बिहार में महाजंग का ऐलान, 3 चरणों में होंगे चुनाव, लेकिन यूं बदले-बदले होंगे नजारे…!

मुख्य चुनाव आयुक्त ने चुनाव की तारीखों की घोषणा करते हुए बताया कि चुनाव 3 चरणों में कराया जाएगा..

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (चुनाव डेस्क)। आज शुक्रवार को 12:30 बजे बिहार विधान सभा चुनाव- 2020 का ऐलान-ए-जंग हो गया।

भारतीय निर्वाचन आयोग द्वारा दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के चुनाव की तारीखों की घोषणा करते ही बिहार में आदर्श आचार संहिता भी लागू हो गया।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने चुनाव की तारीखों की घोषणा करते हुए बताया कि चुनाव 3 चरणों में कराया जाएगा। पहले चरण के तहत 16 जिलों के 71 सीटों पर चुनाव कराया जाएगा। दूसरे चरण के तहत 17 जिलों के 94 सीटों पर चुनाव कराया जाएगा। तीसरे चरण के तहत 15 जिलों के 78 सीटों पर चुनाव कराया जाएगा।

पहले चरण की अधिसूचना 1 अक्टूबर को जारी होगी। नामांकन की आखिरी तारीख 8 अक्टूबर है। 28 अक्टूबर को होगा पहले चरण का मतदान। 3 नवंबर को दूसरे चरण व 7  नवंबर को तीसरे चरण का मतदान होगा। इसके साथ ही 10 नवंबर को चुनाव परिणाम आएंगे। किसी भी प्रकार का चुनाव प्रचार वर्चुअल मूड पर ही होगा।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि बिहार में कुल सूचीबद्ध मतदाता 7.79 करोड़ हैं। इनमे से 3.79 करोड़ पुरुष एवं 3.39 करोड़ महिला मतदाता हैं।  वहीं मतदान का वक्त एक घंटा बढ़ाया गया है। 7 से 6 बजे के बिच वोटिंग होगी। 1.89 लाख बैलेट यूनिट ईवीएम का इंतेज़ाम किया गया है।

आयुक्त ने कहा कि बिहार में 243 सीटें हैं। 38 सीटें आरक्षित हैं। हमने एक पोलिंग बूथ पर वोटरों की संख्या 1500 की जगह 1000 रखने का फैसला किया था।

2015 में पिछले विधानसभा चुनाव के वक्त 6.7 करोड़ वोटर थे। अब 7.79 करोड़ वोटर हैं। नामांकन में दो से ज्यादा गाड़ियों का इस्तेमाल पर प्रतिबन्ध रहेगा। हालांकि देश में पहली बार चुनाव में नामांकन ऑनलाइन रूप से भी दाखिल कार्य जा सकेगा। कोरोना मरीजों को आखिर में वोट डालने की व्यवस्था होगी।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि बिहार चुनाव देश के सबसे बड़े राज्यों में है और ये चुनाव कोरोना काल का सबसे बड़ा चुनाव है। इसे लेकर काफी मंथन किया गया। कोरोना संकट के कारण दुनियाभर के 70 देशों में चुनावों को टाला गया है।

कोरोना के चलते नए सुरक्षा मानकों के तहत चुनाव होंगे। पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की संख्या घटाई जाएगी। एक बूथ पर एक हजार मतदाता होंगे। साथ ही बिहार चुनाव में इसबार एक लाख से ज्यादा पोलिंग स्टेशन होंगे।

उन्होंने कहा कि चुनाव नागरिकों का लोकतांत्रिक अधिकार है। इसलिए चुनाव कराने जरूरी हैं। चुनाव में 6 लाख फेस शिल्ड, 6 लाख पीपीई किट, सात लाख सैनिटाइज़र, 46 लाख मॉस्क, 23 लाख हैंड ग्लव्स का इंतेज़ाम किया गया है।

