बांका के लाइफ लाइन का यूं भरभराया पाया, वाहनों का परिचालन ठप

हाल के दिनों में बांका जिले में बड़े पैमाने पर हो रहे बालू उत्खनन से इस पुल पर बालू ढोने वाले ओवरलोड वाहनों का दबाव बढ़ा है। इसी दबाव की वजह से आखिरकार आज इस पुल के एक हिस्से की बलि चढ़ गई…..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज/ बांका लाइव। बिहार के बांका का लाइफ़ लाइन कहे जाने वाले चांदन पुल का एक पाया आज बुरी तरह धंस गया। यह हादसा आज सुबह करीब 5:30 बजे हुआ, जब इस पुल पर से होकर ओवरलोड बालू लदे वाहन पार कर रहे थे।

हादसे के बाद चांदन पुल से होकर बड़े वाहनों के परिचालन पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है। छोटे किंतु भारी वाहनों के परिचालन पर भी नजर रखी जा रही है। मौके पर सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं।

जानकारी के अनुसार आज सुबह करीब 5:30 बजे इस पुल से होकर जब एक विशालकाय ओवरलोड बालू लदा वाहन पार कर रहा था, तभी गड़गड़ाहट की आवाज के साथ चांदन पुल का पाया संख्या 26 भरभरा कर टूट गया।

इस पुल का बेसमेंट एक ओर झुक गया है। पुल भी टेढ़ी हो गई है, जिससे कभी भी किसी भी वक्त किसी मामूली दबाव में भी पुल के गिर जाने का खतरा बना हुआ है।

चांदन पुल को बांका जिले का लाइफ लाइन कहा जाता है। बांका जिला मुख्यालय तथा इस जिले के एक बड़े हिस्से को प्रमंडलीय मुख्यालय भागलपुर, मुंगेर एवं राजधानी सहित उत्तर बिहार एवं झारखंड से जोड़ने वाले इस एकमात्र पुल से होकर रोजाना छोटे-बड़े वाहनों की कतार चलती रहती है।

झारखंड के रांची व जमशेदपुर जैसे शहरों के अलावा पश्चिम बंगाल के कोलकाता, सिलीगुड़ी एवं रामपुरहाट आदि के लिए भी यहां से चलने वाली बस एवं अन्य वाहन इसी पुल से होकर गुजरते हैं।

आज सुबह इस पुल के क्षतिग्रस्त होने की खबर जिले भर में जंगल के आग की तरह फैली। फलस्वरूप, बड़ी संख्या में लोग स्थिति को देखने- समझने पुल पर एकत्रित हो गए।

सूचना पाकर प्रशासनिक एवं तकनीकी पदाधिकारी भी सुरक्षा बल के साथ मौके पर पहुंच गए। एहतियात के तौर पर उन्होंने अविलंब पुल पर से होकर वाहनों की आवाजाही पर रोक लगाई।

अधिकारियों ने अपने उच्चाधिकारियों से भी इस संबंध में बात की है। सुरक्षाबलों ने पुल पर बड़ी संख्या में जुटे लोगों को भी किसी भी खतरे के प्रति आगाह करते हुए वहां से हटाने की कोशिश की।

बांका जिले की सबसे बड़ी चांदन नदी पर यह पुल बांका शहर की पूर्वी सीमा पर अवस्थित है। चांदन नदी पर यहां पुल का निर्माण अंग्रेजों के जमाने में हुआ था, जो लोहे का पुल था।

वर्ष 1995 की विनाशकारी बाढ़ के दौरान तत्कालीन ऐतिहासिक पुल बह गया था। जिसके बाद वर्ष 1996- 97 में उसी जगह नए पुल का निर्माण पुल निर्माण निगम के द्वारा किया गया था।

पुल की गुणवत्ता और मजबूती इसके निर्माण के बाद से ही विवादों में रही है। समय-समय पर पुल के कुछ हिस्से क्षतिग्रस्त भी होते रहे हैं, जिनकी मरम्मत भी समय-समय पर होती रही है।

हाल के दिनों में बांका जिले में बड़े पैमाने पर हो रहे बालू उत्खनन से इस पुल पर बालू ढोने वाले ओवरलोड वाहनों का दबाव बढ़ा है। इसी दबाव की वजह से आखिरकार आज इस पुल के एक हिस्से की बलि चढ़ गई।

बालू लदे ओवरलोड वाहन तो फिर भी अपनी राह तलाश लेंगे, लेकिन आम नागरिकों के लिए इस पुल की यह बड़ी क्षति बड़ा अभिशाप बनकर सामने आयी है।

