सांप्रदायिक दंगा रोकने जब नेहरु जी पहुंचे नगरनौसा, बिनोबा जी ने कहा- ‘लोकदेव’

देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित  जवाहरलाल नेहरू के बारे में कहा जाता है कि जब वे दौरे पर निकलते थे, उनके साथ जिंदगी की एक लहर दौड़ पड़ती थी। उनके आते ही सभाएं तरंगित हो उठती। जनता के बीच जय-जयकार की घोष गूंज उठती। चिंतक ओंठ पर अंगुली रखकर यह सोचने लगते कि ऐसा लोकप्रिय पुरूष भारत में पहले कभी जन्मा था या नहीं…..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। किसने सोचा था कि सैकड़ों साल की गुलामी के बाद जब आजादी की नसीब दहलीज पर  होगी तो उसकी कीमत अपनों के ही खून से अदा की जाएंगी। आजादी के पूर्व और बाद मिले दंगों का दर्द और हिंदू-मुस्लिम के नाम पर बहे खून की दास्तां है देश की आजादी।

यह एक ऐसा जख्म है, जिससे 72 साल बाद भी खून रिसता है। हर बार स्वतंत्रता दिवस की खुशी आते ही बंटवारे का दर्द भी उभर आता है। यह दर्द है विभाजन का। अपना सब कुछ छूट जाने का और सारी खुशियां लुट जाने का।

15 अगस्त 1947 को आजादी का तराना पूरे देश में गूंजा। वंदे मातरम व भारत माता की जय का उद्घघोष जन-जन को पुलकित कर रहा था, लेकिन इस खुशनुमा घड़ी में देश दो टुकड़ों में बंट गया गया था।

इस बंटबारे की खबर से देश आजाद होता इससे पहले ही देश में सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे।  इसके बाद  मचे खून खराबे  में सैकड़ों  लोगों का घर बार सब छूट चुका था।

देश के बंटबारे की खबर के बीच 1946 में  बिहार के कई हिस्सों में भी दंगे भड़क उठे थे। तब पटना का हिस्सा रहा नगरनौसा और तेल्हाडा में भी दंगे की आग फैल चुकी थी।

नगरनौसा तब पटना जिला का हिस्सा था और मुस्लिमों की अच्छी खासी जमींदारी थी। आजादी के पूर्व यहां हिन्दू -मुस्लिम भाईचारे के साथ रहते आ रहे थे। लेकिन देश की बंटबारे की आग यहां भी पहुँच गई।

नगरनौसा में  भारी संख्या में मुस्लिम लोगों की हत्या कर दी गईं। बदले में कार्रवाई करते हुए फौजियों ने भी कई हिन्दू लोगों पर कार्रवाई की। इस घटना को लेकर दंगे की आग दोनों समुदाय के बीच बढ़ती चली गई। इस घटना को लेकर पटना में भी तनाव बढ़ गया। हिन्दू-मुस्लिम मुहल्लों में तनाव बढ़ गया था। मारकाट मच गया था।

जब इस दंगे की जानकारी पंडित जवाहरलाल नेहरू को हुई तो वह पटना पहुँचे। पटना के सीनेट हाल में नेहरूजी को लोगों को संबोधित करना था।

जब नेहरू सीनेट हाल में भाषण देना शुरू किया, तब कुछ युवकों ने उन पर हमला कर दिया। उनका कुर्ता फाड़ दिया गया। यहां तक कि भीड़ में किसी ने उनकी टोपी उड़ा दी।

तब सीनेट हाल में उपस्थित जयप्रकाश नारायण ने नेहरू को भीड़ से बचाया था। जेपी ने आक्रोशित लोगों को शांत कराते हुए कहा कि- ‘आपने पंडित जी का अपमान करके अपने आपको अपमानित किया है’।

तभी पंडित जवाहरलाल नेहरू ने पीछे से जेपी को खींचकर आगे आकर लोगों से बोले- “ नहीं साहब! मैं बड़ा ही बेहया आदमी हूँ। मेरी हतक-इज्जती जरा भी नहीं हुई है। उल्टे मुझे खुशी हुई कि आपने बड़े ही जोश के साथ मेरा स्वागत किया है”। इस बात का प्रभाव लोगों पर पड़ा और वे शांत होकर नेहरू जी की पूरा भाषण सुना।

पटना से अगले दिन पंडित जवाहरलाल नेहरू नगरनौसा की ओर निकल पड़े। जब लोगों को जानकारी मिली कि पंडित नेहरू दंगे की आग बुझाने  नगरनौसा आ रहे हैं तो बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता और जनता नगरनौसा पहुँचने लगी।

उधर हिंदू महासभा-आरएसएस ने  उनके विरोध की रणनीति बनायी थी। इस बात को लेकर पंडित नेहरू की सुरक्षा को लेकर युवाओं की एक टीम उनकी सुरक्षा में लग गई। पंडित नेहरू नगरनौसा पहुँचते ही सीधे दंगाईयों के पास पहुँच गए। वो भी बिना किसी सुरक्षा के।

उन्होंने दंगाईयों को धमकी देते हुए कहा  कि यदि एक भी मुस्लिम की हत्या हुई तो मैं यहां के सभी हिंदुओं पर मिलिट्री को कड़ी कार्रवाई का आदेश दे दूंगा। गोरे मिलिट्री किसी को नहीं छोड़ेंगे। इस बात का असर दंगाईयों पर हुआ और उन सब ने हिंसा त्याग दी।

पंडित नेहरू ने तब के अंतरिम मुख्यमंत्री कृष्ण सिंह को नगरनौसा में राहत शिविर चलाने का आदेश दिया। उन्होंने दंगा पीड़ित मुस्लिम तथा हिन्दू दोनों को समुचित इलाज,भोजन और आवास उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया।

