अन्य
    Wednesday, June 19, 2024
    अन्य

      तेजस्वी ने तोड़ी चुप्पी, कहा- हमने अपना धर्म निभाया, असली खेला अभी बाकी

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार में चल रहा सियासत की तुफानी खेल से जुड़े खबरों की मानें तो नीतीश कुमार एक बार फिर से भाजपा के साथ सरकार बनाएंगे और 28 जनवरी यानी रविवार को शपथ ले सकते हैं। इसको लेकर दोनों खेमों ने अपनी-अपनी तैयारियां शुरू कर दी है।

      वहीं, इसी बीच पटना में राजद  के विधायक दल की बैठक हुई। इस बैठक में राजद के विधायक सहित कई बड़े नेता शामिल हुए।

      खबरों के अनुसार  बैठक के दौरान उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में खेल अभी बाकी है। हमने महागठबंधन का धर्म निभाया है और हमेशा नीतीश कुमार का सम्मान किया है और उनका साथ दिया है। लेकिन कई चीजें उनके नियंत्रण में नहीं हैं।

      तेजस्वी मुख्यमंत्री मेरे साथ मंच पर बैठते थे और पूछते थे, ”2005 से पहले बिहार में क्या था?” मैंने कभी प्रतिक्रिया नहीं दी। अब और भी लोग हमारे साथ हैं। जो काम दो दशकों में नहीं हुआ, वह हमने कम समय में कर दिखाया, चाहे वह नौकरी हो, जाति जनगणना हो, आरक्षण बढ़ाना आदि।

      इधर, बैठक के बाद राजद नेता मनोज झा ने कहा, बैठक बहुत सकारात्मक हुई, हमारी अलग-अलग पहलुओं पर चर्चा हुई। बैठक में समकालीन राजनीति में चल रहे मुद्दों पर चर्चा हुई। राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया गया है।

      वहीं, राजद नेता सुधाकर सिंह ने कहा, “कोई भी निर्णय राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद को लेना है, नीतीश कुमार और सरकार को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई। सरकार चल रही है। लोकसभा को लेकर चर्चा हुई।

      बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक बार फिर से पाला बदलने की अटकलें जोरों पर है। हालांकि जारी सियासी उठापटक पर अभी तक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोई बड़ा बयान नहीं दिया है। वहीं, दूसरी तरफ लालू की पार्टी नीतीश के जवाब का इंतजार कर रही है।

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=xqQFe3QhCi4[/embedyt]

      लालू-राबड़ी पुत्री रोहणी आचार्य की ताजा ट्वीट से बिहार की राजनीति में भूचाल

      अत्याधुनिक श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल का लोकार्पण

      मैथिली ठाकुर के इस गाने के मुरीद हुए पीएम नरेंद्र मोदी

      क्या अब मिट्टी में मिलने को तैयार हैं नीतीश कुमार ?

      केके पाठक की बढ़ती छुट्टी बना नीतीश सरकार का नया सरदर्द

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!