अन्य
    Saturday, May 25, 2024
    अन्य

      अब नीलगायों को पालतु बनाएगा कृषि विभाग, उसके दूध और बछड़ों का होगा व्यवसाय

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार में जंगली नीलगायों को अब पालतू बनाया जायेगा। इनके दूध से उत्पाद बनाकर बिक्री करने की भी तैयारी हो रही है। साथ ही इनके किशोर बछड़ों की बिक्री भी की जायेगी।

      इसके आलावे पर्यटन और मनोरंजन के लिए भी इनका इस्तेमाल ‘सारी प्रक्रियाएं किस तरह होगा। ये कैसे होंगी, इस पर कृषि विभाग शोध करेगा।

      नीलगायों की एथोग्राम, बाहरी संरचना और विविधता पर शोध होगा। नीलगायों के खान-पान, व्यवहार और वंशावली की पता लगाया जायेगा।

      उसके व्यावहारिक गुणों पर अध्ययन होगा। ताकि इनको अन्य पालतू जानवरों की तरह ही बनाया जा सके। शाहाबाद की नीलगायों पर शोध कार्य शुरू किया जायेगा।

      डुमरांव स्थित कृषि अनुसंधान केंद्र में ‘पशु बाड़े का निर्माण कर इनको पाला जायेगा। सरकार की ओर से इस पर कुल एक करोड़ 14 लाख रुपये खर्च होंगे। इसमें केंद्र की ओर से 68.91 लाख रुपये तथा राज्य सरकार की ओर से 45.94 लाख रुपये दिये जायेंगे।

      नीलगायों के पालतू बनने के बाद एक और पालतू जानवर की संख्या बढ़ जायेगी। नीलगायों को पालतू बनाने को लेकर ग्रामीण, युवा, किशोर और वयस्कों को प्रशिक्षण भी दिया जायेगा। इससे ग्रामीण युवकों को रोजगार भी मिलेगा।

      कृषि विभाग की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि 431 एकड़ में फैले डुमरांव स्थित हरियाणा फार्म में नीलगाय की आबादी पायी गयी है। डुमरांव में फैले 100 एकड़ का कृषि अनुसंधान फार्म शोध कार्य के लिए बेहतर होगा।

      बता दें कि वर्ष 2016 से अब तक लगभग पांच हजार नीलगायों को मारा गया है। इस साल फरवरी में नीलगायों को मारने के लिए 13 शूटर्स भी नियुक्त किये गये थे। मानक के अनुसार नीलगायों को मारने का काम पेशेवर शूटरों को सौंपा गया था।

      सभी जिलों से नीलगायों की संख्या कृषि मुख्यालय की ओर से मांगी गयी है। मुजफ्फरपुर, वैशाली, सीतामढ़ी, भोजपुर, शिवहर, पश्चिमी चंपारण तथा बक्सर में नीलगायों की ओर से फसल बर्बाद करने की ज्यादा समस्या सामने आ रही है। बिहार के सभी जिलों के किसी न किसी क्षेत्र में में नीलगाय खेती को प्रभावित कर रहे हैं।

      जानें क्या हुआ जब अमिताभ बच्चन का KBC की हॉट सीट पर बैठा नालंदा का एक कार ड्राईवर

      अपने गंदे बयान को लेकर सीएम नीतीश कुमार ने सदन के अंदर-बाहर मांगी माफी, बोले…

      गेम एप के लिए खुद किडनैप हुआ युवक, बाप से मांगी फिरौती, लेकिन…

      मुख्यमंत्री ने वन अधिकार अधिनियम 2006 के अंतर्गत ‘अबुआ बीर अबुआ दिशोम अभियान’ का शुभारंभ

      सेल्फी के चक्कर में पुल से नहर में गिरी कार, एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=c-m2rtMVllo[/embedyt]

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!