अन्य
    Sunday, June 16, 2024
    अन्य

      जमीन अधिग्रहण का पैसा नहीं मिलने से नाराज किसानों ने भारत माला प्रोजेक्ट का काम रोका

      *खिजरी विधायक राजेश कच्छप ने किसानों और परियोजना के पदाधिकारियों के साथ की बैठक*

      Angry farmers stopped the work of Bharat Mala project due to non payment of money for land acquisition 5राँची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। राँची जिले के ओरमांझी ईलाके में भारत माला प्रोजेक्ट सड़क निर्माण में जमीन अधिग्रहण का पैसा नहीं मिलने और पुलिस द्वारा अत्याचार से आक्रोशित किसानों की आज पांचा पंचायत सचिवालय में स्थानीय खिजरी विधायक राजेश कच्छप के साथ एक बैठक हुई। जिसमें जमीन अधिग्रहण से प्रभावित 16 गांवों के लोग गोलबंद होकर जमा हुए।

      Angry farmers stopped the work of Bharat Mala project due to non payment of money for land acquisition 4किसानों ने विधायक को बताया कि बिना मुआवजा के ही उनकी जमीनों को अधिग्रहण किया जा रहा है। परियोजना द्वारा उनके खेतों पर जबरन जेसीबी पोकलेन चलाया जा रहा है। जब विरोध करते हैं तो उन्हें जेल भेजने की धमकी दी जाती है।

      इसके बाद विधायक राजेश कच्छप ने कहा कि किसानों के साथ न्याय होगा। अधिग्रहण जमीन का सही भुगतान के लिए वे मुख्यमंत्री से बात करेंगे। वे हम किसानों के साथ हैं। उनका एक प्रतिनिधि मंडल उपयुक्त रांची से मिलेगी

      Angry farmers stopped the work of Bharat Mala project due to non payment of money for land acquisition 2बता दें कि एक दिन पहले बुधवार को भारत माला प्रोजेक्ट के तहत बनाए जा रहे पथ निर्माण के लिए  ओरमांझी प्रखंड के गुडू व रोला गांव में प्रोजेक्ट के लोग भारी पुलिस बल के साथ जेसीबी पोकलेन मशीन लेकर काम करने पहुंचे थे।

      जैसे ही किसानों को इसकी जानकारी हुई तो वे गोलबंद होकर कार्य स्थल पर पहुंचे और यह कहते हुए काम बंद करने को कहा कि जब तक मुआवजा राशि नहीं मिलेगा, तब तक यहाँ काम नहीं होना चाहिए।

      इस क्रम में ग्रामीणों और पुलिस के बीच आपसी बहस होती रही। मौके पर उपस्थित मजिस्ट्रेट उपेन्द्र कुमार का कहना था उन्हें डीसी साहब का आर्डर मिला है। उसका पालन करना है। काम में अड़चन पैदा ना करेंAngry farmers stopped the work of Bharat Mala project due to non payment of money for land acquisition 1

      वहीं किसान अपनी जिद पर अड़े थे कि जब तक अधिग्रहित जमीन का मुआवजा राशि नहीं मिलेगा, वे काम नहीं करने देंगे। चाहे उनकी जान ही क्यों न चला जाए।

      इसी बीच कुछ किसानों को पुलिस के जवान कॉलर पकड़ कर ले जाने लगे तो ग्रामीण उग्र हो उठे और पीड़ित किसानों को पुलिस जवानों की चंगुल से छुड़वाया। तब जाकर किसी तरह मामला शांत हुआ।

       

       

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!