पति के बाएं तरफ हीं क्यों बैठती हैं पत्नी ?  

“ शादी के दौरान पत्नी को पति के वामांग यानि बाईं तरफ बैठने के लिए कहा जाता है। बड़े-बजुर्ग भी अक्सर कहते हैं कि पत्नी को पति के बाईं तरफ ही बैठना चाहिए लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यों है …?

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। आम मान्यताओं के अनुसार, ब्रह्माजी के दाएं स्कंध से पुरुष और वाम स्कंध से स्त्री की उत्पत्ति हुई है इसलिए औरतों को वामांगी यानि पति का बायां भाग माना जाता है।

वहीं, ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, औरतों के बाएं और पुरुष के दाएं हिस्से को शुभ माना है। यही वह है कि विवाह के दौरान पत्नी को पति के बाएं भाग में बैठने के लिए कहा जाता है।

हालांकि हिंदू धर्म में पुरुष प्रधान धार्मिक कार्यों में पत्नी पति के दक्षिण यानि दाएं भाग की ओर बैठती है। जबकि स्त्री प्रधान धार्मिक कार्यों के दौरान पत्नी पति के वाम अंग की तरफ ही बैठती है।

संस्कार गणपति में कहा गया है कि सिंदूरदान, भोजन करते समय, सोते समय और सेवा करते समय पत्नी को बाई तरफ ही रहना चाहिए।

मान्यता है कि सांसारिक कार्य यानि जो कर्म इह लौकिक होते हैं, जैसे आशीर्वाद और ब्राह्मण के पैर पखारते समय भी पत्नी को बाई ओर ही रहना चाहिए। जबकि कन्यादान, शादी, यज्ञकर्म, पूजा या कोई धर्म-कर्म करते समय पत्नी को पति के दाई ओर बैठना चाहिए।

भगवान शिव को अर्धनारीश्वर भी कहा जाता, क्योंकि उनके बाएं हिस्से से नारी की उत्पत्ती हुई थी। भगवान का यह रूप इस बात का संदेश है कि बिना पुरुष स्त्री के बिना अधूरा है और स्त्री पुरुष के बिना।

शिवपुराण के अनुसार, जब भगवान श्रीराम को 14 साल का वनवास हुआ था तब देवी सती ने माता सीता का रूप धारण कर उनकी परीक्षा ली थी लेकिन भगवान राम ने माता सती को पहचान लिया।

लेकिन जब देवी सति कैलाश लौंटी तो भगवान शिव नाराज हो जाते हैं। वह कहते हैं कि मेरे आराध्य देव की परिक्षा लेना उनका अपमान है। इससे आप भी अपने वामांगी होने का अधिकार खो चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.