कोरोना संकट आने के बाद देश में ये पहला चुनाव है लिहाजा निर्वाचन आयोग ने कोविड प्रोटोकॉल के मुताबिक, गाइडलाइन्स भी जारी की है। मतदान केंद्रों की तादाद भी डेढ़ गुना से ज्यादा बढ़ा दी गई है। मतदान कर्मियों की संख्या भी बढ़ाई गई है,जबकि हर मतदान केंद्र पर मतदाताओं की तादाद घटा कर सीमित कर दी गई है।

सभी मतदान केंद्रों पर मतदाताओं को मास्क लगाकर और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करके आने को कहा गया है, लेकिन एहतियातन प्रत्येक मतदान केंद्र पर मास्क, हैंडफ्री सेनेटाइजिंग और शरीर का तापमान मापने के इंतजाम किए जा रहे हैं। मतदान शुरू होने से पहले बूथ को पूरी तरह से सैनिटाइज कर डिसइनफेक्ट करने की भी सख्त हिदायत दी गई है।

कोरोना संक्रमण के चलते चुनाव आयोग की तरफ से उठाए गए कई ऐहतियाती कदमों के बाद उम्मीदवारों के नामांकन के लिए चुनाव आयोग मोबाइल ऐप पर काम कर रहा है।

इसके जरिए उम्मीदवार नामांकन दाखिल करने के साथ ही सिक्योरिटी भी जमा करा पाएंगे। ऐप को महत्वपूर्ण बिहार चुनाव से पहले जारी किया जा सकता है, जहां पर नवंबर में विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है।

ऐसा पहली बार होगा जब उम्मीदवारों को ऑनलाइन नामांकन की इजाजत दी जाएगी। देश में कोरोना के मामले 57 लाख के पार हो चुके हैं। ऐसे में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए पिछले महीने चुनाव आयोग की तरफ से मतदान, मतगणना और चुनाव प्रचार को लेकर नियमों में कई बदलावों के ऐलान किए गए थे।

पूरे मामले से वाकिफ ने बताया, “ऐप के जरिए उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन दाखिल कर पाएंगे। हालांकि, यह वैकल्पिक होगा। अगर कोई उम्मीदवार ऑफ लाइन नामांकन करना चहता हैं तो वे उसके लिए स्वतंत्र हैं।”

भुगतान के लिए इस ऐप को भीम यूपीआई टेक्नॉलोजी से जोड़ा जा सकता है। सामान्य कैटगरी के उम्मीदवार को चुनाव लड़ने के लिए जमानत राशि के तौर पर दस हजार रुपये जमा कराना होता है, जबकि अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति को 5 हजार रुपये जमा करना होता है।

ये पैसे रिफंडेबल होते हैं बशर्ते को वह उम्मीदवार वैध मतों खाते में के कुल वोटों का छठवां हिस्सा न पड़ा हो। ऐसे में उम्मीदवार की जमानत राशि जब्त हो जाती है। हालांकि, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन ऐप ही एक मात्र ऐसा नहीं है, जिसे चुनाव आयोग बिहार चुनाव में लगाने की तैयारी कर रहा है।

एक अन्य ऐप को चुनाव आयोग पहले ही लांच कर चुका है, जिससे रियल टाइम डेटा एनालिसिस और भीड़ के प्रबंधन को लेकर इस्तेमाल किया जाएगा।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में इस ऐप का इस्तेमाल किया गया था। सूत्र ने बताया, प्रत्येक मतदाता पर्ची क्यूआर कोड के साथ आती है जिसे ऐप से स्कैन किया होता है, जो हर विधानसभा क्षेत्र का घंटे के हिसाब से डेटा देता है। इससे भीड़ के प्रबंधन में भी मदद मिलती है, क्योंकि इस समय सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के चलते यह आवश्यक हो गया है।

बिहार विधानसभा में कुल 243 विधानसभा सीटें हैं। इस वक्त भाजपा और जदयू का गठबंधन सत्ता में है। राजद बिहार में अभी सबसे बड़ी पार्टी है, जिसके पास 73 सीटें हैं। लेकिन नीतीश कुमार की जदयू ने 2017 में आरजेडी से गठबंधन तोड़कर भाजपा के साथ सरकार बनाई है।

