सुप्रियो भट्टाचार्य जी, अब आपकी सरकार है, 9 करोड़ के घोटाले का आरोपी अभियंता श्वेताभ पर होगी प्राथमिकी ?

2016 में जेएमएम के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने श्वेताभ कुमार के खिलाफ सूचना अधिकार अधिनियम के तहत ने मांगी थी सूचनाएं। बीत गए चार साल। अभी DSD में ENGINEER IN CHIEF हैं श्वेताभ...

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (इंद्रदेव लाल)। झारखंड सरकार में अक्सर लंबे समय से घपले-घोटालों के आरोपी इंजीनियरों के खिलाफ मामले लंबित रहते हैं। उनके सीआर को नजरअंदाज कर ऐसे इंजीनियरों को प्रमोट करने का काम भी लंबे समय से चला आ रहा है।

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के इंजीनियर इन चीफ श्वेताभ कुमार के साथ भी ऐसा ही होता आ रहा है। ऐसे इंजीनियरों के अनियमितताओं से भरे कार्यकलापों को लेकर सूचना अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई सूचना को भी दबाने का काम कर दिया जाता है।

श्वेताभ के खिलाफ सुप्रियो ने मांगी थी सूचनाः बता दें कि पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के इंजीनियर इन चीफ श्वेताभ कुमार के खिलाफ जेएमएम के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने 20 सितंबर 2016 को पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के जन सूचना पदाधिकारी से उनके कार्यों की अनियमितताओं को लेकर कई बिंदुओं पर सूचना मांगी थी। मजेदार बात देखिए कि चार साल बीत गए, लेकिन मांगी गई सूचना का क्या हुआ, ये राम जानें।

जानिए, सुप्रियो ने क्या-क्या सूचनाएं मांगी थीः मांगी गई सूचना के अनुसार धनबाद में जलापूर्ति योजना का कार्य संवेदक नागार्जुन कंपनी द्वारा कराने के संदर्भ में निम्न बिंदुओं सूचना उपलब्ध कराने का सुप्रियो भट्टाचार्य ने आग्रह किया था।

मांगी गई सूचना के अनुसार नागार्जुन द्वारा किए गए कार्य के एकरारनामा के अनुसार संवेदक को भुगतान की गई राशि का पूर्ण विवरण के साथ एकरारनामे के प्रावधान एवं एकरारनामे कराने और साथ ही कार्य समाप्ति की तिथि की छायाप्रति उपलब्ध कराने की मांग की थी।

मांगी गई अन्य सूचनाएं: – दावा पुस्तिका एवं भुगतान प्रलेख की छायाप्रति के साथ निर्माण कार्य के स्थल की मानकता और सुनिश्चित स्थल का विवरण और दावे को स्वीकृत करनेवाले पदाधिकारी का नाम के अलावा स्वीकृति की तिथि की छायाप्रति।

-नागार्जुन द्वारा किए गए एकरारनामे के अनुसार समय-समय पर विभागीय अभियंता और कार्यपालक अभियंता उमेश गुप्ता द्वारा निगरानी विभाग को प्रेषित पत्र की छायाप्रति।

-संवेदक द्वारा संपन्न किए गए कार्यों की गुणवत्ता एवं सफलता के संबंध में कबतक सक्षम पदाधिकारी द्वारा अभिप्रमाणित की गई एवं किसी भी प्रकार की कोई अनियमितता और असंतोषजनक मंतव्य प्रेषित किया गया हो, तो उसका पूर्ण विवरण के साथ दायित्व प्राप्त सक्षम विभागीय अधिकारी या अभियंता पर हुई कार्रवाई की पूर्ण विवरण की छायाप्रति।

-धनबाद के डॉ. सी के सिंह द्वारा उपरोक्त संवेदक द्वारा किए गए कार्य के आलोक में की गई शिकायत एवं साथ उक्त शिकायत पर विभाग द्वारा की गई कार्रवाई की छायाप्रति।

– तत्कालीन जलसंसाधन मंत्री कमलेश सिंह द्वारा 20 सूत्री की बैठक में धनबाद जलापूर्ति के संबंध में की जांच के आदेश से संबंधित सभी आरोपों की छायाप्रति।

– धनबाद जलापूर्ति योजना के दौरान पाइपलाइन बिछाने में रॉक कटिंग का जो भुगतान किया गया, वह स्थल लेखा में किया गया या नहीं? माप पुस्तिका की छायाप्रति उपलब्ध कराने और साथ ही रॉक कटिंग के दौरान निकाले गए रॉक के रखरखाव कहां और किस प्रकार किया गया और उसका विवरण किस खाते में उल्लेखित है?, की छायाप्रतियां।

नागार्जुन से श्वेताभ कुमार का कनेक्शनः उल्लेखनीय है कि पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के इंजीनियर इन चीफ श्वेताभ कुमार और धनबाद में रहे पूर्व कार्यपालक अभियंता श्वेताभ कुमार पर धनबाद शहरी जलपूर्ति योजना का काम कर रहे कम्पनी नागार्जुन के साथ मिल कर लगभग 9 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप है।

पूर्व जलसंसाधन मंत्री और बीस सूत्री के अध्यक्ष रहे कमलेश सिंह के आदेश पर गठित कमेटी द्वारा पकड़े जाने पर धनबाद के तत्कालीन डीसी सुनील वर्णबाल द्वारा संवेदक एवं धनबाद के कार्यपालक अभियंता रहे श्वेताभ कुमार पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था।

