करोड़ों खर्च के बाबजूद पीने को एक बूंद पानी मयस्सर नहीं

Share Button

सरिया, गिरिडीह(आसिफ)।  जनहित से जुड़ी सरकार की ग्रामीण पेयजल आपूर्ति योजना सरिया के लिए टाँय-टाँय फीस साबित हो रही है। लगभग एक दशक पूर्व तत्कालीन पेयजल आपूर्ति मंत्री अपर्णा सेन गुप्ता द्वारा प्रथम वर्गीय स्वास्थ्य केंद्र परिसर सरिया जलमीनार की आधार शिला रखी गई थी।

जिसके तहत सरिया क्षेत्र के बड़की सरिया, काला रोड, चंद्रमारनी, ठाकुरवाड़ी टोला,पोखरियाडीह तथा बलिडीह समेत कई मुहल्ले के लगभग एक लाख आबादी की प्यास बुझाई जानी थी।

इसके लिए सरकार द्वारा प्रदत्त करोड़ों की राशि आवंटित की गई। जिसकी निविदा शिल्पी कंस्ट्रक्शन द्वारा बनाया जाना था। पाइप लाइन बिछाने का काम संवेदक के द्वारा कागज पर सम्पन्न दिखा दिया गया। जबकि आज भी सरिया के कई मुहल्लों के कुछ भाग पेयजल के लिए तरस रहे हैं।

इस संबंध में सरिया पश्चिम के मुखिया शोभा देवी ने कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता विभाग गिरिडीह को आवेदन दिया है। इस संबंध में स्थानीय ग्रामीणों द्वारा जब-जब आवाज़ उठाई गई है।

 संवेदक द्वारा कार्य प्रारंभ किया जाता है। मामला शांत होते ही संवेदक के कर्मचारी अपना बोडिया बिस्तर समेट कर गायब हो जाते हैं।

यह लुका-छिप्पी का खेल बीते दस वर्षों से चल रहा है। बावजूद यहां के जन प्रतिनिधि व अधिकारी का ध्यान इस ओर नहीं गया है। स्थानीय जनता इस प्रकार आक्रोशित है कि कहीं सरिया की जलापूर्ति योजना तख्ता पलट का कारण न बन जाये।

Related Post

12total visits,1visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...