अन्य
    Friday, March 1, 2024
    अन्य

      किशनगंज थानेदार की हत्या का सदमा नहीं झेल सकी माँ, दोनों की साथ उठेगी अर्थी

      इस मामले में अश्वनी कुमार के साथ छापेमारी में गए 7 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। बिहार पुलिस ने इसे गद्दारी मानी है। सातों पुलिसकर्मियों पर निलंबन के अलावा भी कार्रवाई करने की बात कही गई है। बकौल, किशनगंज एसपी  कुमार आशीष, विभागीय मामला चलाकर उन्हें कठोरतम सजा दी जाएगी…”

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। किशनगंज टाउन थाना के प्रभारी अश्विनी कुमार की मां भी इस दुनिया में नहीं रहीं। बेटे की मौत की खबर सुनते ही उनकी भी सांसें थम गई।

      Mother could not bear the brunt of killing Kishanganj Thanedar death both will rise together 1हर्ट पेशेंट होने की वजह से शनिवार को मॉब लिंचिंग में बेटे की शहादत के बारे में मां को परिवार के लोगों ने जानकारी नहीं दी थी। लेकिन रविवार की अहले सुबह बेटे के बारे में उन्हें खबर मिल गई और यह सदमा वह बर्दाश्त नहीं कर सकीं।

      अब मां और बेटे की चिता एक साथ सजेगी। दोनों की पुर्णिया स्थित उनके घर से एक साथ अर्थी उठेगी। यह जान हर किसी की आंखें नम हो गई है।

      वहीं, अश्विनी कुमार हत्याकांड मामले को लेकर ग्रामीणों एवं परिजनों ने पैतृक गांव में बैठक की है। इसमें उन्होंने सरकार से हाईकोर्ट की निगरानी में हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग की है।

      परिजनों का कहना है कि शहीद की पत्नी को सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए और उनके बच्चों की पढ़ाई का खर्च सरकार को उठाना चाहिए। परिजनों ने बताया कि मांगें पूरी होने के बाद ही शहीद अश्विनी कुमार का दाह संस्कार किया जाएगा।

      बता दें कि बिहार के किशनगंज के समीपवर्ती पश्चिम बंगाल के पनतापाड़ा गांव में शनिवार की अहले सुबह ग्रामीणों ने किशनगंज के थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      - Advertisment -
      - Advertisment -
      संबंधित खबरें
      - Advertisment -
      error: Content is protected !!