सूत्र बताते हैं कि श्वेताभ कुमार पैसा एवं पैरवी के बल मामले को दबाने में सफल हो गए हैं। इसके बाद उन्होंने अपना तबादला रांची करवा लिया।

अभियंता उमेश कुमार गुप्ता को कुछ भी याद नहीं: श्वेताभ कुमार के कार्यकलापों के खिलाफ उस समय विभाग में पदस्थापित रहे कार्यपालक अभियंता  उमेश कुमार गुप्ता द्वारा निगरानी को पत्र लिखकर सूचित किया था कि संवेदक इकरारनामा के अनुसार कार्य नहीं कर रहा है। उन्होंने निगरानी से इसकी जांच की मांग की थी।

बताते चलें कि जब इस बाबत उमेश गुप्ता से जानने की कोशिश की गई, तो उन्होंने कहा कि उन्हें इतने पुराने मामले की जरा भी याद नहीं है। उन्होंने कहा कि बताना मुश्किल है इस काम में फर्जी विपत्र बना कर 9 कड़ोड़ रुपये का घोटाला किया गया था।

इसकी पुष्टि जेएमएम के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने 2016 में सूचना अधिकार कानून के तहत मांगी सूचना में उमेश गुप्ता के बारे में स्पष्ट उल्लेख किया है। लेकिन 4 चार साल बाद ही वे सब कुछ भूल गए हैं। शायद इतने दिनों बाद सुप्रियो भी इस मामले को भूल गए होंगे?

सुप्रियो को अबतक जवाब क्यों नहीं मिला? : बताया जाता है कि श्वेताभ कुमार को पता है कि अभी सरकार किसकी है, तो उधर सुप्रियो को भी पता है कि धनबाद में रहते हुए उन्होंने घपला किया था।

सवाल उठता है कि सुप्रियो को सूचना अधिकार अधिनियम के तहत अगर अबतक जवाब नहीं मिला है, पर जेएमएम की सरकार में एक 9 करोड़ का घोटाला करनेवाला इंजीनियर श्वेताभ कुमार सुप्रियो की नजर अबतक कैसे बचा हुआ है, यह समझ से परे है।

भले श्वेताभ कुमार के खिलाफ धनबाद में एफआईआर दर्ज हुए 6 साल बीत गए हैं, लेकिन आज तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई, ये बड़ा सवाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Latest News

पार्टी नेत्री को शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोपी कांग्रेस नेता अंततः गिरफ्तार

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला खरसावां जिला के आदित्यपुर थाना पुलिस ने कांग्रेस नेत्री लक्खी कुमारी की शिकायत पर शादी का झांसा देकर यौन...

प्रसिद्ध मां दिउड़ी मंदिर की दान-पेटी पर प्रशासन ने जड़ा अपना ताला !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  भारत प्राचीन सभ्यताओं को सहेजने वाला देश है और उसे समेटे रहने में मंदिरों का विशेष योगदान है। झारखंड की...

यहां पुलिस के अफसर-जवान-चौकीदार करवा रहे थे गौ तस्करी, पांच गए जेल

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)।  सरायकेला-खरसावां जिले के आदित्यपुर थाना अन्तर्गत गम्हरिया प्रखंड कार्यालय के समीप शुक्रवार को गौ रक्षकों द्वारा दबोचे गए मवेशियों से...

बिडवंनाः यहां भर नवरात्र जिस माँ की होती है अराधना, उन्हीं के स्वरुप नारी का प्रवेश वर्जित !

बिहार शरीफ (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। एक ओर हमारा समाज माँ देवी की अराधना करते हैं वहीं, दूसरी ओर इन्हीं महिलाओं को मंदिर में जाने...

यौन शोषण पीड़ित कांग्रेसी नेत्री ने मुख्यमंत्री से लगाई फरियाद, आरोपी कांग्रेसी नेता सपरिवार हुआ भूमिगत, पुलिस ने झाड़ा पल्ला

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला-खरसावां यूथ इंटक की जिला उपाध्यक्ष सह राजीव गांधी ऑल इंडिया कांग्रेस महिला इकाई की प्रदेश अध्यक्ष लखी कुमारी के...

Popular News

…और नालंदा एसपी के जोर से यूं टूट कर जमीं पर गिरा राष्ट्रीय ध्वज !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  बिहार के नालंदा जिला पुलिस मुख्यालय बिहार शरीफ में उस समय अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई, जब एसपी नीलेश कुमार...

सरायकेला डीसी के झूठ की वजह से हुई हेमंत सरकार की किरकिरी

सरायकेला (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। एक तरफ झारखंड के मुख्यमंत्री वैश्विक संकट के इस दौर में झारखंडियों और प्रवासी मजदूरों के मामले में मसीहा...

भ्रष्टाचार का अड्डा है नालंदा थाना, अब दरोगा की रिश्वत मांगते-लेते हुए वीडियो वायरल

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के थानों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। आम तौर पर कहा जाता...

पीत पत्रकारिताः सच देखने के पहले सुनिए News11 की झूठ

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क।  देश की पत्रकारिता को कलंकति करने के मामले में झारखंड से एक और नाम जुड़ गया है। निश्चित तौर पर...

किसान चैनलः बजट 45 करोड़ और ब्रांड एंबेसडर बने अमिताभ को मिले 6.31 करोड़!

किसानों के कल्याण के लिए हाल में शुरू हुए दूरदर्शन के किसान चैनल मामले में हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ है। बताया जा...
Don`t copy text!