अन्य
    Monday, April 15, 2024
    अन्य

      जमशेदपुर सामूहिक हत्याकांड को लेकर पुलिस का सनसनीखेज खुलासा, जानिए पूरा मामला

      वैसे इस सनसनीखेज हत्याकांड के बाद पूरा शहर हत्यारे को फांसी दिए जाने की मांग कर रहा है। जमशेदपुर एसएसपी ने भी भरोसा दिलाया है, कि पूरे मामले पर स्पीडी ट्रायल कराते हुए आरोपी को सख्त से सख्त सजा दिलाई जाएगी

      जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। पहले अपनी पत्नी, दो- दो मासूम नाबालिग बेटियों के बाद ट्यूशन टीचर की हत्या फिर उसके साथ दुष्कर्म। उसके बाद अपने बिजनेस पार्टनर पर जानलेवा हमला ये कोई इंसान नहीं कर सकता। ऐसा करने वाला निश्चित तौर पर सनकी हो सकता है, या साइको किलर।

      जमशेदपुर पुलिस कप्तान ने बीते 12 अप्रैल को कदमा थाना अंतर्गत तिस्ता रोड स्थित क्वार्टर नंबर 99 में हुए चोहरे हत्याकांड पर से पर्दा उठाते हुए सनसनीखेज खुलासे किए हैं।

      झारखंड के धनबाद से गिरफ्तार टाटा स्टील दमकल विभाग के कर्मचारी दीपक कुमार को शुक्रवार देर रात जमशेदपुर पुलिस अपने साथ शहर लेकर पहुंची। जहां पूरी रात सनकी हत्यारे से जमशेदपुर पुलिस ने पूछताछ की, और हत्यारे की निशानदेही पर टीचर की हत्या से पूर्व उसके हाथ पैर को बांधने में प्रयोग में लाया गया टेप, चाकू, 3 एटीएम कार्ड, घर को बंद कर लगाए गए ताले की चाबी, बुलेट की चाबी, पूरी और धनबाद के होटलों में रुकने की पर्ची, एक लाख रुपए नगद, पैन कार्ड, सादा चेक, एक मोबाइल और एक घड़ी बरामद किया।

      जमशेदपुर एसएसपी डाक्टर तमिलवानन ने बताया कि पूछताछ के क्रम में दीपक कुमार ने खुद को कर्ज में डूबा हुआ बताया।

      उन्होंने बताया, कि उसके बिजनेस पार्टनर प्रभु और उसके साले रौशन ने उसके घर द्वार बिकवा दिए, और उसे कर्जदार बना दिया। वह अपने पार्टनर प्रभु और उसके साले रोशन की हत्या करना चाहता था। साथ ही इस बात की भी चिंता थी, कि कहीं उन दोनों की हत्या के बाद उसके बीवी- बच्चे कहीं सड़क पर ना आ जाएं। इसलिए उसने अपनी बीवी वीणा कुमारी और दोनों मासूम बच्चों की हत्या कर डाली।

      जमशेदपुर एसएसपी के अनुसार हत्यारा पहले चाकू के बल पर ट्यूशन टीचर की स्कूटी लेकर अपने बिजनेस पार्टनर की हत्या की योजना बना रहा था। लेकिन जब ट्यूशन टीचर ने अपनी स्कूटी नहीं दी। तब वह सनक गया और पहले अपनी पत्नी उसके बाद बड़ी बेटी फिर छोटी बेटी और अंत में ट्यूशन टीचर की हत्या कर दी।

      उन्होंने बताया, कि हत्या के बाद वह पूरी रात अपने घर में ही रहा और ट्यूशन टीचर के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। सुबह घर में ताला लगा कर वह अपने ससुराल गया। वहां से अपनी पत्नी के गहने लेकर उसे तीन लाख रुपए में बेचने के बाद फिर घर आया।

      यहां से अपने बिजनेस पार्टनर को फोन कर बुलाया। जैसे ही बिजनेस पार्टनर और उसका साला उसके घर पहुंचा, उसने अपने बिजनेस पार्टनर पर भी जानलेवा हमला कर दिया। किसी तरह बच- बचाकर दोनों साला- बहनोई मौके से जान बचाकर भागने में सफल रहा। हालांकि प्रभु अभी भी इलाजरत है, और उसका इलाज टाटा मुख्य अस्पताल में चल रहा है।

      जमशेदपुर एसएसपी ने उसकी भूमिका की भी जांच किए जाने की बात कही। उन्होंने बताया, कि अगर हत्यारे का बिजनेस पार्टनर भी दोषी होगा तो उस पर भी कार्रवाई की जाएगी।

      उन्होंने बताया कि हत्याकांड को अंजाम देने के बाद दीपक राजनगर होते हुए चाईबासा उसके बाद राउरकेला बुलेट से गया। वहां उसकी बुलेट पंचर हो गई। फिर किराए की गाड़ी लेकर पूरी गया। 2 दिन पूरी में रुकने के बाद वह फिर किराए की गाड़ी से सरायकेला होते हुए रांची पहुंचा।

      वहां कुछ खरीदारी की फिर रामगढ़ होते हुए वह धनबाद पहुंचा। जहां कल बैंक में अपने भाई के खाते में पैसा जमा कराने के क्रम में वह गिरफ्तार कर लिया गया। कुल मिलाकर आर्थिक रूप से टूट जाने के कारण इस हत्याकांड को अंजाम दिए जाने की बात उन्होंने कही है।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!