अन्य
    Sunday, June 16, 2024
    अन्य

      राष्ट्रीय खेल दिवस पर बिहार गौरव सम्मान से सम्मानित हुए अमित राजन चन्द्रवंशी

      “अमित राजन चन्द्रवंशी ऑल इंडिया चन्द्रवंशी युवा एसोसिएशन के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हुए अनगिनत सामाजिक गतिविधियों का सफल आयोजन करवा चुके हैं। एक सामाजिक कार्यकर्ता के साथ साथ वे अच्छे साहित्यकार भी हैं, जिन्होंने अपनी लेखनी से हमेशा समाज को जागरूक करने का प्रयास किया है…

      पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार में राष्ट्रीय खेल दिवस के उपलक्ष्य में पूर्व संध्या आयोजित होने वाले 23वें बिहार सम्मान समारोह में अमित राजन को बिहार गौरव सम्मान (प्राइड ऑफ बिहार) से सम्मानित किया गया।

      बिहार पैरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन, स्पेशल ओलंपिक्स भारत-बिहार, बिहार डिसेबल्ड स्पोर्ट्स एकेडमी, इंडियन स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ सेरेब्रल पाल्सी, बिहार एसोसिएशन ऑफ पीडब्ल्यूडी, एक्शन फॉर ऑल और चाइल्ड कंसर्न संयुक्त रूप से उन लोगों के लिए “बिहार पुरस्कार समारोह 2023” का आयोजन कर रहा है, जिन्होंने खेल, साहित्य और अन्य सामाजिक कार्यों द्वारा देश-राज्य का मान बढाया हो।

      इस कार्यक्रम में खेलकूद में बेहतर प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी, सामाजिक व साहित्यिक क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करके बिहार का नाम रौशन करने वालों को उनकी प्रतिभा और उपलब्धि के अनुरूप सम्मान दिया गया।

      ज्ञात हो कि अमित राजन चन्द्रवंशी ऑल इंडिया चन्द्रवंशी युवा एसोसिएशन के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हुए अनगिनत सामाजिक गतिविधियों का सफल आयोजन करवा चुके हैं। एक सामाजिक कार्यकर्ता के साथ साथ वे अच्छे साहित्यकार भी हैं, जिन्होंने अपनी लेखनी से हमेशा समाज को जागरूक करने का प्रयास किया है।

      वे एक साहित्यकार के रूप में 2016 में रेलवे बोर्ड भारत सरकार द्वारा मैथिली शरण गुप्त, अंतर्राष्ट्रीय श्रीराम सम्मान, कबीर पुरस्कार, कबीर कोहिनूर सम्मान आदि सम्मान से सम्मानित हो चुके हैं।

      इनकी स्वरचित कृतियों में से मुट्ठी भर सावन (काव्य संग्रह), जरासंधवंशी (आलोचनात्मक इतिहास वर्णन), तीसरा वजूद (किन्नरों की समस्या को दर्शाता उपन्यास) व अन्य प्रमुख है। हिन्दी के कई पत्रिका व साक्षा पुस्तकों में इनकी रचनाएँ प्रकाशित हो चुकी है, वही बांग्ला भाषा में भी कई साक्षा पुस्तकों में इनकी रचना शामिल की गयी है।

      हिन्दी और बांगला भाषाओं के बीच समन्वय स्थापित करते हुए मैत्री संबंध स्थापित करने हेतु विभिन्न साहित्यिक मंचों द्वारा भी बंगाल के कई प्रमुख सम्मान इनके नाम है।

      इन्होंने बांग्ला गर्व सम्मान, खुदीराम बोस सम्मान, विश्व बांग्ला साहित्य अकादमी द्वारा नरेश चंद्र रॉय स्मरणोत्सव 2023 सम्मान, कार्पोरेट मंत्रालय व नवजागरण साहित्य परिवार के संयुक्त सहयोग द्वारा शिक्षा सम्मान, बांग्ला साहित्य अकादमी कलकत्ता द्वारा गीतांजलि सम्मान व अन्य प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त कर दूसरे प्रदेश में बिहार राज्य का नाम गर्वान्वित किया है।

      उक्त कार्यक्रम पटना के सोन भवन में आयोजित किया गया। सभी प्रतिभागियों को बिहार उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ जी के द्वारा मोमेंटो और सम्मान पत्र देकर सम्मानित दिया गया।

       

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!