अन्य
    Sunday, May 26, 2024
    अन्य

      एडीजी के आदेश बाद नाबालिग दलित बच्ची संग रेप के आरोपी डीएसपी की गिरफ्तारी तय

      आज जब एडीजे ने गिरफ्तार करने का आदेश जारी कर दिया है। आईजी ने पटना और गया के एसएसपी को टीम का गठन कर जल्द से जल्द आरोपी सीनियर डीएसपी को गिरफ्तार कर उसकी रिपोर्ट डीजीपी कंट्रोल रूम और कमजोर वर्ग की सौंपने को कहा है

      एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार स्पेशल सशस्त्र पुलिस-1 के सीनियर डीएसपी कमलाकांत प्रसाद गिरफ्तार होंगे। प्रसाद पर नाबालिग दलित लड़की के साथ रेप का आरोप है। उनकी गिरफ्तारी के लिए आधिकारिक मुहर लग गई है।

      इस मामले में आज सोमवार को ही सीआईडी के वीकर सेक्शन के एडीजी अनिल किशोर यादव की तरफ से एक आदेश जारी कर दिया गया है।

      आदेश की कॉपी पटना और गया के एसएसपी को भेजी गई है। अब महिला थाना की पुलिस उन्हें कभी भी गिरफ्तार कर सकती है। कोर्ट में पेश कर उन्हें जेल भेज सकती है।

      दरअसल, यह पूरा मामला एक नाबालिग दलित लड़की के साथ रेप कांड से जुड़ा है। इस गंदी हरकत को कमलाकांत प्रसाद ने तब अंजाम दिया था, जब वो गया में बतौर मुख्यालय डीएसपी के पद पर थे।

      आरोप है कि नाबालिग के साथ उन्होंने अपने सरकारी आवास में ही रेप किया था। गंभीर आरोप लगने के बाद पीड़िता के पिता के बयान पर गया के महिला थाने में 27 मई को ही एफआईआर नंबर 18/2021 दर्ज की जा चुकी है। इस केस को आईपीसी, पोक्सो और एससी/एसटी की धाराओं के तहत दर्ज किया गया था।

      गया के महिला थाने की पुलिस पीड़िता और उसके पिता का बयान भी 164 के तहत कोर्ट में दर्ज करा चुकी है। इस मामले में गया के एसएसपी भी अपनी एक रिपोर्ट बिहार पुलिस मुख्यालय को भेज चुके हैं।

      डीजीपी संजीव कुमार सिंघल के आदेश पर आईजी मुख्यालय राकेश राठी ने सीनियर डीएसपी को अपने पद से सस्पेंड करने के लिए सीधे गृह विभाग के सचिव जितेंद्र कुमार श्रीवास्तव को लेटर लिखा था।

      आईजी  मुख्यालय ने लिखा था कि कमलाकांत प्रसाद का जिस तरह का आचरण सामने आया है, वो व्यभिचारी प्रवृति का है, जो बिहार पुलिस सेवा जैसे अनुशासित पद के लिए सही नहीं है। इसलिए सीनियर डीएसपी कलाकांत प्रसाद के निलंबन की अनुशंसा की।  

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!