अन्य
    Saturday, May 25, 2024
    अन्य

      नालंदा में सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार को लेकर भिड़े राजद विधायक और कार्यपालक अभियंता

      नालंदा (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के एकंगरसराय प्रखंड में एक सड़क निर्माण में कथित लूट-खसोंट को लेकर इस्लामपुर राजद विधायक राकेश कुमार रौशन और ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल हिलसा के कार्यपालक अभियंता व्रज किशोर प्रसाद आमने-सामने भिड़ गए हैं।

      RJD MLA and executive engineer clash over corruption in road construction in Nalanda 2विधायक ने जहां उक्त सड़क निर्माण में भारी अनियमियता और राशि का बंदरबांट को लेकर विभागीय अफसरों और ठेकेदार पर उच्चस्तरीय जाँच और प्राथमिकी दर्ज किए जाने की आवश्यकता जताई है, वहीं कार्यपालक अभियंता ने विधायक के आरोपों को निराधार बताते हुए पथ निर्माण में किसी प्रकार की अनियमियता से साफ इंकार किया है।

      दरअसल, सारा मामला एकंगरसराय प्रखंड के तेल्हाड़ा मनोहर बिगहा से मेदनी बिगहा पथ के निर्माण कार्य को लेकर है।

      ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल हिलसा के कार्यपालक अभियंता व्रज किशोर प्रसाद का कहना है कि मुख्यमंत्री संपर्क सड़क योजना के अंतर्गत तेलहड़ा मनोहर बिगहा से मेदनी बिगहा पथ अभी निर्माणाधीन है। पथ का कार्य अभी पूरा नहीं हुआ है।

      पथ में अलकतरा का कार्य बरसात होने एवं भारी वाहन के जाने के कारण कुछ जगह पर धंस गया है। जिसमें बरसात के मौसम के बाद सुधार करा लिया जाएगा। इस संबंध में संवेदक को पूर्व में ही निर्देश दिया जा चुका है।RJD MLA and executive engineer clash over corruption in road construction in Nalanda 1

      पथ में अलकतरा एवं पीसीसी के कार्य का अभी भुगतान नहीं किया गया है। पथ में आवश्यक सुधारोपरांत ही भुगतान की कार्रवाई की जाएगी एवं जीएसबी तथा डब्लूबीएम-3 की सामग्री की जाँच गुण नियंत्रण प्रयोगशाला, ग्रामीण विकास विभाग पटना से कराई गई है। जिसका जांचफल संतोषप्रद है। कहीं कोई गड़बड़ी नहीं की गयी है।

      वहीं बीते दिन इस्लामपुर विधायक राकेश कुमार रौशन ने एकंगरसराय प्रखंड के तेलहड़ा मनोहर बिगहा से मेदनी बिगहा पथ का निरीक्षण किया था और उसमें भारी गड़बड़ी को देखते हुए दोषी पदाधिकारी और ठेकेदार पर प्राथमिकी दर्ज करने की जरुरत बताई थी।

      विधायक के हवाले से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया था कि यह पथ मुख्यमंत्री संपर्क सड़क योजना के द्वारा करीब डेढ़ करोड़  रुपए की लागत से एक माह पूर्व बनाया गया है, लेकिन ठेकेदार और पदाधिकारी दोनों मिलकर सरकारी राशि का दुरुपयोग किया गया है।

      यह भी कहा गया था कि इस योजना का क्रियान्वयन भी डीपीआर के अनुसार नहीं है और मेटल जहां 70 फीसदी रहना चाहिए और डस्ट 30 फीसदी रहना चाहिए, वही, इस पथ में डस्ट ज्यादा और मेटल कम है।

      इस पथ का जहां कालीकरण किया गया है, उसमें बिना इमल्शन के ही कालीकरण कर दिया गया है, जिससे पथ अभी से ही उखाड़ना शुरू हो गया है और इस पथ को बनने के एक महीना बाद ही देखा जा सकता है कि पथ अभी जहां तहां दब गया है। उखाड़ रहा है।

      विधायक द्वारा इस पथ की जांच के क्रम में देखा गया कि पथ में बिना पुल पुलिया बनाए ही कार्य को पूर्ण कर दिया गाया है। जिससे किसानों के सामने पटवन की समस्या उत्पन हो गाया है और पदाधिकारी ने बिना जांच किये ठेकेदार को राशि का भुगतान कर सरकार के पैसे का बंदरबांट किया गया है।

      जांच के दौरान माननीय विधायक राकेश कुमार रोशन ने बताया कि इस पथ की जांच मुख्यालय स्तर से टीम बनाकर कराया जाए जाना चाहिए और दोषी पदाधिकारी और ठेकेदार पर प्राथमिक की दर्ज होनी चाहिए।

      2 COMMENTS

      Comments are closed.

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!