अन्य
    Wednesday, June 19, 2024
    अन्य

      नीतीश सरकार का बड़ा फैसलाः TET खत्म, अब शिक्षक बनने के लिए CTET पास करना जरुरी

      “बिहार ने शिक्षक पात्रता परीक्षा अब नहीं होगी। शिक्षा विभाग ने आधिकारिक पत्र जारी करते हुए इस बात की घोषणा की है। सरकार के इस फैसले से राज्य में शिक्षक की तैयारी लाखों शिक्षित बेरोजगारों को झटका लगा है...

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। बिहार में मास्टर बनने की तैयारी करने वाले लाखों शिक्षित बेरोजगारों का बड़ा झटका लगा है। नीतीश कुमार सरकार ने राज्यस्तर पर शिक्षक बहाली के लिए ली जाने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) को खत्म कर दिया है।

      सरकार अब राज्य में नहीं लेगी शिक्षक पात्रता परीक्षाः  बिहार के शिक्षा विभाग ने आधिकारिक पत्र जारी करते हुए इस बात की घोषणा की है। अभी तक हर साल राज्य में शिक्षक बहाली के लिए टीईटी की परीक्षा ली जाती थी। जिसे पास करने के बाद अभ्यर्थी शिक्षक नियोजन की प्रक्रिया में शामिल होने के योग्य माने जाते थे।

      लेकिन अब शिक्षा विभाग ने टीईटी नहीं लेने का फैसला किया है। शिक्षा विभाग ने बकायदा इसके लिए एक पत्र जारी कर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को अपने फैसले से अवगत कराया है।

      केंद्र सरकार की ओर से ली जाती है सीटेट की परीक्षाः उल्लेखनीय हो कि शिक्षक भर्ती के लिए हर साल केंद्र सरकार की ओर पूरे देश में केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) आयोजित की जाती है।

      इससे इतर सभी राज्यों में राज्य सरकार की ओर से शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) ली जाती थी। बिहार शिक्षा विभाग की ओर से जारी पत्र में कहा गया कि सीटीईटी के अलावा अब अलग से टीईटी की परीक्षा लेने की जरूरत महसूस नहीं हो रही है।

      इस बात की जानकारी प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति, पटना के सचिव को लिखे एक पत्र में दी है।

      हाईकोर्ट ने परीक्षा समिति से मांगा था जवाबः बिहार में शिक्षक पात्रता परीक्षा आयोजित नहीं होने पर शिक्षक बनने के योग्य अभ्यर्थियों ने पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी।

      इसी मामले में हाईकोर्ट ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति से स्थिति स्पष्ट करने का आदेश दिया था। जिसके बाद विद्यालय परीक्षा समिति ने शिक्षा विभाग से इस बारे में जानकारी मांगी थी। शिक्षा विभाग ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को पत्र लिखकर सरकार के फैसले की जानकारी दे दी।

      सीबीएसई सिलेबस के अनुरुप होती है सीटेट की परीक्षाः पत्र में बताया गया कि सीटीईटी से इतर राज्य सरकार की ओर से शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) आयोजित करने की जरूरत नहीं हो रही थी।

      पत्र में बताया गया कि भविष्य में विभाग की ओर से जरूरत पड़ने पर शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) आयोजित किए जाने पर निर्णय लिया जा सकेगा। दूसरी ओर CTET की परीक्षा TET से टफ होती है।

      ऐसे में अब बिहार में मास्टर जी बनने के लिए ज्यादा तैयारी करनी पड़ेगी। क्योंकि CTET की परीक्षा CBSE सिलेबस के अनुरुप होती है।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!