नगरनौसा में दंगे की भयावह आग के 72 साल बाद अब कोई ऐसा शख्स भले ही न बचा हो, जो इस घटना का चश्मदीद रहा हो। कुछ ऐसे शख्स हैं, जब इस दंगे के दौरान उनकी उम्र 10-12 साल रही थी। लेकिन उन्हें उस भयावहता की अधिक जानकारी नहीं है।

पंडित नेहरू का यह करिश्माई व्यक्तित्व ही था, जो सांप्रदायिक दंगे की आग बुझाने में  सफल रहे। उनके इसी व्यक्तित्व से प्रभावित होकर आचार्य बिनोबा भावे ने उन्हें ‘लोकदूत’ की उपाधि दी थी।

Related News:

बिहारः जहां MLA को CM तक बात पहुंचाने के लिए मीडिया के सामने इस्तीफा देते हुए यूं रोना पड़ता है!
छठ पूजा के दौरान मंदिर की दीवार गिरने से दो की मौत, दर्जनों घायल, बचाव जारी
...यूं अचानक दीपनगर थाना पहुंच गये डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय!
मुजफ्फरपुरः 15 हजार घूस लेते निगरानी के हत्थे चढ़ा सिकंदरपुर पुलिस ओपी इंचार्ज
हिलसा-फतुहा मार्ग पर 6 घंटे से जाम-आगजनी जारी, पुलिस-प्रशासन मूकदर्शक
राजगीर में अपराधी बेलगाम, पार्श्व नाथ की मूर्ति किया खंडित
......और हत्या के बाद शव को लेकर पुलिस-प्रशासन के पसीने छूट गए
शराब के नशे में धौंस जमाने वाला सत्ताधारी दल का खासमखास कारोबारी युवक गया जेल, थानाध्यक्ष का ऐसे माम...
डीजीपी ने आधी रात को किया औचक निरीक्षण, दो थानेदार समेत 4 सस्पेंड
अज्ञात महिला का शव मिला, हत्या से पहले दुष्कर्म की आशंका, जांच में जुटी पुलिस
नीतीश जी,  कब तक यूं ही बीमार रहेगी आपकी स्वास्थ्य व्यवस्था ?
बाल सरंक्षण आयोग अध्यक्ष आरती कुजूर की इस जांच से सब कुछ साफ हो गया
चिरुडीह गोलीकांड: हत्या की FIR के एक साल बाद भी नही हुई कार्रवाई
श्री लक्ष्मी नारायण महायज्ञ मंडप की परिक्रमा को जुटे श्रद्धालु
नालंदा के थरथरी में निजी बीएड कॉलेज निर्माण के ठेकेदार से मांगी रंगदारी
जेल में दो कुख्यात गिरोह के बीच खूनी भिड़ंत, 1 कैदी की मौत, 5 जख्मी, जेल प्रशासन पर हत्या का आरोप
राजनीतिक प्रतिद्वंदिता के साथ भू-माफियाओं के टारगेट पर थे पूर्व मेयर समीर
हाई स्कूल के बगल में सरकार चला रही शराब दुकान
पटना जोनल आईजी ने हाई लेवल मीटिंग के बाद मजार पर मत्था टेका
सेल्फी-फोटो के चक्कर में जुगाड़ु नाव से उफनती धरधा नदी में गिरे सासंद, हुए बेहोश
नीतीश सरकार को बड़ा झटका, नई जमीन रजिस्ट्री नीति पर रोक, मांगा जवाब
प्रशांत किशोर पहुंचे नगरनौसा, संगठन को मजबूत बनाने की अपील
पर्यावरण और हरियाली बचाने की अनोखी पहल
रांची में सेक्स रैकेट का खुलासाः मजबूरी में नहीं, शौक से करती है जिस्मफरोशी
नाबालिग छात्रा की शादी मामले को लेकर गंभीर नहीं है राज्य बाल संरक्षण आयोग
पुलिस पर हमला कर आरोपी को छुड़ाया, गोली चलाते भागे जख्मी दारोगा
पर्यटक नगरी राजगीर में बंद रही दुकानें, पुलिस पर लगे गंभीर आरोप
सिलाव बाजार की सड़कों पर अतिक्रमण से राहगीरों चलना मुश्किल
4 IPS का तबादला, 4 IPS को अतिरिक्त प्रभार, नीरज सिन्हा बने जैप DG
बिजली विभाग की लापरवाही, करंट लगने से 2 किसानों की दर्दनाक मौत
विधानसभा चुनाव के पहले कुर्मी जाति को मिलेगा एसटी का दर्जा, अन्यथा नहीं मांगेंगे वोट :अर्जुन मुंडा
राजगीर में डीग्री क़ॉलेज नहीं, फिर क्या है 'विकास पुरुष' के इस जुमले के मायने?
चयनित कार्यपालक सहायकों में 193 का हुआ पदास्थापन, देखिए पूर्ण सूची
मनमानी और लूट का अड्डा बने प्रज्ञा केन्द्र और बरगलाते अफसर
लाइसेंसी पिस्टल लेकर चल रहे विधायक अनंत सिंह के 8 समर्थक अरेस्ट
प्रदेश जदयू छात्र नेता की आत्मा तलाश रही सीएम के घर में सुशासन
चौकीदार पुत्र की हत्या से भड़के ग्रामीणों ने थानेदार को गोली मारी
गृद्धकुट पर्वत पर 40 वर्षों से चल रहा था धार्मिक ठगी-वसूली का धंधा!
बिहारशरीफ के 46 में 25 वार्डों से एक भी नहीं हैं अपराधिक छवि के प्रत्याशी
मुजफ्फरपुर के ‘महापाप’ पर सीएम का घेराव करने निकले NSUI पर लाठीचार्ज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...