अन्य
    Sunday, May 26, 2024
    अन्य

      पुलिस मुठभेड़ में 15 लाख का ईनामी नक्‍सली ढेर, 4 हथियार बरामद

      माओवादियों के साथ सुरक्षाबल के जवानों की गोलीबारी हुई है। एक नक्सली के मारे जाने की सूचना मिली है घटनास्थल के लिए मुख्यालय से अतिरिक्त फोर्स भेजी गई है….डीआइजी, पलामू प्रक्षेत्र

      लातेहार (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। झारखंड के लातेहार जिले में के गारू थाना क्षेत्र स्थित कुकू पिरी जंगल में हुई माओवादियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में एक 15 लाख का ईनामी नक्‍सली मारा गया है।

      Naxalite bounty of 15 lakhs in police encounter 4 weapons recovered 2खबर है कि लातेहार के उक्त क्षेत्र में झारखंड जगुआर, 203 कोबरा बटालियन और सीआरपीएफ की एक कंपनी माओवादियों के खिलाफ अभियान चला रही है।

      लातेहार जिला के गारू थाना क्षेत्र के अंतर्गत कुकू-पिरी जंगल में शनिवार की सुबह 9 बजे पुलिस व प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के हथियारबंद दस्ते के बीच गोलीबारी हुई। इस गोलीबारी में सुरक्षाबल के जवानों की गोली से एक नक्सली ढेर हुआ है।

      गोलीबारी थमने के बाद इलाके में सर्च अभियान के दौरान सुरक्षाबल के जवानों ने चार हथियार समेत कई सामान भी बरामद किए। गोलीबारी के बाद से गारू समेत आसपास के ग्रामीण इलाके में भय का माहौल व्याप्त हो गया है।Naxalite bounty of 15 lakhs in police encounter 4 weapons recovered 1

      पुलिस सूत्रों के अनुसार नक्सलियों के विरुद्ध इलाके में छापेमारी के लिए 203 कोबरा बटालियन, 214 बटालियन सीआरपीएफ व झारखंड जगुआर के द्वारा अभियान चलाया जा रहा था।

      इसी बीच कुकू-पिरी जंगल में सुरक्षाबल के जवान आगे बढ़ रहे थे, तभी भाकपा माओवादी के कमांडर छोटू खरवार के दस्ता सदस्यों ने छि‍पकर गोलीबारी शुरू कर दी।

      इसके बाद सुरक्षाबल के जवानों ने भी मोर्चा लेकर जवाबी कार्रवाई में गोलीबारी शुरू की। एक घंटे तक रुक-रुक कर चली गोलीबारी के बाद नक्सलियों की टीम जंगल का लाभ उठाकर भाग गए।

      गोलीबारी स्थल जिले के घनघोर दुर्गम जंगली इलाके में है। सघन वन एवं पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण यहां दोपहर को 12 बजे तेज धूप के बाद भी अंधेरा छाया रहता है।

      इसके साथ ही जंगली रास्ते की जानकारी के बिना इस जंगल में मूवमेंट करना आसान नहीं है। जंगल से होते हुए समीपवर्ती राज्य छत्तीसगढ़ के इलाके में भी प्रवेश की सुगमता का लाभ नक्सली उठाते हैं।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!