इंसेफलाइटिस पर सियासत के बीच स्वास्थ्य विभाग छुपा रहा बच्चों की मौत का आकड़ा

Share Button

पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। बिहार के मुजफ्फरपुर में फिर से लीची से होने वाली इंसेफलाइटिस ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है।

पिछले कुछ दिनों से मुजफ्फरपुर फिर से जेई बीमारी को लेकर सुर्खियों में है। अब तक इस बीमारी की वजह से 27 बच्चों की मौत हो गई है। सिर्फ़ एसकेएससीएच में 18 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई है। जबकि निजी अस्पताल में भर्ती बच्चे दम तोड़ रहे हैं। अब तक 4 अन्य बच्चों की मौत की आधिकारिक पुष्टि की गई है।

इधर सीएम नीतीश कुमार ने मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वे अपने स्तर से इस पर नजर बनाएँ हुए हैं। इलाज की समुचित व्यवस्था की जा रही है।जहाँ सीएम इस गंभीर बीमारी को लेकर चिंतित हैं। वही इस मामले को लेकर सियासत भी तेज हो गई है।

मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटिस बीमारी से मासूम बच्चों की मौत को लेकर सबसे शर्मनाक बयान केंद्रीय राज्यमंत्री अश्विनी चौबे का आया है। उन्होंने  बच्चों की मौत को लोकसभा चुनाव से जोड़ दिया है।

उन्होंने बच्चों की मौत के लिए लोकसभा चुनाव को जिम्मेदार ठहराया, उन्होंने कहा कि अधिकारियों की लापरवाही के कारण बच्चों की मौत हुई है। क्योंकि सभी लोगों ध्यान चुनाव की ओर था।

वही हम के प्रदेश अध्यक्ष बीएल वैश्य यंत्री ने राज्य सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय तथा केन्द्रीय राज्यमंत्री अश्विनी चौबे के इस्तीफे की मांग की है।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि बिहार में एक तरफ गंभीर बीमारी से बच्चों की मौत हो रही है, वहीं केंद्रीय राज्यमंत्री अभिनंदन समारोह में भाग ले रहे हैं । इससे साबित होता है कि राज्य की स्वास्थ्य सेवा भगवान भरोसे है।

इधर इंसेफेलाइटिस से बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है तो स्वास्थ्य विभाग बच्चों की  मौत के आंकडे छुपाने में लगी हुई है।

Share Button

Related News:

विश्व के प्राचीन नगरों में प्रमुख धरोहर है राजगीर:  गोविन्द
भगवान महावीर के निर्वाण महोत्सव की भव्य तैयारी में जुटा नालंदा प्रशासन
जमीनी हकीकत से इतर दिखती है हर तरफ ओडीएफ की तस्वीर
महंगी पड़ी RJD नेता को BJP नेत्री संग छेड़खानी- पिटाई, जूते चप्पलों की माला, फिर जेल
 भागलपुर एसिड अटैकः पीड़ित छात्रा की दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में मौत
बिहारशरीफ नगर निगम के नाम पर वार्ड 25 की रोजेदार महिलाओं की 'हाय तौबा'
अंग्रेजी शराब की सरकारी दुकान के विरोध में आमरण अनशन
हिलसा रेलवे स्टेशन पर कभी भी डिरेल हो सकती है ट्रेन, ट्रैक के बीच जमीन में रोज घुस रहा पानी
नहीं रहे रांची के पूर्व SSP-DIG प्रवीण कुमार सिंह, दिल्ली के मैक्स में ली अंतिम सांस
नगड़ी में अपराधी बेलगाम, रेलवे कंस्ट्रक्शन कंपनी के इंजीनियर और मुंशी की गोली मार हत्या
चक्रधरपुर JMM MLA ने बंद के दौरान दिव्यांग शिक्षक को पीटा, FIR के बाद गया जेल
जानलेवा है वीवो मोबाइल, जेब में ब्लास्ट होने से युवक हुआ यूं जख्मी
नालंदा में बालू माफियाओं का खूनी खेल जारी, अब महादलित पिता-पुत्र को मार डाला
बिहार शरीफ सदर अस्पताल में डायरिया तक के मरीजों का नहीं हो रहा है इलाज
किसी पार्टी का नहीं, बल्कि समाज का पक्षधर है कायस्थः रविनंदन सहाय
'कोई दूध के धुले नहीं हैं नीतिश,जीरो टोलेरेंस का बंद करें ढोंग'
एसपी के जांचोपरांत वार्ड सचिव की थाने में पिटाई मामले में दारोगा सस्पेंड
नालंदा के तुंगी गांव में जारी फिल्म शूटिंग पर राजपूत समाज के तेवर तल्ख
......और अब चूहा ने अस्पताल में नवजात की हत्या कर डाली!
आनंद किशोर BSEB अध्यक्ष के काबिल नहीं :पटना हाई कोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...