अन्य
    Wednesday, April 17, 2024
    अन्य

      कसमार कस्तूरबा की महिला रात्रि प्रहरी की मौत पर भाई ने उठाए गंभीर सवाल, जांच की मांग

      रांची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। बोकारो जिले के कसमार कमलापुर स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय कसमार की महिला नाईट गार्ड सह हेल्पर की पद पर कार्यरत्त कुमारी सुनीता की मौत बीते मंगलवार को हृदयगति रुकने से हो गई।

      मौत के तीन दिन बाद मृतका हेल्पर कुमारी सुनीता के बड़े भाई नवेंदु कुमार ने चौकाने वाले तथ्य उजागर किया है।

      Brother raised serious questions in the death of Kasturbas female night watchman cum helper demand for investigation 1मृतका के भाई ने बताया कि जब उसने अपनी बहन के मोबाइल को खंगाला और उसके मेल बॉक्स की जांच की तो पिछले 12 जून की तिथि में झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद रांची, उपायुक्त बोकारो के ईमेल में भेजा गया 6 पन्नों के स्वलिखित मांग व शिकायती पत्र पाया। जिसमें उसकी मृत बहन कुमारी सुनीता ने कसमार कस्तूरबा की वार्डन व लेखपाल पर मानसिक शोषण का आरोप लगाया है।

      सुनीता ने पत्र में लिखा है कि वह 25 जुलाई 2016 से अपने पद पर कार्यरत्त है। 150 रुपए प्रति दिन की मजदूरी 24 घंटे की ड्यूटी करने के बावजूद पिछले डेढ़-दो वर्षों से उक्त दोनों वार्डन व लेखपाल द्वारा मानसिक शोषण किया गया।

      भाई नवेंदु ने बताया कि स्कूल में उपस्थिति के बावजूद कभी उसकी उपस्थिति (हाजरी) काट दी गई तो कभी उसके रहने खाने पर आपत्ति जताकर शोषण किया गया।Brother raised serious questions in the death of Kasturbas female night watchman cum helper demand for investigation 1

      और तो और वेतन बढ़ाने की मांग जब रात्रि प्रहरी सह हेल्पर ने लिखा है कि अप्रैल माह का वेतन सभी कर्मचारियों को दिया गया लेकिन मेरा मासिक मानदेय रोक दिया गया।

      जब उसने इसका विरोध किया तो वार्डन द्वारा लेखपाल को जिला से मनाही व उसके रात्रि प्रहरी व हेल्पर का पद बेमतलब का बताया गया। मासिक मानदेय को लेकर वार्डन कभी लेखपाल के पास भेज दिया तो लेखपाल ने वार्डन से सिफारिश की बात कही।

      Brother raised serious questions in the death of Kasturbas female night watchman cum helper demand for investigation 3

      मृतका कुमारी सुनीता के भाई नवेंदु ने बताया कि जब कभी उसकी बहन ने मानदेय बढ़ाने की बात कही तो उक्त दोनों वार्डन व लेखपाल के द्वारा फंड की दुहाई दी गई।

      बड़े भाई नवेंदु कुमार ने इस संदर्भ में झारखंड अंशकालिक शिक्षक सहकर्मी संघ के प्रदेश अध्यक्ष रितेश कुमार सिंह को बताया कि कसमार कस्तूरबा की वार्डन व लेखपाल ने उसकी मृतक बहन का न्यूनतम मजदूरी से भी कम मानदेय के बावजूद कोरोना काल में मानसिक शोषण किया है।

      नवेंदु ने संघ से कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय कसमार की महिला नाईट गार्ड सह हेल्पर कुमारी सुनीता की मौत मामले में सरकार की निष्पक्ष एजेंसी से जांच कर दोषियों पर कार्रवाई व मुआवजे की मांग किया है।

      भाई ने बताया कि उसके पति उसे पूर्व में छोड़ चुका है वहीं उसके दो छोटे छोटे बच्चे भी हैं।

       

       

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!