अन्य
    Monday, April 15, 2024
    अन्य

      मंत्री चंपई सोरेन ने भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में झारखंड पवेलियन का किया उद्घाटन

      नई दिल्ली (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। दुनिया के सबसे बड़े मेले में एक भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला प्रगति मैदान का आज से शुभारंभ हुआ। जी 20 समिट के बाद प्रगति मैदान में दूसरा बड़ा आयोजन किया जा रहा है। इस मेले में इस वर्ष की थीम वसुधैव कुटुंबकम् है। जिसमें झारखंड प्रदेश फोकस स्टेट के रूप में भाग ले रहा है। झारखंड अपने प्रदेश की गरिमामई उपस्थिति दर्ज करा रहा है।

      Minister Champai Soren inaugurates Jharkhand Pavilion in Indian International Trade Fair 2इस मेले में आज झारखंड के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवम पिछड़ा वर्ग कल्याण सह परिवहन मंत्री चंपई सोरेन ने झारखंड मंडप के आलावे भगवान बिरसा की पूजा अर्चना कर मंडप का शुभारंभ किया। इसके बाद मंत्री ने मंडप की सभी स्टॉल का अवलोकन किया और प्रदर्शित की गई सभी स्टालों को सराहा।

      इस अवसर पर मंत्री ने कहा की झारखंड प्रदेश अपने खनिज भंडार और संस्कृत के लिए जाना जाता है। हम अपने प्रदेश के सूक्ष्म और लघु उद्योग को बढ़ावा देने का पूर्ण प्रयास कर रहे है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला अपनी परंपरा, संस्कृति और क्षेत्रीय उत्पादों को राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शित करने का सुगम पटल है।Minister Champai Soren inaugurates Jharkhand Pavilion in Indian International Trade Fair 1

      इस अवसर पर झारखंड सरकार के उद्योग विभाग के सचिव जितेन्द्र कुमार सिंह, उद्योग निदेशक भोर सिंह यादव उपस्थित रहे।

      बता दें कि भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में उद्योग निदेशालय झारखंड सरकार द्वारा बनाए गए इस मंडप में क्षेत्रीय उत्पादों के 20 स्टॉल लगाए गए है। जिसमे लोग झारखंड से बनी वस्तुओं की प्रदर्शनी और क्रय कर सकेंगे।

      साथ ही झारखंड सरकार के लगभग 14 विभागों के स्टॉल लगाए गए है। जिसमे लोग विभाग के बारे में और योजनाओं की जानकारी ले सकेंगे।

      जानें क्या हुआ जब जुआ में पत्नी को हारकर जुआड़ी पहुंचा घर… !

      राज्य स्तरीय तैराकी प्रतियोगिता के साथ 29 खेलों का ‘खेलो झारखंड’ सम्पन्न

      दीपावली के दिन इस देश में धूमधाम से हुई कौए और कुत्ते की पूजा !

      यमुनोत्री नेशनल हाईवे की सुरंग धंसने से 36 मजदूर फंसे, बचाव कार्य जारी

      विश्व में एक ऐसा देश, जहाँ की राष्ट्रीय पुस्तक है रामायण

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!