फेसबुक पर यूं लाइव हुए बिहार के डीजीपी

Share Button

“फेसबुक सरीखे सोशल साइट के एक दशक वर्ष में यह पहली बार है कि देश के किसी राज्य के पुलिस प्रमुख यानि डीजीपी सीधे लाइव होकर अपनी बात रखी…”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय कल 10 मार्च को दोपहर बाद ठीक 2 बजे फेसबुक लाइव हुए। उन्होंने कल लाइव होने की जानकारी अपनी https://www.facebook.com/IPSGupteshwar/ फेसबुक पेज पर खुद  दी थी।

उन्होंने लिखा था कि “कल 10 मार्च को 2 PM फेसबुक पर लाइव होऊंगा।। आप सब जरुर देखें।।”

बता दें कि डीजीपी की https://www.facebook.com/IPSGupteshwar/ पेज को फेसबुक एडमिन द्वारा अधिकारिक मान्यता स्पष्ट नहीं है। यह पेज उनकी नीजि अभिव्यक्ति पेज है और उन्होंने यह भी नहीं लिखा है कि वे किन मुद्दों पर अपनी बात रखेगें।

उनके पेज के ABOUT में ब्रांड अंबेस्डर, शराबबंदी अभियान,बिहार सरकार का उल्लेख है।

संभावना के अनुसार उन्होंने शराबंदी पर अपनी बात लोगों के सामने रखी। अपराधिक समस्याओं या अन्य समान्य पहलुओं से जुड़े उद्गार भी व्यक्त किए।

डीजीपी की इस फेसबुक लाइव होने की सूचना से सभी माइक्रो ब्लॉगिंग सोशल साइटों पर सनसनी फैला गई। उनकी पोस्ट को भी खूब लाइक और कंमेंट मिले।

इस पेज पर डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय का एक संक्षिप्त परिचय भी दिया गया है…..

IPS GUPTESHWAR PANDEY•MONDAY, OCTOBER 1, 2018

पुलिस महानिर्देशक-बिहार (DGP-BIHAR),1987 बैच के आइपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडेय का जन्म बक्सर जिले के छोटे से गांव गेरुआ में 1961 में हुआ था।

बिजली, सड़क, अस्पताल और स्कूल जैसी मूलभूत सुविधाओं से कटे इस गांव के बच्चों को प्राथमिक शिक्षा के लिए नदी-नाला पार कर दूर के गांव जाना होता था।

दूसरे गांव के स्कूल में भी मूलभूत सुविधाओं का अभाव था। कोई बेंच-डेस्क-कुर्सी नहीं। गुरुजी के बैठने के लिए चारपाई और छात्रों के लिए बोड़ा या जूट की टाट। पढ़ाई का माध्यम भी ठेठ भोजपुरी।

ऐसे माहौल में गुप्तेश्वर की जीवन यात्रा की शुरुआत हुई। सुविधा विहीन परिवार, समाज और गांव से होने के बावजूद गुप्तेश्वर के दिल में कुछ बड़ा करने का जज्बा था और यही कारण रहा कि तमाम प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद बिहार पुलिस के शीर्ष पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

12वीं कक्षा में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण करने के बाद इन्होंने पटना विश्वविद्यालय में नामांकन कराया और अपनी मेधा, परिश्रम और दृढ़संकल्प के जरिए बिना किसी कोचिंग के स्वाध्याय के बल पर 1986 में आइआरएस बने। संतुष्ट नहीं हुए तो दोबारा परीक्षा दी और आइपीएस बने। बिहार में सेवा का मौका मिला।

31 साल की सेवा में गुप्तेश्वर पांडेय एएसपी, एसपी, एसएसपी, डीआइजी, आइजी, एडीजी के रूप में बिहार के 26 जिलों में काम कर चुके हैं। उन्हें कम्युनिटी पुलिसिंग के पुरोधा के रूप जाना जाता है। कम्युनिटी पुलिसिंग के जरिए ही उन्होंने 1993-94 में बेगूसराय, 1995-96 में बिहार के जहानाबाद जिले को अपराध मुक्त किया था।

Share Button

Related News:

नाबालिग के साथ अवैध संबंध को लेकर हुई बिहारशरीफ के उप मेयर के घर गोलीबारी
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम के बाद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा में घिनौनी करतूत !
तेली जतरा सह सामुहिक विवाह कार्यक्रम में बोले सीएम- गरीब और गांव पर फोकस
यू-ट्यूब से सीखा गुर,10 दिन में बना लिया एटीएम लुटेरा गैंग, सरगना समेत 12 धराये
कमलेश की जगह संजय बने नगरनौसा थानाध्यक्ष
नालंदा में चरमराई शिक्षा व्यवस्था, सड़क पर यूं उतरे छात्र-अभिभावक, मचा बबाल
सुनिये ऑडियो- मुखिया ने कैसे दी शिक्षक को धमकी और फिर थाना में कराया रेप केस
कागजी घोड़ा पर सवार राजगीर नगर पंचायत हुआ यूं ओडीएफ
देखिये नालंदा में भारतीय निर्वाचन आयोग को भी कैसे मजाक बना डाला
बदनाम हुआ बिहारः राजगीर में रायपुर के पर्यटकों के साथ खुली गुंडई, पुलिस-प्रशासन संदिग्ध
बोले हिलसा एसडीओ वैभव चौधरी- होगी मामले की जांच-कार्रवाई
भ्रष्टाचारः साल भर में ही यूं जर्जर हो गई सड़क, लोगों का गुजरना दूभर
मोदी मैजिक की 'डबल हैट्रिक' के बीच कांग्रेस भी चमकी
सिने स्टार रवि किशन के कबड्डी टूर्नामेंट उद्घाटन पर नालंदा प्रशासन की रोक!
पुलिस-छात्र में भिंडत, रणभूमि बना ईलाका, कई चोटिल, महिला समेत 6 अरेस्ट, जिम्मेवार कौन?
झारखण्ड का प्रमुख आकर्षण है पकरि बरवाडीह का मेगालिथ महापाषाण पत्थर
लोक शिकायत निवारणः जानिए सीएम नीतीश की चिंघाड़ का सच
सड़क हादसा में घायल एएसपी आनंद जोसेफ तिग्गा की मौत
गिरियक थाना के पावा पईन से युवती का शव बरामद, हत्या की आशंका
जमुई डीएम ने पुलिस के बल अपनी पत्नी को यूं किया जिला बदर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...