अन्य
    Sunday, July 21, 2024
    अन्य

      यूट्यूबर मनीष कश्यप के न्यायिक हिरासत से वायरल वीडियो मामले में 5 पुलिसकर्मी निलंबित

      पटना पुलिस ने काम में लापरवाही के लिए सभी 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। तीन दिन कोर्ट में पेशी के दौरान न्यायिक हिरासत में रहते हुए यूट्यूबर मनीष कश्यप ने पत्रकारों से बात की थी और विक्षिप्त सा कई आपत्तिजनक बयान दिये थे…

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। न्यायिक हिरासत में रहते हुए पटना न्यायालय परिसर से यूट्यूबर मनीष कश्यप का मीडियाकर्मियों को बात करने की इजाजत देना एस्कॉर्ट टीम के पांच पुलिसकर्मियों के लिए भारी पड़ गया है।काम में लापरवाही के लिए सभी पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। तीन दिन कोर्ट में पेशी के दौरान न्यायिक हिरासत में रहते हुए यूट्यूबर मनीष कश्यप ने पत्रकारों से बात की थी और कई आपत्तिजनक बयान दिये थे।

      यूट्यूबर मनीष कश्यप जब पत्रकारों से बात कर रहा था तो उनके एस्कॉर्ट टीम में शामिल पुलिसकर्मी वहीं साथ खड़े थे। ये पुलिस वाले मनीष को बेऊर जेल से लाने और ले जाने वाली एस्कॉर्ट टीम में शामिल थे।

      पुलिस मुख्यालय ने लिया था वीडियो पर संज्ञानः पटना के एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा है कि मामले में आगे भी जांच चल रही है। एस्कॉर्ट टीम में शामिल पुलिसकर्मियों से भी स्पष्टीकरण मांगा गया है।

      उन्होंने कहा कि मनीष कश्यप के बयान वाला वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया था। पुलिस मुख्यालय ने इस वीडियो पर संज्ञान लिया।

      आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी नैयर हसनैन खान ने बताया कि कोर्ट में पेशी के बाद मनीष कश्यप ने जो बातें न्यायिक हिरासत के दौरान कीं, उस पर पटना एसएसपी को पूरे प्रकरण की जांच करने का निर्देश दिया गया था।

      उन्होंने कहा कि जहां तक पुलिस की मौजूदगी में ये बात हुई है, तो ये कार्यक्षेत्र भी पटना पुलिस का है। एस्कॉर्ट पार्टी भी पटना पुलिस की ही थी। इसीलिए एसएसपी ने इस मामले में एस्कॉर्ट में शामिल सभी पुलिसकर्मियों से स्पष्टीकरण मांगा है।

      मानसिक रुप से विक्षिप्त दिखा था मनीष कश्यपः पटना के सिविल कोर्ट में 22 सितंबर को मनीष कश्यप की पेशी हुई थी। पेशी के बाद कोर्ट कैंपस में ही मनीष कश्यप ने प्रेस कान्फेंस कर लिया। कई यूट्यूबर्स उनकी बातों को रिकार्ड किया। इस दौरान वो काफी उग्र और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते दिखे।

      बिहार सरकार को टारगेट करते हुए मनीष कश्यप ने कहा था कि मुझे झुकाने का प्रयास किया जा रहा है। मगर, मैं फौजी का बेटा हूं। मैं मर जाऊंगा पर इन लोगों के आगे नहीं झूकूंगा। हाथ में लगी हथकड़ी को दिखाते हुए उसने कहा था कि ये हथकड़ी और ईमानदार आदमी के हाथ में लगी है। डेढ़ महीने से एक शब्द नहीं बोला है। कोर्ट में आता हूं और चुपचाप जाता हूं।

      तेजस्वी यादव को किया था टारगेटः वायरल फुटेज में मनीष कश्यप काफी कुछ कहते दिखाई देता हैं। वो कह रहा है कि आजाद देश के आजाद बिहार में ई नेता से डरेंगे हम।

      उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को टारगेट करते हुए कहा था कि हम चारा चोर के बेटा थोड़े ही है, जो हम डरेंगे। मनीष ने कहा कि बिहार के मजदूरों को मारा जाता है। सरकार देखती रहती है, फिर भी मनीष कश्यप को जेल में डाल दिया जाता है।

      उसने आगे कहा कि एमके स्टालिन के बेटा उदय निधि स्टालिन ने आग लगाया कि नहीं लगाया? उसे जेल में क्यों नहीं डाला जा रहा है? इसके अलावा भी न्यायिक हिरासत के दौरान उस दिन मनीष कश्यप ने बहुत सी आपत्तिजनक बातें कही थीं।

      संबंधित खबर
      error: Content is protected !!