्य आरोपी BJP MLA का सरेंडर
केन्द्रीय मंत्री के बेटे ने बाबजूद वारंट BJP MLA संग सड़क पर भांजी तलवारें
विकास की बाट जोहता सुसाशन बाबू के जिले का रामचक गांव
अमेरिका के अश्वेत नागरिकों के बीच लोकप्रिय है बौद्ध धर्म :चार्ल्स रिचर्ड जान्सन
राजगीर अग्निकांड में दलाल-प्रशासन की गठजोड़ हुए यूं बेनकाब
डीएम की छापेमारी के 10 वें दिन बिहारशरीफ पर्यवेक्षण गृह से भागे 4 किशोर
नीतीश सरकार के गले की हड्डी बनी मांझी को मिला 'फार्यचूनर'
हमारी समुदाय की पारंपरिक व्यवस्था व सांस्कृतिक रक्षक है हड़ियाः मधु कोड़ा
राजगीर नगर कार्यालय के बर्खास्त बाबू की फर्जी केस से यूं जेल पहुंचा सफाईकर्मी
चंडी हाई स्कूल की हेड मैडम  का कारनामाः मैट्रिक पास दो छात्रों का भविष्य यूं अधर में लटकाया
हिलसा चावल घोटाला में नया मोड़, सभी गोदामें सील, FIR होते ही BAO गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...