श्रावणी मेला: पुलिस की निष्क्रियता से कांवरिया पथ पर चोर उचक्के की चांदी

“कई कांवरियों ने ऐसी घटनाओं के साथ पुलिस के रवैये की भी शिकायत की। ऐसी घटनाओं के बाद कांवरियों के असंतोष की अप्रिय स्थिति की खबरें भी सामने आयीं है…”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (बांका लाइव ब्यूरो)।  सावन शुरू होते ही यहां श्रावणी मेला परवान चढ़ने लगा है। कांवरिया पथ पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने लगी है। पूरा इलाका बोल बम के जयकारे से गुंजायमान है।

लेकिन इन सबके बीच श्रावणी मेले की तैयारियों के पुलिस प्रशासन के दावे हवा-हवाई साबित होने लगे हैं। एक तरफ जहां आधे अधूरे इंतजामों के बीच शुरू हुए श्रावणी मेले में श्रद्धालुओं को सुविधाओं के अभाव का सामना करना पड़ रहा है, वहीं दूसरी ओर पुलिस प्रशासन के दावों के विपरीत कांवरिया पथ पर चोर उचक्के बेहद सक्रिय हो गए हैं।

श्रावणी मेले के पहले ही दिन कांवरिया पथ पर कई स्थानों पर चोरों और बटमारों ने कई कांवरियों के बटुए साफ कर दिए। कुछ के मोबाइल, घड़ी और पर्स गायब हुए, तो कुछ ने रुपये और कपड़े आदि गायब होने की शिकायतें की।

जानकारी के अनुसार बीती रात करीब 2:00 बजे के आसपास बांका जिला अंतर्गत बेलहर थाना क्षेत्र में पड़ने वाले कांवरिया पथ के चंदन नगर पड़ाव से कुछ कांवरियों ने रिपोर्ट दी कि उनके रुपए गायब हो गए।

नालंदा जिले के एक कांवरिया श्रद्धालु अजय कुमार ने फोन पर जानकारी दी कि वे अपने 6 सदस्यीय दल के साथ कांवरिया पथ पर जिलेबिया मोड़ से कुछ दूर पहले चंदन नगर में ठहरे हुए थे। रात में चोरों ने उनमें से एक का बटुआ साफ कर दिया, जिसमें ₹6000 थे। पुलिस को शिकायत करने पर उनका भी रवैया ठीक नहीं रहा।

इससे पहले कल शाम सुल्तानगंज स्थित गंगा घाट पर स्नान कर जल उठाने की तैयारी कर रहे दिल्ली के एक श्रद्धालु के घाट पर से ही कपड़े, मोबाइल, पर्स एवं नकदी आदि चोरों ने उड़ा लिए।

इस तरह के कई अन्य वारदात पूरे कांवरिया पथ पर कल दिनभर चर्चा में रहे। रात में भी ऐसी चोरी- बटमारी की कई घटनाएं होने की खबर है।

सबसे बड़ी बात है कि जब पुलिस प्रशासन पूरे कांवरिया पथ पर पूरी सुरक्षा की गारंटी का दावा कर रहा है, ऐसे में इस तरह की घटनाएं स्वयं पुलिस को ही मुंह चिढ़ा रही हैं। कांवरियों को परेशानी और जिल्लत हो रही है, सो अलग।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.