अन्य
    Friday, March 1, 2024
    अन्य

      केके पाठक की बढ़ती छुट्टी बना नीतीश सरकार का नया सरदर्द

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार में बिगड़ी शिक्षा व्यवस्था के बीच उम्मीद की किरण बने बिहार शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक अब अपनी छुट्टियों को लेकर सुर्खियों में है। जिसे लेकर खबरों एवं सोशल मीडिया में तरह तरह की अटकलें लगाई जा रही है।

      इसी बीच सूचना है कि उन्होंने अपनी छुट्टियां बढ़ा ली है और अब वे 30 जनवरी तक अवकाश पर रहेंगे। उन्होंने इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग को पत्र भेज दिया है। इससे पहले उन्होंने 16 जनवरी तक छुट्टी के लिए आवेदन दिया था।

      बताया जा रहा है कि केके पाठक सिस्टम से नाराज बताए जा रहे हैं। उन्हें लगातार पाठक को मनाने की कोशिश हो रही थी, लेकिन शिक्षा विभाग के अधिकारी इस कोशिश में असफल रहे।

      ऐसी स्थिति में नीतीश सरकार अगले दो से तीन दिनों में शिक्षा विभाग के नए अपर मुख्य सचिव की पदास्थापन कर सकती है। नए अधिकारियों का नाम भी सरकार के स्तर से तय हो चुका है। अब तक सचिव वैद्यनाथ यादव शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के प्रभार में हैं।

      केके पाठक की छुट्टियां 16 जनवरी मंगलवार को खत्म हो रही थीं। अ‍टकलें लगाई जा रही थीं कि पाठक काम पर लौटेंगे या नहीं। लेकिन अब तय हो गया है कि उन्होंने एक बार फिर से अपनी छुट्टियां बढ़ा ली हैं।

      बता दें कि बीते दिनों सोशल मीडिया पर एक पत्र वायरल हुआ था, जिससे केके पाठक के इस्तीफे की खबरों ने जोर पकड़ा था। हालांकि बाद में शिक्षा विभाग की ओर स्पष्टीकरण दिया गया था कि पाठक 16 जनवरी तक अवकाश पर रहेंगे। वे 8 जनवरी से छुट्टी पर चल रहे हैं।

      1990 बैच के आईएएस पाठक अपने सख्त तेवर के लिए जाने जाते हैं। जून 2023 में उन्होंने बिहार शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव पद का चार्ज लिया था। तभी से अपने फैसलों और जमीनी कार्यों की वजह से लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं।

      खरसावां का भव्य मां आकर्षणी मंदिर दर्शन, जहाँ होती है पत्थर के टुकड़ों की पूजा

      जानें आखिर कौन हैं गुगल सर्च में अचानक टॉप ट्रेंड हुई कल्पना सोरेन

      झारखंड की राजनीति में भूचाल, अब यहाँ बनेगी ‘राबड़ी सरकार’ !

      झामुमो विधायक का इस्तीफा, हेमंत की जगह कल्पना को सीएम बनाने की चर्चा

      जॉर्ज, शरद, प्रशांत, मांझी, रामचन्द्र से लेकर ललन तक | कोई न समझ पाया नीतीश का यह कंठराज

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      - Advertisment -
      - Advertisment -
      संबंधित खबरें
      - Advertisment -
      error: Content is protected !!