पीडीएस सिस्टम में गड़बड़ी पर जीरो टॉलरेंस के तहत हो कार्रवाई :डी एम

Share Button

“अनुमंडल पदाधिकारीयों ने बताया कि हिलसा में एक डीलर पर प्राथमिकी दर्ज की गई है एवं एक पीडीएस का लाइसेंस रद्द किया गया है। बिहारशरीफ में तीन लाइसेंस रद्द हुए हैं व एक डीलर पर एफआईआर  हुआ है। राजगीर में एक पीडीएस डीलर का लाइसेंस कैंसिल किया गया है।”

बिहारशरीफ (राजीव रंजन)। नालंदा के डीएम डॉक्टर त्यागराजन एस एम ने खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की मासिक समीक्षात्मक बैठक में सभी अनुमंडल पदाधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुये कहा है कि पीडीएस सिस्टम में गड़बड़ी व भ्रस्टाचार पर जीरो टॉलरेंस अपनाएं। जनवितरण प्रणाली का लक्ष्य गरीबों तक सहजता से खाद्यान्न पहुंचाना है। इसमें गड़बड़ी करने वालों पर सख्त कार्यवाही हो।

जन वितरण प्रणाली की दुकानों में अच्छी क्वालिटी उनका चावल उपलब्ध नहीं कराने की शिकायत पर डीएम ने काफी सख्त रुख अपनाते हुए अनुमंडल पदाधिकारियों से कहा कि जिन जिन मिलरों के द्वारा खराब क्वालिटी का चावल गोदामों में दिया गया है उसे वेरीफाई करें एवं 30 अक्टूबर तक अच्छी क्वालिटी का चावल गोदामों में उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करें।

डीएम ने कहा कि जिन मिलरो द्वारा चावल नही बदल जाता है उन का मिल सीज करें। अगर इस में गोदाम प्रभारियों की भी मिलीभगत पाई जाती है तो उनके विरुद्ध भी सख्त कार्रवाई किए जाएं।

डीएम ने कहा कि जन वितरण प्रणाली में गड़बड़ी की जो भी शिकायतें आती है उसे गंभीरता से लें एवं उसकी अच्छी तरीके से जांच कर दोषियों पर कार्यवाही करें। जिन  प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के विरुद्ध ज्यादा शिकायतें आ रही है उन्हें चिन्हित कर उनके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा करने को भी कहा गया। आगामी रबी सीजन में धान अधिप्राप्ति की अभी से तैयारी करने को कहा गया।

डीएम ने जिला सहकारिता पदाधिकारी से कहा कि पिछले सीजन में जिन लोगों के द्वारा 100 क्विंटल से अधिक धान की आपूर्ति की गई है उनका वेरिफिकेशन कर लें , जिससे कि वास्तविक रुप से धान उपजाने वाले ही अधिप्राप्ति प्रक्रिया का लाभ उठा पाए, बिचौलिए नहीं । नए सीजन में किसानों का रजिस्ट्रेशन शुरू करने संबंधी प्लानिंग अभी से कर लेने को कहा गया।

डीएम ने सख्त निर्देश दिया कि मिलरों तथा गोदामों का वेरिफिकेशन पूरी सजगता एवं सतर्कता से करें। टैगिंग से पूर्व मीलों का वेरिफिकेशन एवं विभागीय निर्देश के आलोक में नए गोदामों के चयन संबंधी करवाई भी करने को कहा गया।

जिला आपूर्ति पदाधिकारी से कहा गया कि छठ से पूर्व सभी लाभुकों को गेहूं एवं अन्य खाद्य सामग्री मिल जाए, इसे हर हाल में सुनिश्चित करें। गड़बड़ी करने वाले डीलरों का लाइसेंस रद्द करने की भी कार्यवाही किए जाएं।

डीएम ने मध्यान्ह भोजन के प्रभारी पदाधिकारी को कहा कि स्कूलों में मध्यान्ह भोजन में गड़बड़ी होने पर नीचे से ऊपर सभी पदाधिकारियों पर सख्त कार्रवाई होगी। मध्यान्ह भोजन के लिए दिए जाने वाले चावल की भी गुणवत्ता सुनिश्चित करने को कहा गया ।

बैठक में अनुमंडल पदाधिकारी सुधीर कुमार, ज्योति नाथ शाहदेव सृष्टि राज सिन्हा जिला आपूर्ति पदाधिकारी रविशंकर उराव , सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक के प्रबंध नीचे निदेशक विजय कुमार सिंह , वरीय उप समाहर्ता रामबाबू,डी पी आर ओ लालबाबू सभी मार्केटिंग ऑफिसर एवं गोदाम मैनेजर तथा अन्य संबंधित लोग उपस्थित थे।

Related Post

153total visits,2visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...