यूं कागजी सड़क बना 34.66 लाख डकार गए कार्य.अभियंता-एजेंसी-ठेकेदार !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। आगामी विधान सभा चुनाव को देखते हुए सत्तारुढ़ दल के विधायक-मंत्री उद्घाटनों-शिलान्यासों की बाढ़ ला दी है। सीएम नीतीश कुमार भी कार्य थोक भाव में ऑनलाइन कर रहे हैं। लेकिन ऐसी योजनाओं-घोषणाओं का जमीनी हाल कितना बदहाल है, इन तस्वीरों से इसका सहज आंकलन किया जा सकता है। सुशासन का विकास 15 साल की किशोरावस्था में इतना नंगा दिखेगा, लोग हतप्रद है।

यह हाल इसलामपुर प्रखंड के संडा पंचायत के गया रोड मुख्य मार्ग से गुङरू गाँव तक जाने वाली सड़क मार्ग का है। मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ अनुरक्षण कार्यक्रम के तहत इसका पक्की करण का निर्माण कार्य किया जाना था।

अब देखिए इस सड़क के कार्य प्रारंभ-समाप्ति की कथा कहती साइन बोर्ड को। जिस पर आरंभ की तिथि- 2/7/2019 एवं कार्य समाप्ति की तिथि 1/7/2020 बोर्ड पर अंकित है।

संवेदक का नाम मेसर्स मगध इंजीनियरिंग वर्क है। कार्यकारी एजेंसी- कार्यपालक अभियंता ग्रामीण कार्य विभाग, कार्य प्रमंडल, हिलसा है।

लेकिन अंकित तिथि के दौरान कोई सङक निर्माण कार्य तो दूर, कहीं कोई मरम्मत कार्य  तक नहीं हुआ है और निर्माण कार्य पूर्ण का सूचनापट्ट लगा दिया गया। कहा जाता है कि यह गोरखधंधा भी सीएम के ऑनलाइन उद्घाटनों की माला में शामिल है।

संडा पंचायत के पूर्व मुखिया अजय कुमार, ग्रामीण मुन्ना कुमार,शिवशंकर प्रसाद आदि आश्चर्यचकित हैं कि इस सङक का निर्माण कार्य जब हुआ ही नहीं, तो रातो रात ऐसे सूचनापट्ट कैसे लग गए।

इस बोर्ड को 2 दिन पहले किसने और कब लगाया, इसकी जानकारी किसी को नहीं है। लेकिन बोर्ड पर नजर पडते ही यह गड़बड़झाला समूचे क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया है।

इस संबंध में हिलसा अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि उन्हें ऐसे मामलों की कोई जानकारी नहीं है। सड़क की बातें कार्यपालक अभियंता से ही पूछिए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.