Related News:

मनरेगा के तहत खेती कराने से होगा किसानों को लाभ
भाजपा नेताओं की मौजूदगी में टुसू मेले में जमकर परोसी गई यूं अश्लीलता
गजब! बैठक में एक भी सदस्य नहीं पहुंचा और बीडीओ ने कर दिया अविश्वास प्रस्ताव खारिज
रांची में राहुल, बोले- 'मैं प्‍यार बांटता हूं और नरेंद्र मोदी नफरत'
ग्राम विकास शिविर लगाकर आम जनों की समस्याओं का निपटारा
भू-माफियाओं ने झाड़-जंगल की यूं कराई रजिस्ट्री, राजगीर DCLR की शिकायत पर नहीं हुई FIR
सीएम के दावों की पोल नालंदा में ही यूं खोल रही है लोक शिकायत निवारण कार्यालयें
दिनेश मुनि गैंग से मुठभेढ़ में पसराहा थानाध्यक्ष शहीद, सिपाही घायल
चौपारण बस हादसे के 11 मृतकों में 10 की हुई पहचान, 28 जख्मी ईलाजरत
बिहार के 225 डिग्री कॉलेजों को 5 साल से नही मिला अनुदान
कतरीसराय है साइबर ठगी का गढ़, 2 धंधेबाज धराए
राजनीति में एक सुदृढ़ साहित्यिक हस्तक्षेप थे डॉ शैलेंद्र नाथ श्रीवास्तव :अनिल सुलभ
नालंदा में रालोसपा का शिक्षा बचाओ आंदोलन में दिखा आक्रोश
आखिर रंग लायी राजगीर बंद, जागा प्रशासन, भूमाफिया शिवनंदन को दिया 10 लाख का नोटिश
बाबा चुहड़मल मेला में दारु पीकर हंगामा करते नगरनौसा मुखिया भाई समेत धराया, गया जेल
फेसबुक लाइव में बोले बिहार डीजीपी- 'अलग होगी विधि-व्यवस्था और अनुसंधान टीम'
ट्रेन में दरींदगीः एक ने मुंह दबाया, दो ने हाथ-पैर पकड़ा, चौथे ने किया रेप
नीतिश सरकार के 29 में 22 मंत्रियों पर यूं दर्ज हैं क्रिमिनल केस
'कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है'
सत्तालोलुप पार्टी नहीं है रालोसपाः उपेन्द्र कुशवाहा
इस बार दो लाख करोड़ का बजट पेश, खुलेगें 11 मेडिकल कॉलेज
अवमानना मामले में रांची हाइकोर्ट ने दिया स्टे आर्डर
पर्यटन पुलिस ने शराबी को दबोचा तो उल्टे यूं विफर पड़ा राजगीर थाना प्रभारी
हिलसा मतस्यजीवी सहयोग समिति का चुनावी परिणाम घोषित
झूठ की खुली पोल, कांस्टेबल ने की गलती, सच से उठा पर्दा, अब क्या कहेंगे सरायकेला एसपी
बिहारशरीफ रेलवे स्टेशन पर भूकंप की अफवाह में 57 परीक्षार्थी चोटिल
बीच सड़क घायलों को तड़पता देख भी नही रुका केन्द्रीय मंत्री सुदर्शन भगत का काफिला
FFC के FIR से उठे सवाल, चावल घोटाले को दबाने का हो रहा था प्रयास!
हैदराबाद स्टेट क्रिकेट टीम के खिलाड़ी के साथ हिलसा में मारपीट
नहीं रहीं औरंगाबाद के पूर्व सांसद श्यामा सिंह
सरकारी नौकरियों में जरुरी है प्रोन्नति के ऐसे प्रावधान
लालू की वॉल्व लीकेज, ब्लड इंफेक्शन अलग, ऑपरेशन में दिक्कत
.... फिर यूं ईश्वर दर्शन कर उठे जज मानवेंद्र मिश्रा
MDM के रसोईयों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही सरकारः रामकृपाल
स्कूल की छत गिरी, एक छात्र की मौत, दर्जनों घायल
भाजपा से निष्कासित लोग ही दे रहे पार्टी सदस्यता अभियान को बल
यहां नीतीश कुमार नहीं, अपराधियों की बहार है
अनुमंडल कार्यालय शिफ्ट किए जाने को लेकर उबले सरायकेला वासी
सरकारी खाता में राशि नहीं, स्वतंत्रता सेनानियों का चेक हुआ बाउंस !
26 जनवरी,2018 तक करायपरसुराय प्रखंड हो ओडीएफः हिलसा एसडीओ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...