अन्य
    Wednesday, July 24, 2024
    अन्य

      अब सभी थानों में फोन, वाट्सएप, ई-मेल के जरिए भी होगी शिकायत दर्ज

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार पुलिस अब आम जनता के लिए एक बड़ी सुविधा का क्रियान्वयन करने जा रही है। वर्षांत तक बिहार के सभी थानों में फोन, वाट्सअप और ई-मेल से शिकायत दर्ज करने की सुविधा मिलने लगेगी। पिछले एक साल में सभी थानों में सीसीटीएनएस की स्थापना कर दी गयी है। अब उनको ऑनलाइन न्यायिक व्यवस्था आइसीजेएस से जोड़ा जा रहा है, जिससे सभी पुलिस पदाधिकारी, न्यायालय, जेल व फॉरेंसिक प्रयोगशाला से जुड़ जायेंगे।

      एडीजी (मुख्यालय) जेएस गंगवार के अनुसार प्रशिक्षण के बाद नागरिकों को विभिन्न सेवाएं ऑनलाइन मिल सकेंगी और अनुसंधान, न्यायलय, जेल आदि के कार्य भी ऑनलाइन हो सकेंगे। सीसीटीएनएस की मदद से ऑनलाइन एफआइआर सहित नौ सेवाएं ऑनलाइन उपलब्ध होंगी। इसके तहत संबंधित पुलिस स्टेशन में फोन, वाट्सएप, इ-मेल से शिकायत दर्ज करना, शिकायतों की स्थिति प्राप्त करना है।

      इसके आलावे एफआइआर की प्रति प्राप्त करना, गिरफ्तार व्यक्तियों या अपराधियों की जानकारी प्राप्त करना, लापता एवं अपहरण व्यक्तियों की जानकारी प्राप्त करना, चोरी अथवा बरामद वाहनों हथियारों एवं अन्य संपत्तियों की जानकारी लेना, विभिन्न प्रकार के एनओसी के निर्गत व नवीकरण के लिए अनुरोध करना, नौकरी, रोजगार, पासपोर्ट, वरिष्ठ नागरिक पंजीकरण आदि के लिए अनुरोध करना और नागरिकों को विभिन्न फॉर्म डाउनलोड करने की सुविधा देना शामिल है।

      उन्होंने बताया कि पीड़ित या शिकायतकर्ता अपराध स्थल के परे कहीं से भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं, पर ऑनलाइन प्राथमिकी दर्ज करने के तीन दिनों के अंदर संबंधित थाने में आकर शिकायत पत्र पर हस्ताक्षर करना होगा। गंभीर महिला अपराध में शिकायत दर्ज करने से लेकर सारी कार्रवाई महिला पुलिस पदाधिकारी एवं महिला मजिस्ट्रेट करेगी। 90 दिनों में अनुसंधानकर्ता को जांच की प्रगति रिपोर्ट से पीड़ित को अवगत कराना होगा।

      प्रशिक्षण में वैज्ञानिक साक्ष्य संकलन की मिली जानकारी ज्ञान भवन में चले प्रशिक्षण कार्यक्रम में पुलिस पदाधिकारियों को तीन नये आपराधिक कानून भारतीय न्याय संहिता 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 और भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023 की विस्तृत जानकारी दी गयी।

      प्रशिक्षण में फॉरेंसिक साइंस एक्सपर्ट के अनुसार गंभीर अपराध के बाद घटनास्थल पर वैज्ञानिक साक्ष्य संकलन का तरीका क्या होगा? घटनास्थल की वीडियोग्राफी, फोटोग्राफी किस तरह की जानी है।

      अपराध में मोबाइल फोन, सोशल मीडिया, इंटरनेट मीडिया आदि के बढ़ते उपयोग को देखते हुए इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य संग्रह कर न्यायालय में पेश करने की मानक संचालन प्रक्रिया की जानकारी दी गयी।

      अब बिहार के इस जिले गई 39 बीपीएससी टीचरों की नौकरी, जाने फर्जीवाड़ा

      शिक्षा विभाग की वेतन कटौती मामले में नालंदा जिला अव्वल

      गजब! मगही भाषा में वोट गीत गाकर टॉप ट्रेंड हुईं अरवल की डीएम

      विम्स पावापुरी में सुपर स्पेशलिस्ट डॉक्टरों का टोटा, मरीजों की फजीहत

      शिक्षक भर्ती परीक्षा TRE 1.0 का एक अजीबोगरीब फर्जीबाड़ा आया सामने

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      संबंधित खबर
      error: Content is protected !!
      भयानक हादसा का शिकार हुआ तेजस्वी यादव का जन विश्वास यात्रा काफिला बिहार की गौरव गाथा का प्रतीक वैशाली का अशोक स्तंभ जमशेदपुर जुबली पार्क में लाइटिंग देखने उमड़ा सैलाब इस ऐतिहासिक गोलघर से पूरे पटना की खूबसूरती निहारिए