टिकट दलालों का अड्डा बना हज़ारीबाग़ रोड रेलवे स्टेशन, लोग हलकान

Share Button

सरिया(आसिफ अंसारी)। धनबाद रेल मंडल के क्षेत्राधीन हज़ारीबाग़ रोड रेलवे स्टेशन स्थित है। जहां स्टेशन से सटे हज़ारीबाग़, गिरिडीह,कोडरमा, आदि जिला से सटे गाँव के सैकड़ों लोग इस स्टेशन से विभिन्न महानगरों को जाते हैं। परंतु रेल यात्रियों को हज़ारीबाग़ रोड रेलवे स्टेशन स्थित कंप्यूटरीकृत आरक्षण खिड़की से टिकट बुक कराने में भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

बताया जाता है कि इन दिनों उक्त आरक्षण खिड़की दलालों के चंगुल में है। जिसके कारण सामान्य रेल यात्रियों को टिकट के लिए भारी मशक्कत करनी पड़ती है। प्रतिदिन सुबह आठ बजे आरक्षण खिड़की खुलते ही टिकट ब्लैकरों की दादागिरी शुरू हो जाती है। जबकि बगोदर,बिरनी,राजधनवार,  विष्णुगढ़ आदि जगहों से लोग मुम्बई- दिल्ली जैसे महानगरों के लिए रेल टिकट बुक कराने दो-दो दिन से पंक्ति में खड़े रहते हैं। परंतु टिकट बाबुओं की मिली भगत से टिकट ब्लैकर अपना टिकट बुक करा लेते हैं जिससे दूर दराज से आये रेल यात्रियों को हताशा ही हाथ लगती है।

इसी तरह का एक वाक्या पिछले दिन अहले सुबह आरक्षण खिड़की के पास हुआ। जहां बिरनी प्रखंड के टाटो निवासी निरंजन वर्मा के साथ बदसलूकी की गई।

श्री वर्मा ने बताया कि मुम्बई के लिए तत्काल टिकट बनवाने सोमवार की सुबह 5 बजे से ही टिकट खिड़की के पास खड़ा था। परंतु टिकट दलालों के सामने उसकी एक न चली। वहीं टिकट के लिए 24 घंटे इंतजार करता रहा।

मंगलवार की सुबह ज्योंहि टिकट खिड़की खुली दबंग लोग अपनी टीम के साथ पहुंच गए। पहले से खड़े लोगों के साथ धक्का-मुक्की करने लगे। जिससे माहौल बिगड़ने लगा।सूचना मिलते ही ड्यूटी पर तैनात आर.पी.एफ़.के जवान आये। तब तक लोग भाग चुके थे।

बताया जाता है कि दलाल किस्म के लोग एक ही पर्ची पर विभिन्न दिशाओं के रेल यात्रियों के लिए 4-4 टिकट बुक कराते हैं। जबकि नियम के अनुसार एक ही परिवार का 4 टिकट होना चाहिए जो जांच का विषय है।

इस संबंध में स्टेशन प्रबंधक सी एम पांडेय से पूछे जाने पर बताया कि टिकट खिड़की पर दलाल किस्म के लोगों के अड्डाबाज़ी की सूचना मिली थी। जिसकी वीडियोग्राफी भी करवाई। रेल यात्रियों की सुविधा को देखते हुए वैसे तत्वों पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

Related Post

19total visits,1visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...