अन्य
    Monday, April 15, 2024
    अन्य

      केन्द्रीय मंत्रिमंडल विस्तारः नीतीश की नीति गोल, बिहार से सिर्फ ‘रामचंद्र-पारस’

      एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। अंततः मोदी सरकार की केन्द्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया। जिसमें जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचंद्र प्रसाद सिंह और लोजपा से पशुपति कुमार पारस ने मंत्री पद की शपथ ली है।

      इसके साथ ही भाजपा के शुशील कुमार मोदी के आलावे जदयू की ओर जिन आधा दर्जन लोगों के नाम की चर्चा चल रही थी, उस पर विराम लग गया है।

      खबर है कि मोदी सरकार की केन्द्रीय मंत्रिमंडल जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचन्द्र प्रसाद सिंह और लोजपा से पशुपति कुमार पारस ने मंत्री पद की शपथ ले ली है।

      लंबे समय से केंद्रीय कैबिनेट में जगह बनाने के लिए जद्दोजहद कर रहे लोजपा (विवादित) नेता पशुपति पारस ने आखिरकार कैबिनेट में जगह बना ली।

      पार्टी अध्यक्ष और भतीजे चिराग पासवान से बगावत करने के बाद पशुपति अब केंद्रीय मंत्री बनाए गए हैं। पशुपति हाजीपुर संसदीय क्षेत्र से निर्वाचित हैं और राजनीति के मौसम वैज्ञानिक कहे जाने वाले नेता रामविलास पासवान के बड़े भाई हैं।

      वहीं केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह बनाने को लेकर खींचतान के बीच आखिरकार जेडीयू ने मंत्रिमंडल में जगह बनाई है। वर्ष 2004 के बाद जेडीयू के किसी भी नेता को केंद्रीय कैबिनेट में जगह नहीं मिली थी। वाजपेयी मंत्रिमंडल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही केंद्रीय मंत्री बने थे।

      उनके बाद अब आरसीपी सिंह को मंत्री बनाया गया है। आरसीपी सिंह नीतीश कुमार के बेहद करीबी नेता मानें जाते हैं।मुख्यमंत्री के गृह जिला से आने वाले 62 वर्षीय रामचन्द्र प्रसाद सिंह साल 1998 से उनके साथ हैं।

      वे तब केन्द्रीय मंत्री नीतीश कुमार के पीए के रुप में उभरकर सामने आए थे और आज जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं। अप्रत्यक्ष तौर पर मोदी सरकार में शामिल होने और मंत्रियों की संख्या तय करने के लिए उन्हें ही अधिकृत किया गया था और वे खुद कैबिनेट मंत्री बनने में सफल रहे।

       

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!