अन्य
    Sunday, May 26, 2024
    अन्य

      एक करोड़ के घोटालेबाज बैंक मैनेजर गिरफ्तार, 200 खाताधारी को लगाया था चूना

      बैंक मैनेजर ने फर्जी चेक के जरिए उन कस्टमर्स के अकाउंट्स से अवैध तरीके से रुपयों की निकासी की। आरटीजीएस के जरिए उन रुपयों को अपनी पत्नी, पिता और दूसरे रिश्तेदारों के बैंक अकाउंट्स में ट्रांसफर किया

      एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। दक्षिण बिहार बैंक के ब्रांच मैनेजर रविशंकर कुमार को बक्सर की पुलिस ने पटना से गिरफ्तार किया है। बक्सर से आई पुलिस टीम ने बगैर पटना पुलिस को जानकारी दिए बोरिंग रोड के हिमगिरी अपार्टमेंट में छापेमारी की।

      वहां अपने परिवार के साथ रह रहे रविशंकर कुमार को गिरफ्तार किया और अपने साथ लेकर चली गई। गिरफ्तार किए गए मैनेजर पर एक करोड़ से अधिक के गबन का आरोप है।

      रविशंकर की पोस्टिंग दक्षिण बिहार बैंक के बक्सर जिले में आशा पड़री गांव के ब्रांच में थी। तब इन्होंने बैंक 200 से अधिक कस्टमर्स के अकाउंट में सेंधमारी की।

      फर्जी चेक के जरिए उन कस्टमर्स के अकाउंट्स से अवैध तरीके से रुपयों की निकासी की। आरटीजीएस के जरिए उन रुपयों को अपनी पत्नी, पिता और दूसरे रिश्तेदारों के बैंक अकाउंट्स में ट्रांसफर किया।

      इस घोटाले को रविशंकर चुपचाप तरीके से अपने कुछ खास लोगों की मदद से अंजाम दे रहा था। यह बात तब सामने आई, जब एक कस्टमर अपने अकाउंट से रुपए निकालने आशा पड़री ब्रांच पहुंचा था।

      यह बात पिछले सप्ताह की है। बैंक की तरफ से कस्टमर को कहा गया कि आपके अकाउंट में तो रुपए हैं नहीं। इसके बाद कस्टमर के होश उड़ गए थे।

      कस्टमर ने कहा कि जब रुपए निकाले ही नहीं, तो ऐसा कैसे हुआ? इसके बाद ही ब्रांच के अंदर हड़कंप मच गया। बात भभुआ स्थित रिजनल ऑफिस तक जा पहुंची।

      इसी बीच कुछ और कस्टमर्स के साथ भी ऐसा ही हुआ। जिसके बाद मामला पटना स्थित हेड ऑफिस तक जा पहुंचा। फिर इस मामले में बैंक ने अपनी विजिलेंस टीम से इंटरनल जांच कराई। जिसके बाद चौंकाने वाले खुलासे हुए।

      बैंक की विजिलेंस जांच के दरम्यान पूरी असलियत सामने आई। किस तरह से मैनेजर रविशंकर कुमार अपने कस्टमर्स के रुपयों को लूट रहा था, इसकी पूरी कहानी सामने आ गई थी। विजिलेंस टीम की जांच रिपोर्ट के आते ही बैंक ने रविशंकर को सस्पेंड कर दिया था।

      इस मामले में रीजनल मैनेजर विकास कुमार भगत ने बक्सर के सेमरी थाने में रविशंकर, उमेश सिंह, आरती देवी सहित कुल 5 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी तीन दिन पहले दर्ज कराई थी।

      पुलिस जांच में पता चला कि उमेश सिंह रविशंकर के पिता हैं और आरती उनकी पत्नी का नाम है। इनके अकाउंट्स में ही रविशकंर ने कस्टमर्स के अकांउट्स से फर्जी निकासी के बाद रुपयों को ट्रांसफर किया था।

      अब रविशंकर को बक्सर पुलिस ने दबोच लिया है। जो मैनेजर मूल रूप से पटना जिले के ही गोपालपुर इलाके का रहने वाला है। अब इस मामले में पुलिस उन लोगों पर भी दबिश बनाएगी, जिनके अकाउंट्स में रुपयों को ट्रांसफर किया गया था।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!