31.1 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021
अन्य
    5,623,189FansLike
    85,427,963FollowersFollow
    2,500,513FollowersFollow
    1,224,456FollowersFollow
    89,521,452FollowersFollow
    533,496SubscribersSubscribe

    KGBV स्कूलों में मनमानी का आलम,अंशकालीन शिक्षिका को मिल रहा रोजाना 33 रुपए !

    झारखंड अंशकालिक शिक्षक सह कर्मी संघ, कस्तूरबा गाँधी आवासीय बालिका विद्यालय के अध्यक्ष रितेश कुमार सिंह ने बताया कि इस तरह की मनमानी से राज्य शिक्षा परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी को अवगत कराया गया है। उन्होंने अपने स्तर से पड़ताल कर उचित कार्रवाई का भरोसा दिया है

    राँची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। राष्ट्रीय पटल पर शिक्षा के क्षेत्र में अत्यंत पिछड़ा झारखंड सूबे के आवासीय विद्यालयों में मनमानी का आलम है। प्रायः सभी विद्यालयों में प्रबंध समिति, वार्डन, लेखापाल और जिला स्तरीय परियोजना प्रभारियों की मिलीभगत से शिक्षा व्यवस्था मजाक बन गई है।

    इसी बाच राजधानी राँची जिला क्षेत्र अवस्थित ओरमाँझी कस्तूरबा गाँधी बालिका आवासीय विद्यालय से एक दिलचस्प मामला सामने आया है। यहाँ फिलहाल कोविड-19 लॉकडाउन के मद्देनजर ऑनलाईन क्लास ले रही अंशकालीन शिक्षकाओं को पिछले 5 माह से मात्र एक हजार रुपए मासिक मानदेय का भुगतान किया जा रहा है। इस हिसाब से देखा जाए तो रोजाना मात्र 33 रुपए की शैक्षणिक मजदूरी बनती है।

    कक्षा-6 से कक्षा-8 तक की छात्राओं का ऑनलाईन क्लास ले रही अंशकालीन शिक्षिकाओं को आखिर किस आधार पर मासिक मात्र एक हजार रुपए का भुगतान किया जा रहा है, इसका जबाव न स्कूल के वार्डन-अकाउंटेट दे पा रहे हैं और न ही जिला परियोजना के पदाधिकारी।

    ओरमाँझी स्कूल की एक अंशकालीन शिक्षिका ने वार्डन को भेजे आवेदन में लिखा है, “मैं लॉकडाउन के दौरान भी बतौर अंशकालीन शिक्षक के रुप में सक्रीय रही हूं, लोकिन उस लॉकडाउन के दौरान की राशि का भुगतान नहीं किया गया। इस वर्ष भी लॉकडाउन के दौरान वर्ग की छात्राओं को नियमित ढंग से ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करती आ रही हूं। लेकिन इस दौरान मुझे मात्र 1000 रुपए मासिक का भुगतान किया गया है”।

    शिक्षिका ने आगे लिखा है कि  “बीते मई-जून-जुलाई माह में भी मात्र 5 दिन ऑनलाइन पढ़ाई करने के आधार पर मात्र एक हजार रुपए का ही भुगतान किया गया है। जबकि पूरे माह नियमित ढंग से छात्राओं का ऑनलाईन क्लास लेती रही हूं। इधर अगस्त माह में भी मेरा मात्र 5 दिन पढ़ाई का अटेंडेंस बनाकर भेजी गई है। यानि फिर इस माह भी मात्र 1000 रुपए यानि 33 रुपए प्रति दिन के हिसाब से भुगतान किया जाएगा। जबकि अगस्त माह में भी मैंने लगन से नियमित ऑनलाईन क्लास लिया है। मेरे पास इसके प्रमाण भी है। जाहिर है कि इस सितबंर माह में मेरी नियमित ऑनलाईन क्लास लिए जाने के एक माह का आंकलन मात्र 5 दिन के रुप में किया जाएगा”।

    शिक्षिका ने वार्डन को लिखे आवेदन की प्रति जिला परियोजना पदाधिकारी को भी भेजी है। जिसमें उल्लेख है कि “क्या छात्राओं का माह में 5 दिन ही ऑनलाईन क्लास लिया जाना है ? उचित मार्गदर्शन के अभाव में मैं यह मान बैठूगीं कि छात्राओं के भविष्य की चिंता किए वगैर  माह में मात्र 5 दिन ही ऑनलाइन क्लास लेनी है। इसे स्पष्ट करने की कृपा करेंगे”।

     

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    EMN Video News _You tube
    Video thumbnail
    नगरनौसा में आज हुआ भेड़िया-धसान नामांकण, देखिए क्या कहते हैं चुनावी बांकुरें..
    06:26
    Video thumbnail
    नालंदा विश्वविद्यालय में भ्रष्ट्राचार को लेकर धरना-प्रदर्शन, बोले कांग्रेस नेता...
    02:10
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव-2021ः नगरनौसा में नामांकन के दौरान बहाई जा रही शराब की गंगा
    02:53
    Video thumbnail
    पिटाई के विरोध में धरना पर बैठे सरायकेला के पत्रकार
    03:03
    Video thumbnail
    देखिए वीडियोः इसलामपुर में खाद की किल्लत पर किसानों का बवाल, पुलिस को पीटा
    02:55
    Video thumbnail
    देखिए वायरल वीडियोः खाद की किल्लत से भड़के किसान, सड़क जामकर पुलिस को जमकर पीटा
    00:19
    Video thumbnail
    नालंदा पंचायत चुनाव 2021ः पुनः बनेगे थरथरी प्रखंड प्रमुख
    02:18
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव प्रक्रिया की भेड़ियाधसान भीड़ में पुलिस-प्रशासन भी नंगा
    04:00
    Video thumbnail
    नगरनौसाः वीडियो एलबम के गानों की शूटिंग देखने को उमड़ी भीड़
    04:19
    Video thumbnail
    बिहारः देखिए सनसनीखेज वीडियो- 'नाव पर सवार शिक्षा'- कैसे मिसाल बने नाविक शिक्षक
    07:10