अन्य
    Wednesday, April 17, 2024
    अन्य

      बिहार सक्षमता परीक्षा पास नियोजित शिक्षकों के कागजात की पुनः जांच होगी, तब होगी नियुक्ति

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार शिक्षक सक्षमता परीक्षा में सफलता के बाद भी नियोजित शिक्षकों की कई स्तरों पर जांच होगी। परीक्षा के दरम्यान थंब इंप्रेशन लिया गया था। उसके बाद बायोमेट्रिक उपस्थिति के मिलान के अलावे सभी नियोजित शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की दोबारा जांच की जाएगी। इसके बाद ही सफल नियोजित शिक्षकों को जिला आवंटिक कर उनकी नियुक्ति की जाएगी।

      विभागीय जानकारी के अनुसार सक्षमता परीक्षा देने वाले सभी नियोजित शिक्षकों को नयी प्रक्रिया के तहत योगदान कराया जाएगा। परीक्षा समाप्ति के बाद अब परीक्षा में शामिल सभी शिक्षकों को अपने-अपने जिलों में जाकर थंब इंप्रेशन और बायोमेट्रिक मिलान कराना है।

      शिक्षा विभाग के निर्देश के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र लिखा है। साथ ही चयनित एजेंसी के माध्यम से सभी जिलों में ऑपरेटर सहित दो-दो मशीन दो महीने के लिए कार्यालय को उपलब्ध कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

      सक्षमता परीक्षा उत्तीर्णता के बाद सभी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों की विद्यालय आवंटन के पूर्व काउंसिलिंग होगी। इसमें उनके प्रमाणपत्रों की जांच की जाएगी। इसके अलावा अंगूठे का निशान और अन्य बायोमेट्रिक मिलान किया जाएगा।

      तीन बार कराया जाएगा मिलानः बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने कहा है कि सभी शिक्षक अभ्यर्थी का तीन बार थंब इंप्रेशन और बायोमेट्रिक मिलान किया जाना है। पहला परीक्षा केंद्र पर हो गया है। अब परीक्षा के बाद मूल प्रवेश शिक्षक अभ्यर्थी द्वारा संबंधित जिला के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना को समर्पित करना होगा।

      इस दौरान जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा शिक्षक अभ्यर्थी का थंब इंप्रेशन  और बायोमेट्रिक मिलान किया जाएगा। साथ में मूल प्रवेश पत्र को पोर्टल पर अपलोड कर मूल प्रवेश पत्र को कार्यालय में सुरक्षित रखा जाएगा।

      कई शिक्षक संगठन नहीं चाहते हैं दूसरे स्कूलों में स्थानांतरणः अभी भी कई नियोजित शिक्षक संगठन परीक्षा का विरोध कर रहे हैं। यही वजह है कि अभी तक 30 प्रतिशत शिक्षकों ने आवेदन नहीं किया है। वहीं हजारों शिक्षक ऐसे हैं जो जिला स्थानांतरण नहीं चाहते हैं। वे सेवानिवृत्ति के कगार पर हैं। वे परीक्षा से दूर भाग रहे हैं।

      खासकर महिला नियोजित शिक्षकों को दूसरे जिला में बदलाव की वजह से परेशानी ज्यादा होगी। इस वजह से परीक्षा में शामिल नहीं होना चाह रही हैं। वहीं इस परीक्षा में सफलता के बाद वेतन की राशि में ज्यादा अंतर नहीं हो रहा है। सिर्फ राज्यकर्मी का दर्जा मिलेगा।

      पांच चरणों में होगी परीक्षाः शिक्षा विभाग नियोजित शिक्षकों को सक्षमता परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए पांच मौका देगी। इसमें तीन मौका ऑनलाइन और दो मौका ऑफलाइन के माध्यम से देगी। पहले चरण में 2.32 लाख नियोजित शिक्षकों ने परीक्षा में शामिल हाने के लिए आवेदन किया।

      फिलहाल सक्षमता परीक्षा में कितने नियोजित शिक्षक शामिल हुए हैं, इसकी जानकारी अभी तक शिक्षा विभाग व बिहार बोर्ड ने साझा नहीं किया है। हालांकि वैसे नियोजित शिक्षक जो अब तक आवेदन ही नहीं किये हैं, उन्हें दोबारा मौका दिया जाएगा।

      जानकारी के अनुसार पहले चरण में प्राथमिक विद्यालयों के कम नियोजित शिक्षकों ने परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन किया। बिहार में नियोजित शिक्षकों की संख्या के अनुसार 70 प्रतिशत ही आवेदन किये थे।

      सक्षमता परीक्षा के अंकों के आधार पर होगा मेधा का निर्धारणः सक्षमता परीक्षा में अंकों के आधार पर मेधा का निर्धारण किया जाएगा। सक्षमता परीक्षा में जिन शिक्षकों को बेहतर अंक मिलेगा उन्हें मनपंसद जिला अवांटित किया जाएगा।

      वहीं जिन्हें कम अंक प्राप्त होगा, उन्हें रैंडमली जिला व स्कूल आवंटित किया जाएगा। जैसे बीपीएससी की ओर से शिक्षक नियुक्ति परीक्षा में किया गया है। नियोजित शिक्षकों से तीन जिलों का विकल्प लिया गया है। हालांकि शिक्षक संगठन इसका विरोध लगातार कर रहे हैं। (इनपुटः हिन्दुस्तान)

      दुमका स्पैनिश वुमन गैंगरेप मामले में अबतक 8 आरोपी गिरफ्तार

      साहिबगंज में मिला दुनिया का सबसे खतरनाक दुर्लभ प्रजाति का मछली, देखते ही मार दें!

      अब KK पाठक का गवर्नर से सीधा पंगा, सभी वीसी और रजिस्ट्रार का वेतन रोका, पूछा क्यों न हो FIR

      नालंदा में मातम में बदली शब-ए-बारात, 2 युवक की मौत, 3 युवक गंभीर  

      बिहार विधानसभा में बौखलाए CM नीतीश, कहा- RJD जिंदाबाद बोलेंगे, KK पाठक ईमानदार, नहीं हटाएंगे

      1 COMMENT

      Comments are closed.

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!