अन्य
    Sunday, April 14, 2024
    अन्य

      55 हजार नगद घूस लेते रंगे हाथ धराया पूर्णिया का श्रम अधीक्षक आलोक रंजन

      55 हजार रुपये लेकर श्रम अधीक्षक के हाथ में सहायक मनोज कुमार ने सौंपा ही था कि निगरानी विभाग की टीम ने उन्हें रंगे हाथ पकड़ लिया। टीम में प्रशिक्षु डीएसपी समीर चंद्र झा, इंस्पेक्टर संजय कुमार चतुर्वेदी, शशिकांत कुमार समेत अन्य लोग शामिल थे

      एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। पटना निगरानी विभाग की टीम ने पूर्णिया के श्रम अधीक्षक आलोक रंजन और उनके सहायक मनोज कुमार को 55 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए कार्यालय से रंगे हाथ दबोचा है। निगरानी विभाग की टीम पूछताछ करने के बाद दोनों को पटना लेकर रवाना हो गई है।

      इस संदर्भ में निगरानी विभाग के डीएसपी अरुण पासवान ने बताया कि बेलोरी एनएच 31 के समीप स्थित एक निजी फर्नीचर शोरूम के एचआर मैनेजर विजय कुमार के द्वारा लिखित आवेदन निगरानी विभाग की टीम को दी गई थी।

      जांच पड़ताल के दौरान मामला सत्य पाया गया था। इसी क्रम में शुक्रवार को श्रम अधीक्षक आलोक रंजन और उनके सहायक मनोज कुमार को 55 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए बियाडा स्थित संयुक्त श्रम भवन के कार्यालय से गिरफ्तार कर लिया गया है।

      उन्होंने बताया कि फर्नीचर शोरूम का निर्माण वर्ष 2003 में हुआ था। बने भवन के एवज में नगर निगम को लेबर सेस 1 प्रतिशत जमा करना था, जिसकी कुल राशि 1 लाख 99 हजार 560 रुपया हुआ था।

      जब एचआर मैनेजर ने श्रम अधीक्षक के कार्यालय में लेबर सेस के रूप में डीडी बना कर जमा किया तो श्रम अधीक्षक के सहायक मनोज कुमार ने कहा कि 50 हजार रुपया श्रम अधीक्षक के लिए रिश्वत और दस हजार रुपया लेबर लाइसेंस का अलग से देना पड़ेगा।

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!