अन्य
    Wednesday, June 19, 2024
    अन्य

      नालंदा सांसद कौशलेन्द्र कुमार की इस बहादुरी के चर्चे हर जबान पर !

      नई संसद भवन में जो दर्शक दीर्घा बना हुआ है, वह सिनेमा हाल जैसा बना हुआ है। बालकनी बहुत ही नीचा है। इस घटना को देखते हुए ऐसी आशंका है कि भविष्य में ऐसी कई घटनाएं आगे भी घटित हो सकती हैं...

      एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। भारतीय संसद पर आतंकी हमला की 22 वीं बरसी पर संसद के अंदर दर्शक दीर्घा से कूदकर सांसदों के बीच पहुंचकर हंगामा करने वाले दो युवकों को पकड़ने में नालंदा के सांसद कौशलेन्द्र कुमार भी थे।

      जब दोनों युवक संसद के मेज को लांघते हुए बेल तक पहुंचने की कोशिश कर रहे थे। इस बीच 10-12 सांसद आगे आकर दोनों युवक सागर और मनोरंजन को पकड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।

      इन सांसदों में नालंदा के सांसद कौशलेन्द्र कुमार भी थे। जब यह सीन विभिन्न राष्ट्रीय टीबी चैनलों के फुटेज नालंदा के लोगों ने देखा तो उनके भी रोंगटे खड़े हो गए। सांसद की बहादुरी को देखकर गर्व महसूस करने लगे।

      सांसद कौशलेन्द्र कुमार बताते हैं कि अचानक दर्शक दीर्घा से दो युवक नीचे कूदकर सांसदों के बीच पहुंच गये, उस समय बीजेपी के सांसद खगेन मुर्म मुख्य सदन में अपनी बात रख रहे थे। दोनों युवकों की इस हरक्कत से सदन में अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया।

      इसी बीच 10-12 सांसद ने अपनी जान की परवाह किये बगैर युवकों चारों ओर से घेर लिया, तब एक युवक ने अपने जूते से कुछ निकालकर सदन में पीले रंग बिखेर दिए। युवक ने उसके बाद जूते से निकाल कर स्प्रे कर पीला रंग फैलाया।

      बकौर खबर, सांसद ने बताया कि पकड़े गए युवक ‘संविधान बचाओ, तानाशाही नहीं चलेगी, महिलाओं पर अत्याचार नहीं चलेगा आदि जैसे नारे लगा रहे थे। यह सब कुछ चल ही रहा था, इस बीच स्पीकर ने सदन की कार्रवाई दोपहर के दो बजे तक स्थगित कर दिया।

      श्री कुमार के अनुसार नई संसद भवन में जो दर्शक दीर्घा बना हुआ है, वह सिनेमा हाल जैसा बना हुआ है। बालकनी बहुत ही नीचा है। इस घटना को देखते हुए ऐसी आशंका है कि भविष्य में ऐसी कई घटनाएं आगे भी घटित हो सकती हैं। पुराने संसद भवन में 12 दरवाजे हैं। वहीं इस नये संसद बिल्डिंग में केवल 8 दरवाजे ही हैं। जितने संसद सुरक्षा कमीं पहले थे, अब नहीं हैं।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!