अन्य
    Sunday, May 26, 2024
    अन्य

      लोकायुक्त जस्टिस डीएन उपाध्याय का कोरोना से दिल्ली एम्स में निधन

      झारखंड प्रदेश के लोकायुक्त जस्टिस डीएन उपाध्याय का निधन हो गया है। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद दिल्ली एम्स में उनका इलाज चल रहा था। जहां रात करीब 2.30 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली….

      रांची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क)। खबर है कि वे विगत 15 मई से कोरोना संक्रमित थे। उन्हें 18 मई को रांची के बरियातू स्थित रामप्यारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसके बाद उन्हें 25 मई को मेडिका अस्पताल ले जाया गया। जहां उनकी निरंतर बिगड़ती हालत के मद्देनजर 11 जून को एम्स दिल्ली में वेंटिलेशन पर भर्ती कराया गया।

      लोकायुक्त झारखंड के पद पर उनका एक साल का कार्यकाल शेष था। जस्टिस डीएन उपाध्याय 67 साल के थे। फरवरी 2022 में लोकायुक्त झारखंड के पद से सेवानिवृत्त होने वाले थे। झारखंड हाई कोर्ट के न्यायाधीश के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद पांच साल के लिए लोकायुक्त नियुक्त किये गए थे।

      जस्टिस ध्रुव नारायण उपाध्याय (डीएन उपाध्याय) का जन्म जमशेदपुर में 10 अगस्त 1954 को हुआ था। उन्होंने आर डी टाटा हायर सेकेंडरी स्कूल जमशेदपुर से स्कूलिंग की थी।

      इसके बाद उन्होंने कोऑपरेटिव कॉलेज जमशेदपुर से स्नातक करने के बाद वहीं से एलएलबी पूरा किया था। 3 जनवरी 1979 को उन्होंने जमशेदपुर सिविल कोर्ट से वकालत की शुरुआत की थी। वहां 1997 तक उन्होंने वकालत की।

      इस दौरान 1992 से 1996 तक वे जिला बार एसोसिएशन जमशेदपुर के महासचिव भी रहे। इसी अवधि में करीब 6 महीने तक को ऑपरेटिव कॉलेज जमशेदपुर के लॉ विभाग में अतिथि शिक्षक भी रहे।

      बिहार सुपीरियर न्यायिक सेवा के तहत वे मई 1997 में गिरिडीह के एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज बने। इसके बाद वे साहिबगंज गिरिडीह और धनबाद में जिला एवं सत्र न्यायाधीश बने।

      न्यायायुक्त रांची, ज्यूडिशल एकेडमी झारखंड के निदेशक, झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड के सीनियर लॉ एडवाइजर के बाद वे 27 अप्रैल 2011 को झारखंड हाईकोर्ट के एडिशनल जज बने।

      31 जनवरी 2013 को उन्होंने झारखंड हाई कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में शपथ ली थी। 9 फरवरी 2016 को वे झारखंड के लोकायुक्त नियुक्त किये गए। 13 फरवरी 2017 को उन्होंने लोकायुक्त का पद ग्रहण किया था।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!