अन्य
    Saturday, May 25, 2024
    अन्य

      जैसी करनी, वैसी भरनीः नशे में धुत 2 शराबी ने थाने में घुसकर थानेदार तक को पीटा !

      “बिहार में शराबियों का हौंसला कितना बढ़ा हुआ है इसकी बानगी पिछली रात मिल गयी। सिर्फ दो शराबी नशे में धुत्त होकर थाने में घुस गये। फिर उत्पात मचाते हुए थानेदार से लेकर सिपाही तक को पीटा। जब पुलिसकर्मी पिट गये तो उन्हें लगा कि अब उन्हें गिरफ्तार करना चाहिये। तब जाकर उन्हें पकडा गया। वैसे दोनों शराबी पहले ही पुलिस का स्टीकर लगे गाड़ी में बैठकर पी रहे थे। गश्ती दल उन्हें गिरफ्तार करने की हिम्मत नहीं जुटा पाया…

      एक्सपर्ट  मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार में शराबबंदी सबसे बड़ा मजाक साबित है। पुलिस-प्रशासन और शराब कारोबारी यहां गेहूँ और घुन की तरह मिले हुए हैं।

      बीती रात सुपौल जिले के करजाईन थाना में नशे में धुत दो शराबी-कारोबारी थाने में घुस गये और पुलिसकर्मियों को जमकर गालियां दी। इसकी खबर पाकर जब वहां का थानेदार पहुंचा औऱ दोनों पर काबू पाने की कोशिश की तो दोनों शराबियों ने थानेदार के साथ भी गाली-गलौज से लेकर लप्पड़ा दिया।

      थानेदार के साथ मारपीट होते देख दूसरे पुलिसकर्मी उन्हें पकड़ने पहुंचे। उनकी भी पिटाई कर दी गयी। दोनों शराबियों की पिटाई से सिपाही संजीत कुमार और चौकीदार सदानंद पासवान को चोट भी लगी। बडी मुश्किल से पुलिस ने दोनों को काबू में किया।

      करजाईन थाना पुलिस के मुताबिक दोनों शराबी में से एक रतनपुरा थाना क्षेत्र के ढाढा वार्ड 5 का निवासी रूपक सिंह है। जबकि दूसरा पड़ोसी जिले सहरसा के पंचगछिया का रहने वाला राजू कुमार सिंह है।

      पुलिस के अनुसार दोनों को जब पकड़ लिया गया तो ब्रेथ एनलाइजर से उनकी जांच की गयी। इसमें शराब के नशे में चूर होने की पुष्टि होने के बाद आरोपी दोनों शराबी-कारोबारी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

      कहा जाता है कि इससे पहले दोनों शराबियों ने पुलिस के गश्ती दल को जमकर हडकाया था। वहीं से फोन कर थानेदार को भी धमकाया और थानेदार को चैलेंज देकर दोनों थाने में पहुंच गए।

      स्थानीय लोगों के अनुसार दोनों शराबी पुलिस की स्टीकर लगी स्कार्पियो गाड़ी में बैठकर शराब पी रहे थे। शराब के अड्डे के पास उनकी गाड़ी लगी थी औऱ दोनों गाड़ी में बैठकर जाम छलका रहे थे।

      पुलिस की गश्ती पार्टी वहां पहुंची तो पुलिस का स्टीकर लगा वाहन होने के कारण उनकी हिम्मत नहीं हुई कि दोनों को गिरफ्तार करें। पुलिसकर्मियों ने समझा कि दोनों पुलिस के ही अधिकारी हैं।

      लोगों के मुताबिक पुलिस की गश्ती पार्टी ने उन्हें शराब पीते देख कर भी गिरफ्तार नहीं किया था। बल्कि उन्हें सिर्फ इतनी सलाह दी थी कि वे घर चले जायें। इसके बाद दोनों गश्ती दल के जवानों से उलझ गये।

      रूपक ने पुलिस जवानों से थानेदार का नंबर मांगा औऱ वहीं से फोन कर थानेदार को जमकर धमकाया। इसके बाद वह थानेदार को चैलेंज देकर थाना में पहुंच गया।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!