27.1 C
New Delhi
Sunday, September 26, 2021
अन्य

    धनबाद पुलिस ने बैंक मैनेजर की शक पर यूं दबोचा जमशेदपुर के दरींदे को, पत्नी, 2 बच्ची समेत ट्यूटर की हत्या की ये बताई वजह…

    रांची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। अपनी पत्नी दो मासूम बेटियों और शिक्षिका की हत्या करने के बाद फरार टाटा स्टील फायर ब्रिगेड कर्मी दीपक कुमार शुक्रवार को धनबाद पुलिस के सहयोग से दबोच लिया गया।

    बताया जाता है, कि गिरफ्तारी के वक्त उसके चेहरे पर कोई शिकन नहीं थी। पुलिस ने हत्यारे के पास से लगभग एक लाख नौ हज़ार रुपए भी बरामद किए हैं।

    गौरतलब है, कि टाटा स्टील फायर ब्रिगेड कर्मी दीपक कुमार ने बीते 10 और 11 मार्च के बीच अपनी पत्नी वीणा कुमारी, 8 साल की मासूम बेटी दीपा, 16 साल की बेटी शानवी और ट्यूशन टीचर रिंकी घोष की हत्या अपने कदमा तिस्ता रोड स्थित घर क्वार्टर नम्बर 97 में करने के बाद मौके से फरार हो गया था।

    घटना के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैल गई थी। जमशेदपुर पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी को लेकर इश्तेहार जारी कर इनाम घोषित कर दिया था। इश्तिहार जारी करने के 24 घंटे के भीतर हत्यारोपी धनबाद के सरायढेला थाना पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

    जिसे लेने जमशेदपुर सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट एवं दो अन्य पुलिस पदाधिकारी एवं तकनीकी सेल के पदाधिकारी धनबाद पहुंच चुके हैं। संभावना जताई जा रही है, कि उसे ट्रांजिट रिमांड पर लेकर देर रात जमशेदपुर पुलिस शहर पहुंच सकती है।

    बताया जाता है कि हत्यारा दीपक बैंक से पैसे लेनदेन के क्रम में हीरापुर स्थित एचडीएफसी बैंक से दबोचा गया है। गिरफ्तारी के वक्त दीपक आर्मी का पेंट और तिरंगा लगा हुआ काले रंग का टी शर्ट पहना हुआ था। उस वक्त उसके चेहरे पर किसी तरह का कोई शिकन नहीं देखा गया। न ही पुलिस को कोई मशक्कत करनी पड़ी।

    बताया जाता है कि वह हत्या कांड को अंजाम देने के बाद राउरकेला भाग गया था। कल रात वह धनबाद पहुंचा था। जहां उसने बरटांड़ स्थित होटल सूर्य विहार में चालक की आईडी पर कमरा ली थी।

    आज वह धनबाद पुलिस लाइन स्थित एचडीएफसी बैंक में डेढ़ लाख रुपए जमा कराने के बाद पुनः दोबारा पैसे जमा कराने के लिए वह लाइन में लगा था। इसी बीच बैंक मैनेजर दिनेश सिंह ने उसकी पहचान कर ली और इसकी सूचना धनबाद पुलिस को दे दी। 

    उन्होंने बताया कि पहली बार जब वह आया था उस वक्त उसने टोपी लगा रखी थी। जिससे सीसीटीवी में उसे पहचाना नहीं जा सका।

    उधर, धनबाद पुलिस को मामले की सूचना मिलते ही धनबाद एसपी ने जमशेदपुर पुलिस से संपर्क करते हुए उसकी गिरफ्तारी के आदेश दे दिए।

    उधर धनबाद पुलिस ने पहले बैंक को चारों तरफ से घेर लिया। उसके बाद उसे गिरफ्तार करने बैंक के अंदर प्रवेश किया। हालांकि पुलिस की हरकत देख हत्यारा तनिक भी विचलित नहीं हुआ, और बड़ी आसानी से धनबाद पुलिस को अपनी गिरफ्तारी दे दी।

    प्रारंभिक पूछताछ के क्रम में उसने खुद को कर्ज में डूबा हुआ बताया और इसके लिए अपने दोस्त को जिम्मेदार ठहराया। प्रारंभिक पूछताछ के क्रम में उसने बताया कि उसके पास जो भी पैसे थे, वह अपने भाई को दे कर आत्महत्या कर लेता।

    इसी उद्देश्य से वह बैंक में पैसे जमा करा रहा था। उसने बताया, कि वह अपने दोस्त की हत्या करना चाहता था। क्योंकि उसी के कारण व आर्थिक रूप से टूट चुका था और उसकी मनोदशा बिगड़ गई थी। उसे गाड़ियों में भारी भरकम नुकसान उठाना पड़ा था।

    फिलहाल, जमशेदपुर पुलिस उसे रिमांड पर लेने की तैयारी में जुटी हुई है संभावना जताई जा रही है कि देर रात तक हत्यारे दीपक को लेकर जमशेदपुर पुलिस शहर पहुंच जाएगी। वैसे जमशेदपुर पुलिस संभवत शनिवार को इस जघन्य हत्याकांड से पर्दा उठा सकती है।

    संबंधित खबरें

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    5,623,189FansLike
    85,427,963FollowersFollow
    2,500,513FollowersFollow
    1,224,456FollowersFollow
    89,521,452FollowersFollow
    533,496SubscribersSubscribe