बिहार में एक बार फिर चुनावी जंग एनडीए और महागठबंधन के बीच लड़ी जानी है। भाजपा की ओर से ऐलान किया गया है कि एनडीए नीतीश कुमार की अगुवाई में ही चुनाव लड़ेगा।

एनडीए ( कुल सीटें- 130)

  • जदयू – 69
  • भाजपा – 54
  • लोजपा – 2
  • हम – 1
  • निर्दलीय – 4

महागठबंधन (कुल सीटें 101)

  • राजद – 73
  • कांग्रेस – 23
  • सीपीआई (ML) – 3
  • निर्दलीय – 1

अन्य

  1. AIMIM – 1
  2. खाली सीटें – 12

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Latest News

पार्टी नेत्री को शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोपी कांग्रेस नेता अंततः गिरफ्तार

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला खरसावां जिला के आदित्यपुर थाना पुलिस ने कांग्रेस नेत्री लक्खी कुमारी की शिकायत पर शादी का झांसा देकर यौन...

प्रसिद्ध मां दिउड़ी मंदिर की दान-पेटी पर प्रशासन ने जड़ा अपना ताला !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  भारत प्राचीन सभ्यताओं को सहेजने वाला देश है और उसे समेटे रहने में मंदिरों का विशेष योगदान है। झारखंड की...

यहां पुलिस के अफसर-जवान-चौकीदार करवा रहे थे गौ तस्करी, पांच गए जेल

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)।  सरायकेला-खरसावां जिले के आदित्यपुर थाना अन्तर्गत गम्हरिया प्रखंड कार्यालय के समीप शुक्रवार को गौ रक्षकों द्वारा दबोचे गए मवेशियों से...

बिडवंनाः यहां भर नवरात्र जिस माँ की होती है अराधना, उन्हीं के स्वरुप नारी का प्रवेश वर्जित !

बिहार शरीफ (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। एक ओर हमारा समाज माँ देवी की अराधना करते हैं वहीं, दूसरी ओर इन्हीं महिलाओं को मंदिर में जाने...

यौन शोषण पीड़ित कांग्रेसी नेत्री ने मुख्यमंत्री से लगाई फरियाद, आरोपी कांग्रेसी नेता सपरिवार हुआ भूमिगत, पुलिस ने झाड़ा पल्ला

जमशेदपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। सरायकेला-खरसावां यूथ इंटक की जिला उपाध्यक्ष सह राजीव गांधी ऑल इंडिया कांग्रेस महिला इकाई की प्रदेश अध्यक्ष लखी कुमारी के...

Popular News

…और नालंदा एसपी के जोर से यूं टूट कर जमीं पर गिरा राष्ट्रीय ध्वज !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  बिहार के नालंदा जिला पुलिस मुख्यालय बिहार शरीफ में उस समय अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई, जब एसपी नीलेश कुमार...

सरायकेला डीसी के झूठ की वजह से हुई हेमंत सरकार की किरकिरी

सरायकेला (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। एक तरफ झारखंड के मुख्यमंत्री वैश्विक संकट के इस दौर में झारखंडियों और प्रवासी मजदूरों के मामले में मसीहा...

भ्रष्टाचार का अड्डा है नालंदा थाना, अब दरोगा की रिश्वत मांगते-लेते हुए वीडियो वायरल

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के थानों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। आम तौर पर कहा जाता...

पीत पत्रकारिताः सच देखने के पहले सुनिए News11 की झूठ

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क।  देश की पत्रकारिता को कलंकति करने के मामले में झारखंड से एक और नाम जुड़ गया है। निश्चित तौर पर...

किसान चैनलः बजट 45 करोड़ और ब्रांड एंबेसडर बने अमिताभ को मिले 6.31 करोड़!

किसानों के कल्याण के लिए हाल में शुरू हुए दूरदर्शन के किसान चैनल मामले में हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ है। बताया जा...
Don`t copy text!