23.1 C
New Delhi
Saturday, September 23, 2023
अन्य

    बिहार का रुख क्यों कर रहे हैं झारखंड के पढ़े-लिखे बेरोजगार, जानें

    एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क डेस्क। झारखंड प्रदेश के पढ़े-लिखे बेरोजगार वर्षों से सरकारी क्षेत्र में नियुक्ति की आस देख रहे हैं। अब आलम यह हो गया है कि  यहाँ के युवा अब बिहार की ओर रुख कर रहे हैं।

    Why are the educated unemployed of Jharkhand turning to Bihar knowक्योंकि झारखंड लोकसेवा आयोग ने जितने दिनों में एक नियुक्ति प्रक्रिया पूरी की है, उतने समय में बिहार लोकसेवा आयोग ने दो सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट भी जारी कर दिया।

    वहीं एक लोकसेवा की मुख्य परीक्षा ले ली। साथ हीं 67वीं लोकसेवा परीक्षा का विज्ञापन जारी करते हुए प्रारंभिक परीक्षा की तिथि भी घोषित कर दी है।

    बिहार लोकसेवा आयोग ने 64वीं, 65वीं सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी करने के बाद नियुक्ति शुरू कर दी है। वहीं 66वीं सिविल सेवा परीक्षा की मुख्य परीक्षा भी ले चुकी है।

    इसके आलावे 67वीं संयुक्त परीक्षा के लिए आवेदन ले लिया जा रहा है। इसकी प्रारंभिक परीक्षा 12 दिसंबर को लेने की घोषणा की गयी है।

    बिहार लोकसेवा आयोग की ओर से 64वीं सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम छह जून 2021  को जारी किया जा चुका है। इस परीक्षा के लिए दो अगस्त 2018 को विज्ञापन जारी किया गया।

    इसके बाद प्रारंभिक परीक्षा 16 दिसंबर 2018 को हुई थी। वहीं मुख्य परीक्षा 12 जुलाई से 16 जुलाई 2019 के बीच ली गयी।

    मुख्य परीक्षा में सफल उम्मीदवारों का साक्षात्कार का 1 दिसंबर 2020 से 10 फरवरी 2021 तक चला था। साक्षात्कार 1465 पदों के लिए लिया गया। छह जून को जारी परिणाम में 1454 उम्मीदवारों को सफल घोषित किया गया।

    65 वीं संयुक्त सिविल सेवा परीक्षा की प्रारंभिक परीक्षा के लिए 4 जुलाई 2019 को नोटिफिकेशन जारी किया गया। प्रारंभिक परीक्षा 15 अक्टूबर को ली गयी। जिसका परिणाम 6 मार्च 2020 को जारी किया गया। इसमें 6,517 अभ्यर्थी सफल घोषित किये गये थे।

    मुख्य परीक्षा वर्ष 2020 के नवंबर महीने में 25, 26 एवं 28 तारीख को आयोजित की गयी थी। मुख्य परीक्षा परिणाम के बाद इंटरव्यू राउंड के लिए कुल 1142 उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया गया है।

    मुख्य परीक्षा में सफल उम्मीदवारों का साक्षात्कार 2 से 18 अगस्त तक लिए गये। इसके बाद सात अक्टूबर को परिणाम जारी कर दिया गया है। इसमें 422 उम्मीदवारों को सफल घोषित किया गया है।

    यह संयुक्त सिविल सेवा परीक्षा 691 पदों पर नियुक्ति के लिए ली जा रही है। आयोग ने प्रारंभिक परीक्षा 27 दिसंबर 2020 को राज्य के 35 जिलों में पीटी परीक्षा आयोजित की थी। जिसका परिणाम मार्च में जारी किया गया।

    इस प्रारंभिक परीक्षा में 8997 अभ्यर्थी सफल हुए। सफल उम्मीदवारों में 3497 अनारक्षित, 902 ईडब्ल्यूएस, 1503 एससी, 78 एसटी, 1586 अत्यंत पिछड़ा वर्ग, 1199 पिछड़ा वर्ग एवं 232 पिछड़े वर्ग की महिला वर्ग से हैं।

    अब मुख्य परीक्षा के लिए फॉर्म भराने के बाद 29 से 31 जुलाई तक मुख्य परीक्षा हुई। अभी मुख्य परीक्षा का परिणाम जारी नहीं किया गया है।

    बिहार लोकसेवा आयोग की ओर से 67 वीं संयुक्त सिविल सेवा प्रतियोगिता परीक्षा का विज्ञापन 24 सितंबर को जारी किया गया। ऑन लाइन आवेदन 30 सितंबर से भराना शुरू हुआ है।

    आवेदन करने की अंतिम तिथि पांच नवंबर तक है। 743 से अधिक पदों के लिए यह परीक्षा ली जायेगी। 12 दिसंबर को प्रारंभिक परीक्षा ली जायेगी।

    सिसकती बच्चियाँ: प्रदेश में CWC नहीं, JJB और SCRPC समेत महिला आयोग भी पंगु

    अब इस पूर्व IPS ने CBI से CM नीतीश को गिरफ्तार करने की माँग की ,जानें क्यों?

    अब ज्ञान का आंकलन के लिए दो बार होगी सीबीएसई बोर्ड परीक्षा, जानें

    क्या है सरकार का प्लानबिहारः राजगीर पुलिस एकेडमी में फेल 387 दारोगा पद पर हो गए तैनात !

    बिहार के ये नवनियुक्त 40 डीएसपी एक रुपया भी दहेज लिया या दिया तो जाएगी नौकरी

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    आपकी प्रतिक्रिया

    विशेष खबर

    error: Content is protected !!